पहले साहब से हरी स्याही से मार्किंग कराकर आओ फिर ऑनलाइन परीक्षा से मुक्ति पाओ, देखें वीडियो

पहले साहब से हरी स्याही से मार्किंग कराकर आओ फिर ऑनलाइन परीक्षा से मुक्ति पाओ, देखें वीडियो

Deepak Sahu | Publish: Jul, 04 2018 04:08:35 PM (IST) Raipur, Chhattisgarh, India

एक महिला कर्मचारी बोल रही है कि पांच नंबर कमरे में बैठे शर्मा साहब से मार्र्किंग करवा लाओ तो

दुर्ग. सोशल मीडिया में इन दिनों एक वीडियो वायरल हो रहा जिसमें एक महिला कर्मचारी बोल रही है कि पांच नंबर कमरे में बैठे शर्मा साहब से मार्र्किंग करवा लाओ तो आपको भी लाइन लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अगर आवेदन पर हरी स्याही से अर्जेट लिखा है तो लर्निग लाइसेंस के लिए ऑनलाइन परीक्षा देने की जरूरत भी नहीं।

खास बात यह है कि कमरा नंबर 5 में बैठने वाले साहब के हरे रंग की भाषा विभाग के बाबू बखूबी समझते हैं। क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में परिवहन विभाग के अधिकारियों ने चहेतों को सुविधा देने के लिए नया तरीका इजाद कर लिया है। इस शार्टकट प्रक्रिया से आरटीओ कार्यालय में नए व्यक्ति के लिए लर्निंग लाइसेंस बनवाना आसान हो जाता है। कार्यालय के काउंटर तक जाने की जरूरत ही नहीं पड़ती।

कर्मचारी पीछे के दरवाजा से उसे सीधे उस डिलिंग क्लर्क के पास ले जाते है जिसे ऑनलाइन परीक्षा लेने के लिए विभाग ने अधिकृत है। हरे रंग के पेन से लिखे अर्जेंट टीप को देखकर काउटर के सामने कतार पर खड़े लोगों की परवाह किए बिना कर्मचारी बिना सवाल जवाब के औपचारिकताएं पूरी कर देता है। लर्निंग व स्थाई लाइसेंस बनवाने के लिए हर रोज औसतन 50 लोग क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय आते हैं। ऑनलाइन फीस जमा करने के बाद उन्हें ऑन लाइन परीक्षा देनी होती है। ऑनलाइन परीक्षा पास होना जरुरी है। अगर परीक्षा में फे ल हुए तो विभाग दोबारा तैयारी कर आने के लिए नई तारीख देता है।

10 में से 6 का सही उत्तर
ऑन लाइन परीक्षा कौन बनेगा करोड़पति की तर्ज पर होता है। इस परीक्षा में 60 प्रतिशत अंक जरुरी है। 10 में से 6 प्रश्नों का सही उत्तर बताने पर साफ्टवेयर आगे के प्रोसिजर को लेता है। फेल होने पर प्रक्रिया वहीं रुक जाती है।

1 लाख लोग देख चुके हैं वीडियो
मामले का खुलासा सोशल मीडिया में वायरल जिस वीडियो से हुआ है उसे फेसबुक में एक दिन में एक लाख से अधिक लोग लाइक कर चुके हैं। इस वीडियो को लर्निंग लाइसेंस बनवाने के लिए परिवहन कार्यालय गए युवक ने बनाया है। उस युवक ने 29 जून को वीडियो बनाने के बाद अपने फेस बुक में २ जुलाई को अपलोड किया।


वीडियो बनाने वाले दीक्षित कालोनी नेहरु नगर भिलाई निवासी शहबाज खान (30 वर्ष) ने बताया कि लर्निंग लाइसेंस बनवाने के लिए उन्होंने ऑनलाइन 355 रुपए शुल्क जमा किया है। वह 29 जून को परीक्षा देने परिवहन कार्यालय गया था। जैसे ही वह काउंटर पर पहुंचा कमरे में एक कर्मचारी के साथ लड़की पहुंची। उसके दस्तावेज पर हरे रंग से अर्जेंट लिखा हुआ था, जिसे देखने के बाद परीक्षा लेने वाली महिला कर्मचारी पहले उसका काम करने लगी।

महिला कर्मचारी ने उस लड़की से सवाल भी नहीं पूछा और उत्तर को खुद ही टाइप कर दिया। सवाल जवाब करने पर उनका कहना था कि अगर कक्ष क्रंमाक पांच में बैठे शर्मा साहब हरे रंग से अर्जेंट लिख देते हैं तो वे उनका भी काम कर देंगी।

परिवहन विभाग के टीआई विकास शर्मा ने बताया कि कार्यालय में कई परिचित आते हैं, पहचान होने के कारण हम लोग केवल लाइन में खड़ा न कराकर सीधे क्लर्क के पास भेज देते हैं। इससे काम जल्दी हो जाता है। इसे जबरदस्ती तूल दिया जा रहा है। कही गड़बड़ी नहीं है। कार्यालय में सारा काम प्रक्रिया के तहत होता है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned