scriptSDM changed but could not transfer the babus | तबादला करने वाले एसडीएम बदल गए लेकिन नहीं कर पाए बाबुओं का ट्रांसफर | Patrika News

तबादला करने वाले एसडीएम बदल गए लेकिन नहीं कर पाए बाबुओं का ट्रांसफर

- बीते माह कलेक्टर ने जारी किया आदेश, अब तक माने नहीं

रायपुर

Published: December 18, 2021 09:15:13 am

रायपुर। तहसील में वर्षों से टिके बाबूओं को हटाने वाले एसडीएम का ही तबादला हो गया। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद कलेक्टर नें 12 नंवबर को सभी एसडीएम व तहसीलदारों को बाबुओं का तबादला करने का आदेश जारी किया था। इसके बाद तत्कालीन एसडीएम प्रणव सिंह नें बाबुओं की तबादला सूंची बनाई थी। इससे पहले की वो आदेश जारी कर पाते उनका खुदा का तबादला हो गया। इसके बाद भी जिले की किसी भी तहसील में बाबुओं का तबादला नहीं हो पाया है। ऐसा पहली बार नहीं हुआ है बीते दस साल में तीन बार पहले भी आदेश अलग-अलग कलेक्टरों नें जारी किया है। तत्कालीन कलेक्टर डॉ.एस भारतीदासन नें भी कलेक्टोरेट में 48 बाबुओं का स्थान परिवर्तन के दौरान तहसील में भी तबादला करने के लिए कहा था। उसी दौरान संभाग कमिश्नर ने मार्च-2019 में ही सभी बाबुओं के विभाग बदलने के निर्देश दिए थे। उस दौरान भी सिर्फ आदेश ही जारी किया गया था। अब नए एसडीएम देवेंद्र पटेल को बनाया गया है लेकिन बाबुओं की तबादला सूंची ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है।

transfer.jpg

निजी सहायकों का वेतन, बाबुओं की अवैध कमाई से
बतादें कि वर्षों से स्थान नहीं बदलने के कारण रायपुर तहसील में बाबूओं की मनमानी चरम पर है। बाबुओं को रसूख इस कदर हावी है कि तहसीलदार और नायब तहसीलदार उन्हीं मामले में फैसला सुनाते हैं जिनमें बाबुओं की सहमति होती है। खुद के दो-दो निजी सहायक इतना ही नहीं सभी बाबुओं नें खुद के दो-दो निजी सहायक रखे हैं। इनका वेतन भी बाबुओं द्वारा खुद की ऊपरी कमाई से किया जाता है। ये बाबू इसी ऊपरी कमाई के लिए तहसील में तयशुदा सिटीजन चार्टर का भी पालन नहीं करते।

यह है आदेश

तहसील कार्यालय में ऐसे 9 बाबू हैं जो बीते 7 से 8 वर्षों से एक ही कार्य का प्रभार संभाल रहे हैं। नामांतरण और डायवर्सन का काम देखने वाले बाबू अपना एकाधिकार समझकर लोगों परेशान कर रहे हैं। नियम के मुताबिक नियुक्तियों और तबादले में एक अधिकारी को एक ही जगह पर तीन वर्ष से ज्यादा कहीं नहीं रखा जा सकता। वहीं, रायपुर तहसील के बाबूओं के मामले में इस नियम की धज्जियां उड़ा कर रख दी गई हैं।

सूची तैयार नहीं हो पाया तबादला
कलेक्टर नें एसडीएम और तहसीलदारों को आदेश दिया था कि ऐसे लिपिकों की सूची तैयार कर लें, जिन्हें एक ही जगह पर ढाई से तीन साल हो गए हैं। सूची तैयार होने के साथ ही इन लिपिकों का प्रभार बदला जाए। अहम बात यह है कि कलेक्टर के आदेश के बाद भी तहसील कार्यालय में बाबुओं सूची बन गई थी तबादला नहीं हुआ।

1. सुशील डड़सेना -10 साल से 2. महेंद्र ठाकुर -12 साल से 3. राकेश चारवा - 5 साल से, 4. सज्जन सिंह ठाकुर -5 साल से, 5. संजू शर्मा - 4 साल से। 6. अजय तिवारी -5 साल से। 7. भगत अवधिया -5 साल से। 8. शेखर ठाकुर -5 साल से। 9. अशोक गोस्वामी -8 साल से।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

महाराष्ट्रः सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी के 12 विधायकों का निलंबन किया रद्द, बताया असंवैधानिकCorona cases in india: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2.51 लाख केस, 627 की मौत, नए मामलों में 12% की कमीUP Assembly Elections 2022 : अमित शाह की अखिलेश यादव को खुली चुनौती, बोले- अगर हमारे मुकाबले 10 फीसदी भी काम किया तो जवाब देंटाटा की Air India आज से भरेगी उड़ान, इस तरह करेंगे यात्रियों का स्वागतRRB-NTPC: छात्र संगठनों का आज बिहार बंद का ऐलान, महागठबंधन ने भी किया समर्थन, पड़ोसी राज्यों में अलर्टजमाव बिंदू के पास पहुंचा पारा, जमी ओस की बूंदेBudget 2022: इस बार टूटी परंपरा 'हलवा समारोह' की जगह मिठाई बांटीज्योतिरादित्य सिंधिया का जवाब-केपी यादव को लेकर कही ये बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.