गणेशोत्सव के गाइडलाइन से मूर्तिकारों को राहत, समितियां परेशान

समिति को रखना होगा रजिस्टर, समितियों को लगाने होंगे 4 सीसीटीवी कैमरे यदि कोई व्यक्ति मूर्ति स्थापना स्थल पर जाने के कारण होता है संक्रमित तो उसके इलाज का जिम्मा समिति को उठाना होगा .

By: Bhupesh Tripathi

Published: 31 Jul 2020, 04:56 PM IST

रायपुर. कोरोना संक्रमण काल के बीच 22 अगस्त से शुरू होने वाले गणेशोत्सव के संबंध में बुधवार को जिला प्रशासन ने गाइडलाइन जारी कर दिया,प्रशासन ने जो गाइडलाइन के तहत मूर्ति स्थापित करने वाले व्यक्ति अथवा समिति को रखना होगा रजिस्टर, समितियों को लगाने होंगे 4 सीसीटीवी कैमरे यदि कोई व्यक्ति मूर्ति स्थापना स्थल पर जाने के कारण होता है संक्रमित तो उसके इलाज का जिम्मा समिति को उठाना होगा कंटेंमेंट जोन में मूर्ति स्थापना की नहीं होगी अनुमति के चलते गणेशोत्सव समिति के सदस्यों में असमंजस की स्थिति उत्पन्न होने लगी है। वहीं, मुर्तिकारों को थोड़ी सी राहत महसूस हुआ है।

मुर्तिकार चित्रकार संघ के अध्यक्ष परम यादव ने गाइडलाइन करने पर प्रशासन का आभार जताते हुए कहा कि इससे हम सभी मूर्तिकारों के परिवारों को जीवन यापन करने में थोड़ा राहत मिली है। हमनेगाइडलाइन के तहत प्रतिमा का निर्माण शुरू कर दिया है। प्रशासन के निर्देशानुसार मूर्ति की ऊंचाई और चौड़ाई चार फीट तक रखा गया है। उन्होंने छोटी मूर्ति बाजार लगाने के लिए एक सप्ताह के लिए निगम से जवाहर बाजार में दुकान और जगह देने की मांग की। क्योकि सदर बाजार की जगह सकरी होने के कारण वहां भीड़ लग जाती है, जिससे कोरोना का संक्रमण बढऩे की आशंका ज्यादा है।

मुर्तिकार सुरेश प्रजापति ने बताया कि समितियों ने बड़ी मूर्ति बनाने का आर्डर दिया था, लेकिन हम प्रशासन के आदेश का इंतजार कर रहे थे और मूर्ति का निर्माण शुरू नहीं किया था। अब प्रशासन की गाइडलाइन जारी होने के बाद हमने समिति के सदस्यों की, तो उन्होंने चार फीट की मूर्ति बनाने के लिए कहा है, अब हम मूर्ति निर्माण का कार्य शुरू कर दिए है।

पंडाल के आकार को लेकर समितियों आक्रोश
पंडाल का आकार को लेकर गणेशोत्सव समिति के सदस्यों में भारी आक्रोश है। बजरंग नवयुवक गणेशोत्सव (गोलबाजार) के महासचिव राजा पंसारी का कहना है कि प्रशासन द्वारा जिस प्रकार से गाइडलाइन दिया गया है। उससे शहर में गणपति बैठाना मुश्किल है। गोल बाजार में करीब सौ साल से गणपतिजी की प्रतिमा बैठाई जा रही है। गणपति की प्रतिमा में सोने का मुकुट भी लगाया जाता है। चार फीट की मुर्ति में मुकुट नहीं लग पाएगा। हम सब समिति के सदस्य बैठक करके आगे की रणनीति बनाएंगे और प्रशासन से बड़ी मुर्ति बैठाने के लिए अनुमति देने की मांग करेंगे।

जय भोले गु्रप कालीबाड़ी समिति के अध्यक्ष परमजीत गौतम , किशन साहू ने बताया विगत पांच साल से कालीबाड़ी में सबसे बड़ी गणपति का हमारे समिति द्वारा बैठाते आ रहे है। हमारे समिति के संरक्षक महापौर एजाज ढेबर है। इस साल कोरोना संक्रमण के चलते हमारे समिति ने फैसला लिया है , छोटी प्रतिमा रखकर विधी विधान से पूजा करेगें ,साथ ही हमारे समिति के लोग जरुरत मंद लोगों की म² करेगें । हमारे पंडाल जहा लगता है वहा पर मरीजों के वाहन का पार्किग बनाया गया । जिससे जांच कराने वाले व्यक्तियों को वाहन रख रहे है।

श्रीश्री विनायक गणेशोत्सव समिति (प्रभात टॉकीज ) के अध्यक्ष ने कहा प्रशासन की गाइडलाइन के तहत गणपति बिठा संभव नहीं है। इसके बावजूद हम चार फीट की गणपति बैठाकर पूजा करेंगे । साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग व पंड़ाल के आसपास सेनिटाइजर स्प्रे का छिड़काव भी करेंगे।

नवरत्न मंडल (नयापारा ) के पदाधिकारियों ने कहा मंगलवार को बैठक के बाद फैसला लिया गया है, कोरोना संक्रमण के चलते बड़ी मुर्ति नहीं बैठाएंगे। छोटी सी प्रतिमा को रखकर सुबह शाम पूजा करेंगे ।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned