रविवि के सर्वर में आई खराबी, एक परीक्षा के दो बार शुल्क दे रहे स्टूडेंट्स

बड़े विश्वविद्यालय पं रविशंकर शुक्ल में ऑनलाइन कार्य विद्यार्थियों के लिए मुसीबत बन गया है

By: Deepak Sahu

Published: 16 Jan 2019, 09:53 AM IST

रायपुर. प्रदेश के सबसे बड़े विश्वविद्यालय पं रविशंकर शुक्ल में ऑनलाइन कार्य विद्यार्थियों के लिए मुसीबत बन गया है। आलम ऐसा है कि सेमेस्टर परीक्षाओं के बाद अब मुख्य परीक्षाओं में भी परीक्षार्थियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मंगलवार को यह नजारा विवि परिसर में देखने को मिला। जहां सारे कार्य ऑनलाइन संपादित होने का दावा ठोंकने वाले प्रबंधन की नाक के नीचे ही सैकड़ों परीक्षार्थी कतार लगाए दिखे।

‘पत्रिका’ टीम से कुछ परीक्षार्थियों ने बताया कि उन्हें एक बार की जगह दो बार शुल्क का भुगतान करना पड़ा। बीएससी तृतीय वर्ष के छात्र यश तिवारी ने बताया कि सर्वर में खराबी की वजह से उन्हें निर्धारित शुल्क 1640 रुपए दो बार चुकाने पड़े।

कुछ इसी तरह की शिकायतें अन्य परीक्षार्थियों ने भी की। छत्तीसगढ़ कॉलेज से आए छात्र संघ पदाधिकारी आकाश लहरे ने बताया कि इसी तरह की समस्याएं देखने को मिल रही हैं। कुलसचिव सहित अन्य पदाधिकारी समस्याओं का निदान करना तो दूर, सीधे मुंह बात तक नहीं कर रहे हैं।

नहीं समझते अधिकारी : कुछ परीक्षार्थियों ने दो बार शुल्क कटने की समस्या को लेकर परीक्षा नियंत्रक आरएस केराम को घेर लिया। उन्होंने परीक्षार्थियों को हार्ड कॉपी के साथ परीक्षा शुल्क दो बार कटने बाबत आवेदन लिखने को कहा। वहीं, पत्रिका टीम से चर्चा में उन्होंने बताया कि ऑनलाइन कंपनी उन्हें अधिकारी ही नहीं समझते। ऐसे में 1.5 लाख से अधिक परीक्षार्थियों का दबाव अधिकारियों के लिए भी सिरदर्द बन गया है।

धैर्य रखें परीक्षार्थी
रविवि के जनसपंर्क अधिकारी सुपर्ण सेनगुप्ता ने बताया कि परीक्षार्थियों की परेशानियों को देखते हुए अंतिम तिथि 21 जनवरी तक बढ़ा दी गई है। थोड़ी समस्याएं हैं, जिन्हें दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। जिन परीक्षार्थियों के दो बार शुल्क कटें हैं, उन्हें आवेदन देना होगा और वापस हो जाएंगे।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned