सालासर बालाजी को सवामणी छप्पन भोग अर्पित, भजन गंगा में झूमे श्रद्धालु

सुप्रसिद्ध भजन गायकों ने बांधा समा, महोत्सव का समापन

By: VIKAS MISHRA

Updated: 18 Feb 2020, 01:49 AM IST

रायपुर. सालासर बालाजी धाम पूजा-अर्चना तथा भक्तिपूर्ण स्वर लहरियों से सराबोर रहा। महोत्सव के दौरान पूजा, अभिषेक आरती कर श्रद्धालुओं ने 1001 सवामणी प्रसाद भोग, छप्पन भोग अर्पित किया, जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हुई। इसके साथ ही देर रात तक हनुमते की महिमा से ओतप्रोत भजनों पर श्रद्धालु जयकारे लगाते हुए झूमे।
बालाजी मंदिर सेवा समिति की ओर से आयोजित भव्य महोत्सव के दूसरे दिन सुप्रसिद्ध भजन गायक सुखबीर सिंह लक्खा की टीम सभा मंच पर पहुंची तो जयकारे लगाकर स्वागत किया। सेवा समिति के अध्यक्ष सुरेश गोयल, उत्सव प्रभारी ईश्वर प्रसाद अग्रवाल ने हनुमते से अंकित दुपट्टा ओढ़ाकर मंच पर सुप्रसिद्ध भजन गायक का सम्मान किया। इसके साथ ही भजन गंगा जो शुरू हुई तो फिर देर रात तक श्रोताओं से पंडाल खचाखच भरा रहा। भगवान बालाजी को सवामणी का भोग लगाने के लिए हर मंगलवार को व्यवस्था की गई है। मन्नते करने और बच्चों का मुंडन कराने पहुंचते है।
हनुमते की महिमा भजनों में पिरोया, सेवा समिति ने किया सम्मान
वार्षिक महोत्सव के प्रचार-प्रसार प्रभारी कर्तव्य अग्रवाल ने बताया कि सुप्रसिद्ध गायक लक्खा ने प्रस्तुति से मंत्रमुग्ध किया। सालासर बालाजी की महिमा को भजनों में पिराया तथा सत्संग में बताया कि सच्चे मन से बालाजी का सुमिरन करने मात्र से सभी मनोकामना पूर्ण होती हैं। भजन गंगा में बालाजी की भजनों के साथ ही भोलेबाबा, श्याम प्रभु, मातारानी और विघ्नहर्ता की भक्तिपूर्ण प्रस्तुति पर श्रद्धालु देर रात तक जमे रहे। सेवा समिति के पदाधिकारियों, अग्रवाल समाज के वरिष्ठ रामजी लाल अग्रवाल, सियाराम अग्रवाल, चतुर्भुज अग्रवाल, राजेश अग्रवाल, गणेश अग्रवाल, रामअवतार अग्रवाल, प्रमोद जैन सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भजन गंगा का आनंद लिया। इसके साथ महोत्सव का समापन हुआ।

VIKAS MISHRA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned