गरीबों को राहत देने शासन द्वारा भेजे गए राशन में सेल्समेन ने की गड़बड़ी


जांच में 89 क्विंटल कम मिला चावल, गरीबों को देना था दो माह का राशन, एक माह का देकर चलता कर दिया

By: ashok trivedi

Published: 18 Apr 2020, 05:03 PM IST


कसडोल. कोरोना वायरस संक्रमण के चलते शासन द्वारा हितग्राहियों के लिए भेजे गए चावल और मिट्टी तेल को बिलारी (क) के सेल्समैन ने डकार लिया। लोगों के राशनकार्ड में दो माह के वितरण करने लिख दिया है और उन्हें केवल एक माह का सामान वितरण किया गया है। इस बात की शिकायत पर पहुंचे एसडीएम को शिकायत सही मिला और उन्हें दुकान में 89 क्विंटल चावल कम मिला और मिट्टी तेल मिला ही नहीं। एसडीएम ने दुकान के सेल्समैन एवं संचालक के प्रति कड़ी कार्यवाही करने की बात कही है ।
कोरोना वायरस संक्रमण से जूझ रहे लोगों को राशन सामग्री की कमी न हो इसके लिए शासन द्वारा एक साथ दो माह का राशन सहकारी उचित मूल्य की दुकानों में भेजा गया है। शासन के निर्देश के अनुसार उचित मूल्य की दुकानों में एक साथ दो माह का चावल, मिट्टी तेल और शक्कर वितरण किया जा रहा है, लेकिन कुछ दुकानों के सेल्समैन द्वारा संकट से निपटने गरीबों एवं जरूरत मन्द लोगों के लिए भेजे गए राशन सामग्री वितरण में गड़बड़ी किए जाने की भी शिकायतें भी मिल रही है।
इसी प्रकार ग्राम पंचायत बिलारी (क) के सरपंच सुनीता अजय शर्मा सहित ग्रामीणों ने सेल्समैन द्वारा राशनकार्ड में दो माह का वितरण दर्ज करने और मात्र एक माह का राशन वितरण करने की शिकायत हमारे कसडोल प्रतिनिधि से की मामले की तस्दीक करने जब हमारे प्रतिनिधि सहकारी उचित मूल्य की दुकान बिलारी (क) पहुंचे तब दुकान में शटर लगा हुआ था। आसपास के ग्रामीणों ने बताया कि दुकान से 7 अप्रेल को राशन वितरण करने के बाद से दुकान में ताला बन्द हैं।
एक माह राशन दिया
ग्रामीणों ने बताया कि सेल्समैन ने उन्हें मात्र एक माह अप्रैल का राशन दिया है तथा इस माह का आवंटन नहीं मिलने की बात करता है। इस बात की जानकारी एसडीएम टीसी अग्रवाल को दिए जाने पर नायब तहसीलदार श्रीधर पण्डा, खाद्य निरीक्षक आरएन साहू के साथ तत्काल ग्राम बिलारी (क) के सहकारी उचित मूल्य की दुकान पहुंचे और गांव में मुनादी करा कर ग्रामीणों को बुलाकर बयान लिए तब ग्रामीणों ने उन्हें सेल्समैन द्वारा मात्र एक माह का ही राशन सामग्री दिए जाने की बात कही।
निरीक्षक : दुकान में मात्र 2.50 क्विंटल चावल मिला
एसडीएम द्वारा दुकान का भौतिक सत्यापन कराए जाने पर 80.40 क्विंटल चावल कम पाया गया। इसके अलावा 22 लोगों की फोटो खींचे बिना ही 8.50 क्विंटल चावल वितरण किया जाना बताया, लेकिन टेबलेट में दर्ज नहीं है। इस प्रकार कुल 88.90 क्विंटल चावल कम पाया गया। खाद्य निरीक्षक के अनुसार दुकान में मात्र 2.50 क्विंटल चावल, दो क्विंटल शक्कर मिला। जबकि केरोसिन (मिट्टी तेल) बिल्कुल नहीं मिला। इस तरह सेल्समैन द्वारा राशन सामग्री हितग्राहियों को वितरित करने के बजाए गड़बड़ी किए जाने का संदेह है। सेल्समैन ने चावल कम होने का कारण ग्राम पंचायतों को कोरोना राहत के लिए दिए जाने की बात बताई। इस सम्बंध में ग्राम पंचायत बिलारी (क) के सरपंच सुनीता अजय शर्मा और बैगनडबरी के सरपंच दुर्गा ऋषि साहू ने केवल दो-दो क्विंटल कुल 4 क्विंटल प्राप्त होना बताया।
ग्रामीणों के अनुसार सोसायटी का संचालन श्रीराम महिला स्व सहायता समूह के द्वारा किया जा रहा है तथा जब से संचालित कर रहा है तब से अनेकों हितग्राहियों के राशन वितरण में इसी तरह की गड़बड़ी की जा रही है। राशन में गड़बड़ी का मामला एसडीएम न्यायालय में विचाराधीन भी है। कोरोना संकट से निपटने शासन द्वारा भेजे गए राशन वितरण में धांधली किए जाने पर सेल्समैन को फटकार लगाते हुए एसडीएम ने दुकान संचालकों तथा सेल्समैन के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने की बात कही।

ashok trivedi Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned