Sawan 2021 : सावन में चाहिए भगवान भोलेनाथ का आशीर्वाद तो ध्यान में रखें ये बातें

- देवों के देव महादेव के प्रिय श्रावण मास (sawan somwar 2021) की शुरुआत 25 जुलाई रविवार से हो रही है। श्रावण मास का आरंभ श्रवण नक्षत्र से हो रहा है।

By: Bhupesh Tripathi

Published: 23 Jul 2021, 07:03 PM IST

रायपुर। सावन का महीना (sawan somwar 2021) भगवान शिव को अत्यंत प्रिय माना जाता है। इस साल सावन 25 जुलाई से शुरू हो रहा है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सावन के महीने में भगवान शिव (Loard Shiva) और माता पार्वती की विधि-विधान से पूजा करने भक्त की मनोकामना पूरी होती है। इसके साथ ही सावन के सोमवार व्रत रखने से भोलेनाथ की विशेष कृपा प्राप्त होती है। शास्त्रों में सावन के मास को विशेष माना गया है।

सावन मास का पहला सोमवार 26 जुलाई 2021 को है। इस दिन भगवान शिव की विशेष पूजा की जाती है। शिव भक्त इस दिन व्रत रखकर भगवान शिव की उपासना करते हैं। मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव को उनकी प्रिय चीजों का भोग लगाना चाहिए और अभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने से सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

READ MORE : विधानसभा सत्र : 90 में से 16 विधायक 300 सवालों के क्लब में शामिल

सावन में कब सोमवार देखें पूरी लिस्ट

पहला सावन सोमवार व्रत- 26 जुलाई 2021
दूसरा सावन सोमवार व्रत- 2 अगस्त 2021
तीसरा सावन सोमवार व्रत- 9 अगस्त 2021
चौथा सावन सोमवार व्रत-16 अगस्त 2021

सावन माह में भगवान शिव की पूजा विधि

- सुबह जल्दी उठ जाएं और स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ वस्त्र धारण करें।
- घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
- सभी देवी- देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें।
- शिवलिंग में गंगा जल और दूध चढ़ाएं।
- भगवान शिव को पुष्प अर्पित करें।
- भगवान शिव को बेल पत्र अर्पित करें।
- भगवान शिव की आरती करें और भोग भी लगाएं।
- भगवान शिव का अधिक से अधिक ध्यान करें।

READ MORE : ACB की बड़ी कार्रवाई: शिक्षा विभाग का अफसर 50 हजार की ले रहा था घूस तो बिलाईगढ़ BEO ऑफिस का बाबू 15 हजार की रिश्वत लेते पकड़ाया

सावन मास व्रत नियम

- मान्यता है कि सावन महीने में मास-मंदिरा का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए।
- इस महीने वाद-विवाद से भी बचना चाहिए। घर-परिवार में स्नेह बना रहना चाहिए।
- सावन महीने में लहसुन और प्याज के सेवन करने की मनाही होती है।
- इसके अलावा मसूर की दाल, मूली, बैंगन आदि के सेवन की भी मनाही होती है। शास्त्रों में बासी और जले हुए खाने को तामसिक भोजन की श्रेणी में रखा गया है।
- शास्त्रों के अनुसार, सोमवार का व्रत बीच में नहीं छोड़ना चाहिए। अगर आप व्रत रखने में असमर्थ हैं तो भगवान शिव से माफी मांग कर ना करें।

READ MORE : नशे में धुत युवतियां कर रहीं थीं कॉलोनी में हंगामा, चार के खिलाफ मामला दर्ज

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned