ग्रामीण एवं पंचायत विभाग में नौकरी में करने का सपना देख रहे युवक को ठगों ने लगाया लाखों का चूना, FIR दर्ज

नरेश उसके झांसे में आ गया। इसके एवज में प्रारंभ में आरोपी ने तीन लाख रुपए की मांग की। नरेश ने अलग-अलग किस्तों में उसे तीन लाख रुपए दे दिया। इसके बाद भी काम नहीं हुआ, तो आरोपी ने 1 लाख 20 हजार रुपए की और मांग की।

By: Karunakant Chaubey

Published: 01 Mar 2020, 08:02 PM IST

रायपुर. सरकारी नौकरी के लालच में एक युवक धोखाधड़ी का शिकार हो गया। ग्रामीण एवं पंचायत विभाग में नौकरी लगवाने के नाम पर उससे धोखा किया गया। इसकी शिकायत पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया है। आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

13 साल की बेटी ने बयां की कलयुगी बाप की शर्मनाक करतूत, कहा- पापा अक्सर धमकी दे कर मेरे साथ गन्दा काम

पुलिस के मुताबिक सेजबहार निवासी नरेश कुमार देवांगन की बी ईश्वर राव से दोस्ती थी। नरेश कुमार व्यावसायिक परीक्षा मंडल की विभिन्न परीक्षाओं की तैयारी भी कर रहा था। इस दौरान बी ईश्वर राव ने उसे ग्रामीण एवं पंचायत विभाग में विस्तार अधिकारी की नौकरी लगवाने का आश्वासन दिया।

नरेश उसके झांसे में आ गया। इसके एवज में प्रारंभ में आरोपी ने तीन लाख रुपए की मांग की। नरेश ने अलग-अलग किस्तों में उसे तीन लाख रुपए दे दिया। इसके बाद भी काम नहीं हुआ, तो आरोपी ने 1 लाख 20 हजार रुपए की और मांग की। नरेश ने इसका भी इंतजाम किया और उसे एनईएफटी के जरिए अलग-अलग किस्तों में पूरी राशि दी।

इसके बाद 4 सितंबर 2019 को ग्रामीण एवं पंचायत विभाग में चयनित अभ्यर्थियों की सूची जारी हो गई। इसमें नरेश का नाम नहीं था। नरेश ने आरोपी से इसकी शिकायत की। आरोपी ने उसे आश्वासन दिया कि 7 अक्टूबर को उसका अलग से नाम आएगा।

इसके बाद 7 अक्टूबर को भी उसका नाम नहीं आया। फिर नरेश ने आरोपी से पूछताछ की, तो उसने संतोषजनक जवाब नहीं दिया। और अंत में उसने पैसा देने से भी इनकार कर दिया। इसकी शिकायत उसने पुलिस में की। मामले की जांच के बाद गंज पुलिस ने बी ईश्वर राव के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया है।

ये भी पढ़ें: एक हप्ते के भीतर सोने-चांदी की कीमतों में भारी गिरावट, 43 हजार से नीचे आया सोना, चांदी भी हुई सस्ती

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned