बॉलीवुड की पहली मेल-फीमेल म्यूजिकल जोड़ी सचेत-परंपरा ने रायपुर में कहा- होती है दोनों में अनबन

कबीर सिंह की बेखयाली से मिली सुर्खियां, जर्सी और बागी-3 में भी रहेगा इनका म्यूजिक

By: Tabir Hussain

Updated: 27 Feb 2020, 03:51 PM IST

ताबीर हुसैन @ रायपुर. बॉलीवुड में संगीतकारों की कई जोडिय़ां हैं जिन्होंने एक अलग मुकाम हासिल किया है। आज हम बात कर रहे हैं पहली मेल-फीमेल जोड़ी की जिन्होंने न सिर्फ फिल्म इंडस्ट्रीज बल्कि संगीतप्रेमियों में खास छाप छोड़ दी है। यह जोड़ी है सचेत-परंपरा। भिलाई के शंकराचार्य कॉलेज में परफॉर्म करने आए सचेत-परंपरा एम्स के पास सिंघानिया सरोवर पोर्टिको होटल में ठहरे थे। इस दौरान उन्होंने पत्रिका प्लस से खास बातचीत में अपनी जर्नी शेयर की। आपसी सामंजस्य के सवाल पर उन्होंने कहा- काम के चक्कर में ऊंच-नीच होती रहती है। डिस्कशन होते रहते हैं। अनबन भी होती है। जब आप कुछ क्रिएटिव करते हैं तो आप कभी गुंजाइश का मौका नहीं देना चाहते। उस चक्कर में केमेस्ट्री ही क्या फिजिक्स, बॉयो मैथ्स सभी स्ट्रांग होने पड़ते हैं। कबीर सिंह के बेखयाली में भी तेरा...सॉन्ग से इस जोड़ी ने को बॉलीवुड समेत संगीतप्रेमियों के बीच बड़ी पहचान मिली। इतना ही नहीं तान्हाजी का रारारा... असरदार साबित हुआ। मार्च में रिलीज होने वाली फिल्म बागी-3 में भी उनका संगीत सुनने को मिलेगा। इसके अलावा शाहिद कपूर की फिल्म जर्सी में वे म्यूजिक देंगे। इस जोड़ी ने कुछ फिल्मों में सिंगिंग भी की है।

बॉलीवुड की पहली मेल-फीमेल म्यूजिकल जोड़ी सतेच-परंपरा ने कहा- होती है दोनों में अनबन

5 साल से सीख रहा था संगीत

सचेत टंडन ने अपनी जर्नी शेयर करते हुए कहा कि हमारे घर में संगीत का कोई माहौल नहीं था। मैं और दीदी गाते थे। हमने एक साथ गुरु से सीखा। अपना बैंड बनाया। स्कूल में म्यूजिक पढ़ाया। रास्ते खुद ब खुद बनते जाते हैं। मैंने रियलिटी शो में बहुत पार्टिसिपेट किया है। सच कहूं तो मैं तंग आ गया था। मुझे लगता था इतना करने के बाद भी कोई एक्सपोजर नहीं मिला। जबकि मेरे पैरेंट्स और दीदी हमेशा मेरा मनोबल बढ़ाया करते थे। जब परंपरा से मैं मिला तो मेरी जिंदगी का आखिरी रियलिटी शो था। क्योंकि मैंने ठान लिया था कि अब लौटना है।

बॉलीवुड की पहली मेल-फीमेल म्यूजिकल जोड़ी सतेच-परंपरा ने कहा- होती है दोनों में अनबन

एनजीओ में सिखाती थी म्यूजिक

परंपरा ठाकुर ने बताया, हमें बचपन से ही संगीत की शिक्षा दी गई। हालांकि ये तय नहीं था कि करना क्या है, लेकिन सीखना सभी के लिए जरूरी था। मैंने एक एनजीओ में म्यूजिक पढ़ाया। इसके अलावा मेरी रुचि पढ़ाई में बहुत थी। मैंने दिल्ली के श्रीराम लेडी कॉलेज से पढ़ाई की है। वहां भी म्यूजिक का अच्छा इन्वॉलमेंट था। रियलिटी शो द वॉइस में सचेत से मुलाकात हुई। उस वक्त जरा भी अंदाजा नहीं था कि हम साथ काम करेंगे और इतनी फिल्मों में म्यूजिक भी देंगे।

बॉलीवुड की पहली मेल-फीमेल म्यूजिकल जोड़ी सतेच-परंपरा ने कहा- होती है दोनों में अनबन

नहीं कर पाऊंगी एक्टिंग

एक्टिंग के सवाल पर परंपरा ने कहा कि मैं बहुत बुरी एक्टर हूं। इसलिए मैंने इसके लिए कभी नहीं सोचा। म्यूजिक ही कर लें, ये बड़ी बात है। परंपरा की बात काटते हुए सचेत ने कहा कि फिल्म के लिए इसे ऑफर मिला है लेकिन ये बार-बार मना कर रही है।

बॉलीवुड की पहली मेल-फीमेल म्यूजिकल जोड़ी सतेच-परंपरा ने कहा- होती है दोनों में अनबन

डायरेक्टर के साथ कॉम्बिनेशन जरूरी

बेखयाली के हिट होने के सवाल पर सचेत कहते हैं, आजकल के जमाने में आप डायरेक्टर के साथ लगकर काम करो, जैसा मुझे लगता है पहले जमाने में लोग करते थे। यानी एक बेहतर समन्वय के साथ। हमने वही किया। शर्त है कि आप फिल्म से चिपककर गाने बनाओगे। ऐसा ही बेख्याली... जो कि बड़ा हिट हो गया। आप जब भी इस फिल्म को याद करेंगे तो यह सॉन्ग आपकी जुबान पर जरूर आएगा।

बॉलीवुड की पहली मेल-फीमेल म्यूजिकल जोड़ी सतेच-परंपरा ने कहा- होती है दोनों में अनबन
Tabir Hussain Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned