scriptsadko par jagah-jagah mveshiyo ka jmavda, bad rhe hadse | बलौदाबाजार सहित जिलेभर में रोका छेका अभियान का बुरा हाल, ट्रैफिक व्यवस्था चौपट | Patrika News

बलौदाबाजार सहित जिलेभर में रोका छेका अभियान का बुरा हाल, ट्रैफिक व्यवस्था चौपट

जिला न्यायालय से लेकर लवन रोड तथा रायपुर रोड पर खोरसी नाला तक के लगभग तीन से चार किमी के मुख्य मार्ग पर इन दिनों दर्जनों स्थानों पर मवेशी ही बैठे रहते हैं। कार्यालयीन तथा स्कूली समय यानी सुबह 10 बजे से 12 बजे तक तथा संध्या 4 बजे से 5 बजे तक तो मुख्य मार्ग का बेहद बुरा हाल होता है।

रायपुर

Published: July 21, 2022 04:26:29 pm

बलौदाबाजार। राज्य सरकार द्वारा भले ही रोका-छेका अभियान को प्राथमिकता से पूरा किए जाने के लक्ष्य निर्धारित किए जा रहे हैं, परंतु जिला मुख्यालय बलौदाबाजार में ना तो जिम्मेदार अधिकारियों में इस अभियान में किसी प्रकार की रुचि दिखाई दे रही है और ना ही बदहाल हो चुकी यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने में। जिसका परिणाम है कि बलौदाबाजार में ही शासन का रोका-छेका अभियान बुरी तरह से फेल होता हुआ नजर आ रहा है। नगर पालिका द्वारा तीन वर्ष पूर्व से नवीन कांजी हाउस का निर्माण कराया गया है, इसके बाद भी मुख्य मार्ग मवेशियों के बैठने के स्थायी ठिकाना बन चुके हैं। पशुमालकों द्वारा अपने मवेशियों को खुले में छोड़ दिए जाने के बाद नगर के इकलौते मुख्य मार्ग पर मवेशियों का डेरा होने से एक ओर जहां सडक़ दुर्घटनाएं बढ़ रही हैं, वहीं रात में चलने वाली हैवी वाहनों की चपेट में आकर मवेशियों की भी मौत हो रही है।
विदित हो कि जिला मुख्यालय बलौदाबाजार पहुंचने के लिए तीन प्रमुख मार्ग भाटापारा रोड, रायपुर रोड तथा कसडोल रोड हैं। बलौदाबाजार पहुंचने के लिए इन दिनों लोगों का सबसे पहले सामना मुख्य मार्ग पर बैठे मवेशियों से होता है। नगर के दर्जनों स्थानों पर मवेशियों के बैठे रहने से यातायात व्यवस्था चौपट हो रही है। वहीं, दूसरी ओर राज्य सरकार द्वारा गरवा, नरवा, घुरवा, बाड़ी योजना के मुख्य केन्द्र गरवा यानी मवेशियों के लिए जिले की सडक़ें इन दिनों मौतगाह साबित हो रही हैं। कृषि कार्यों की वजह से बरसात होते ही खेतों में फसल का कार्य प्रारंभ हो जाता है, जिसकी वजह से नगर के इकलौता मुख्य मार्ग समेत जिले के अन्य मुख्य मार्ग ही मवेशियों का ठिकाना बन गए हैं।
जिला न्यायालय से लेकर लवन रोड तथा रायपुर रोड पर खोरसी नाला तक के लगभग तीन से चार किमी के मुख्य मार्ग पर इन दिनों दर्जनों स्थानों पर मवेशी ही बैठे रहते हैं। कार्यालयीन तथा स्कूली समय यानी सुबह 10 बजे से 12 बजे तक तथा संध्या 4 बजे से 5 बजे तक तो मुख्य मार्ग का बेहद बुरा हाल होता है। इस मार्ग से ही जिले के बड़े जिम्मेदार अधिकारी तथा जनप्रतिनिधि भी गुजरते हैं तथा उन्हे भी सडक़ पर बैठे मवेशियों की वजह से परेशान होना पड़ता है। बावजूद आज तक समस्या का हल नहीं निकाला गया है। वर्तमान वर्षा ऋतु में शाम को स्ट्रीट लाइट बंद होने, बिजली गुल होने पर कई दो पहिया चालक, साइकिल चालक मवेशियों से टकराकर चोटिल हो रहे हैं। वहीं, देर रात नगर के मुख्य मार्ग से तेज रफ्तार से गुजरने वाले हैवी वाहनों की चपेट में आने से भी मवेशियों की मौत भी हो रही है।
पूरे जिले का हाल बेहाल
राज्य सरकार मवेशियों के लिए पुख्ता इंतजाम करने की योजना बना रही है। वहीं, दूसरी ओर जिला मुख्यालय बलौदाबाजार समेत जिले के सिमगा से लेकर सरसींवा तक संबंधित नगर पालिका, नगर पंचायत, ग्राम पंचायतों द्वारा मवेशियों के लिए आज तक किसी प्रकार का इंतजाम नहीं किया गया है। जिसके चलते मुख्य मार्ग राज्य मार्ग क्रमांक 10 मवेशियों का अड्डा बन चुका है। इस पूरे मार्ग पर दर्जनों स्थानों पर मवेशियों की वजह से बीते कुछ दिनों से यातायात व्यवस्था प्रभावित हो रही है।
कांजी हाउस में पूर्ण इंतजाम नहीं
बलौदाबाजार नगर पालिका ने नगर के भैंसापसरा इलाके में दो-तीन वर्ष पूर्व लगभग 22 लाख रुपए से नवीन कांजी हाउस का निर्माण कराया है। बावजूद इसके नगर पालिका ने इस स्थान पर मवेशियों को रखने की उचित व्यवस्था आज तक नहीं की है। हास्यास्पद स्थिति है कि एक ओर नगर पालिका के नवनिर्मित कांजी हाउस में जहां इक्का-दुक्का मवेशी रहते हैं, वहीं नगर की सडक़ों पर सैकड़ों मवेशियों का डेरा रहता है।
पशुमालिकों को सजा मिले
नगर के बुद्धिजीवियों ने पशुस्वामियों के खिलाफ भी कार्रवाई किए जाने की मांग करते हुए बताया कि पशुस्वामी की क्रूरता की वजह से जानवरों को सडक़ों पर छोड़ दिया जाता है। जिससे नगर की यातायात व्यवस्था चौपट हो रही है, वहीं हैवी वाहनों की चपेट में आने से पशुओं की भी बेमौत मृत्यु हो रही है। मुख्य मार्ग में पशुओं को छोडऩे वाले पशुस्वामी को भी सजा दिया जाना आवश्यक है।
बलौदाबाजार सहित जिलेभर में रोका छेका अभियान का बुरा हाल, ट्रैफिक व्यवस्था चौपट
बलौदाबाजार सहित जिलेभर में रोका छेका अभियान का बुरा हाल, ट्रैफिक व्यवस्था चौपट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Political Crisis Live Updates: नीतीश कुमारः हम सात पार्टियां साथ मिलकर बिहार की सेवा करेंगे, राज्यपाल को सरकार बनाने का दावा पेश किया हैBihar New Govt: नीतीश कुमार CM, डिप्टी CM व होम मिनिस्ट्री राजद के पाले में, कांग्रेस से स्पीकर बनाए जाने की चर्चाBihar Politics: 2024 में नीतीश कुमार नहीं होंगे विपक्ष के पीएम उम्मीदवार, कांग्रेस नेता ने ट्वीट कर खोला राज'मुफ्त रेवड़ी' कल्चर मामले में सुप्रीम कोर्ट में आमने-सामने AAP और BJP, आम आदमी पार्टी ने कहा- PM मोदी ने 'दोस्तवाद' के लिए खाली किया देश का खजानाMaharashtra Cabinet Expansion: कौन है सीएम शिंदे की नई टीम में शामिल 18 मंत्री? तीन पर लगे है गंभीर आरोपJharkhand News: रांची के बुंडू में सड़क हादसा, ट्रक ने छात्राओं को रौंदा, 3 बच्चों की मौत, 1 घायलबिहार बीजेपी अध्यक्ष संजय जायसवाल का आरोप, नीतीश कुमार ने NDA और BJP को धोखा दियाMaharashtra: सीएम एकनाथ शिंदे अपनी ‘मिनी’ टीम का सितंबर में करेंगे विस्तार, सामने आई यह बड़ी अपडेट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.