SECL ने स्पंज आयरन फैक्ट्रियों पर बनाया एक साल का कोयला लेने का दबाव

साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (SECL) ने छत्तीसगढ़ की स्पंज आयरन फैक्ट्रियों पर पिछले साल का बैकलॉग कोयला लेने का दबाव बना दिया है, वहीं कोयला नहीं लेने पर पेनाल्टी की चेतावनी भी दी गई है।

By: Ashish Gupta

Published: 26 Jun 2020, 04:35 PM IST

रायपुर. साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (SECL) ने छत्तीसगढ़ की स्पंज आयरन फैक्ट्रियों पर पिछले साल का बैकलॉग कोयला लेने का दबाव बना दिया है, वहीं कोयला नहीं लेने पर पेनाल्टी की चेतावनी भी दी गई है। इस मामले में छत्तीसगढ़ स्पंज आयरन मैन्युफैक्चरिंग एसोसिएशन ने राज्य सरकार के उद्योग विभाग से मध्यस्थता करने की मांग की है।

एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने बताया कि कोरोना संकट के दौरान उद्योगों के बंद होने की वजह से ज्यादातर पावर प्लांट में 40 से 50 फीसदी कोयले की खपत हुई। एसईसीएल (South Eastern Coalfields Limited) के पास वर्तमान में सरप्लस कोयला हो चुका है। ऐसी स्थिति में स्थानीय स्पंज आयरन उद्योगों को बीते वर्ष अगस्त-सितंबर 2019 से लेकर जून 2020 तक का कोयला लेने का दबाव है।

एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल नचरानी ने बताया कि उद्योगपतियों ने इस मामले में बिलासपुर स्थित एसईसीएल के अधिकारियों को चिट्ठी लिखकर उद्योगों की वर्तमान समस्याओं से अवगत कराया है कि जो अभी इस हालत में नहीं है कि साल भर का कोयला एक साथ ले सके।

इधर, एसईसीएल के अधिकारियों का कहना है कि बैकलॉग का कोयला भी उद्योगों को लेना पड़ेगा। स्पंज आयरन एसोसिएशन का कहना है कि एसईसीएल से एक साथ कोयला लेने को लेकर यह तुगलकी फरमान है। इससे एक-एक उद्योगों पर करोड़ों का भार आएगा, जो कि इस स्थिति में किसी भी प्रकार से संभव नहीं है.

9 मिलियन टन है सालाना खपत
स्पंज आयरन उद्योगों में सालाना कोयले की खपत 8 से 9 मिलियन टन सालाना है। वहीं सबसे ज्यादा कोयला पॉवर प्लांट में उपयोग होता है। एसईसीएल के जरिए देशभर में 130 मिलियन से अधिक कोयला की सप्लाई होती है।

उद्योगपतियों का कहना है कि स्पंज आयरन उद्योगों में कोयले की आपूर्ति के लिए स्थानीय उद्योगों को विदेशों पर भी निर्भर रहना पड़ता है, लेकिन कोविड-19 के दौरान जब कोयले की खपत उद्योगों में कम हुई तब इसका भार अब स्पंज आयरन उद्योगों पर लादा जा रहा है।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned