महात्मा गांधी नहीं है हमारे राष्ट्रपिता, शंकराचार्य का यह बयान सुन सन्न रह गए लोग, देखें Video

महात्मा गांधी पुत्र की भांति ही राष्ट्र की सेवा की थी और उसे आजाद करवाने में अपनी सहभागिता प्रदान की।

By: चंदू निर्मलकर

Published: 09 Feb 2018, 03:43 PM IST

रायपुर . राजधानी पहुंचे द्वारका-शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रपिता नहीं हो सकते। भारत देश तो सदियों पहले ही जन्म ले चुका है तो इस लिहाज से गांधी पिता कैसे हो सकते हैं। गांधी को राष्ट्रपुत्र कहना ज्यादा उचित होगा। उन्होंने पुत्र की भांति ही राष्ट्र की सेवा की थी और उसे आजाद करवाने में अपनी सहभागिता प्रदान की।

Read More News: BREAKING: कोलकाता जाने वाली फ्लाइट में आई तकनीकी खराबी, यात्रियों में मचा हड़कंप

शंकराचार्य इन दिनों छत्तीसगढ़ प्रवास पर आए हुए हैं। राजिम कुंभ कल्प लौटने के बाद रायपुर में वे गुरुवार को मीडिया से मुखातिब हुए। शंकराचार्य ने अयोध्या में राममंदिर को लेकर भी तीखे शब्दों में बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि कोई भी सरकार आयोध्या में राममंदिर नहीं बना सकती। उनका कहना है क? मंदिर ?? निर्माण का काम भारत के चारों पीठों के पीठाधीश्वरों तथा दूसरे धर्मगुरुओं पर छोड़ देना चाहिए। उन्हें ही मंदिर निर्माण करने देना चाहिए। स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने रायपुर स्थित शंकराचार्य आश्रम में पत्रकारों से कहा कि रामजन्मभूमि सदा ने हिंदुओं की पूज्य रही है। वहां कभी मस्जिद थी ही नहीं।

Read More News: दर्दनाक : ट्रक का पहिया चढ़ा तो महिला के गर्भ से सड़क पर आ गिरा बच्चा, गईं 3 जिंदगियां

आगे कहा- मंदिर बनाने की बात होगी तो मुसलमानों से हमारी शत्रुता बनी रहेगी
शंकराचार्य ने कहा कि कारसेवकों द्वारा तोड़े जाने के पूर्व उस निर्माण में कसौटी पत्थर के चौदह खम्भे थे, जिनपर मंगल कलश उत्कीर्ण था। मस्जिद का कोई चिन्ह नहीं था, तो उसे मस्जिद कैसे कहा जा सकता है। उनका कहना है कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय में उन्होंने यह सिद्ध किया बाबर कभी अयोध्या नहीं गया। एेसे में रामजन्मभूमि को बाबरी मस्जिद कैसे मान लिया जाए।

शंकराचार्य ने कहा कि अगर मस्जिद तोड़कर मंदिर बनाने की बात होगी तो मुसलमानों से हमारी शत्रुता बनी रहेगी। लेकिन वहां पहले से ही मंदिर होने की बात मानने से उनको भी समझाया जा सकता है।

Show More
चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned