आपस में जुड़ी हुई है अंतागढ़ टेप कांड और नान घोटाले की कड़ी, हुआ चौका देने वाला सनसनीखेज खुलासा

अंतागढ़ कांड की साजिश रचने के लिए नान घोटाले से अर्जित की गई रकम को खपाया गया था। इस सनसनीखेज जानकारी के सामने आने के बाद एसआईटी के अधिकारी भी चौंक गए हैं

By: Deepak Sahu

Published: 03 Mar 2019, 08:23 AM IST

रायपुर. अंतागढ़ कांड की साजिश रचने के लिए नान (नागरिक आपूर्ति निगम) घोटाले से अर्जित की गई रकम को खपाया गया था। इस सनसनीखेज जानकारी के सामने आने के बाद एसआईटी के अधिकारी भी चौंक गए हैं। बताया जाता है कि जांच के दौरान अधिकारियों के हाथ नान के लेनदेन से संबंधित डायरी का एक पेज मिला है। इसमें करीब 4 करोड़ रुपए का हिसाब मिला है।

यह राशि अलग-अलग किश्तों में जमा की गई है। पूरा हिसाब कोडवर्ड में लिखा जाना बताया जा रहा है। जानकारों का कहना है कि इसकी बारिकी से जांच करने पर पूरे मामले में नया मोड़ आ सकता है। अधिकारी यह जानकारी सामने आने पर जल्दी ही कुछ अन्य लोगों को पूछताछ के लिए बुलाने की तैयारी कर रही है। साथ ही सोशल मीडिया पर फिरोज सि²ीकी द्वारा जारी किए गए एक फुटेज में अंतागढ़ कांड में शामिल एक और बडे राजनीतिक हस्ती का चेहरा सामने आने की आशंका जताई जा रही है।

सूत्रों का कहना है कि नान घोटाले की जांच के दौरान यह पेज गायब कर दिया गया था। इसका उल्लेख तक तत्कालीन विवेचना अधिकारी द्वारा पेश किए चालान में भी नहीं किया गया था। यह जानकारी सामने आने के बाद एसआईटी की टीम इसकी भी जांच करने में जुटी हुई है। बता दें कि अंतागढ़ की साजिश रचने के लिए 7 करोड रुपए में सौदेबाजी का खुलासा फिरोज सि²ीकी ने किया था।

 

मुख्य गवाह के बयानों का परीक्षण
अंतागढ़ कांड के मुख्य गवाह फिरोज सि²ीकी और अमीन से एसआईटी की टीम को महत्वपूर्ण जानकारी मिल चुकी है। विभागीय अधिकारी इसका परीक्षण करने के साथ ही संबंधित लोगों से जानकारी जुटा रहे है। गौरतलब है कि एसआईटी की टीम अंतागढ़ कांड की सच्चाई सामने लाने के लिए दोनों गवाहों से बार-बार पूछताछ कर रही है।

रसूखदारों व अफसरों ने जुटाई रकम
सूत्रों के अनुसार, अंतागढ़ की साजिश के लिए 4 करोड़ रुपए दो रसूखदार कारोबारियों और दो अफसरों ने जुटाए थे। यह राशि किश्तों में कुछ लोगों को वितरित किया गया था। एसआईटी की टीम लेनदेन में शामिल होने वाले लोगों के खिलाफ पुख्ता साक्ष्य एकत्रित करने में जुटी हुई है।

बताया जाता है कि जांच के दौरान इसके लेनदेन का एक कागज भी एसआईटी के हाथ लगा है। इसमें एक बड़े बिल्डर, शराब माफिया और दो अफसरों के नाम लिखे हुए हैं। हालांकि, एसआईटी के अफसरों का कहना है कि इस मामले की अभी जांच चल रही है। जल्दी ही इसमें शामिल लोग सामने आएंगे।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned