मई से जुलाई तक शादियों के लिए सिर्फ 18 शुभ मुहूर्त, थोड़ा अनलॉक होने से उम्मीदें जगीं

शादी सीजन के 34 शुभ मुहूर्त में से 16 तो लॉकडाउन (Lockdown) में ही बीत गए, क्योंकि बाजार पूरी तरह से शटडाउन थे। ऐसे में अब अनलॉक (Unlock) हुआ है और 18 दिन शुभ मुहूर्त के है।

By: Ashish Gupta

Published: 20 May 2021, 07:07 PM IST

रायपुर. गर्मी के तीन महीने अप्रैल, मई और जून में शहर हो या गांव-गांव सबसे अधिक शादी-ब्याह और उपनयन संस्कार हुआ करते थे। यह समय घर-परिवारों में उत्सव का पीक सीजन होता है, परंतु इस कोरोना ने विकट स्थितियां सबकी खुशियां काफूर कर दी। संकट का ही सामना हर किसी को करना पड़ा है।

ऐसे में जहां शादी सीजन के 34 शुभ मुहूर्त में से 16 तो लॉकडाउन (Lockdown) में ही बीत गए, क्योंकि बाजार पूरी तरह से शटडाउन थे। ऐसे में कुछ लोग ही 5 से 10 लोगों की मौजूदगी में विवाह संपन्न कर पाए। अब अनलॉक हुआ है और 18 दिन शुभ मुहूर्त (Shubh Vivah Muhurat) के है। इन्हीं दिनों में हर सेक्टर के बाजारों को कुछ अच्छा कारोबार हो जाने की उम्मीदें हैं।

यह भी पढ़ें: राहत की खबर: छत्तीसगढ़ में संक्रमण अब 10 प्रतिशत से कम, एक्टिव मरीज भी घटकर 90 हजार

सबसे अधिक रौनक होती थी इन बाजारों में
शादी सीजन (Wedding Season) में सबसे अधिक खरीदारी का माहौल सराफा, कपड़ा, ट्रेलरिंग, शृंगार, ब्यूटी पार्लर, मेहंदी, मिठाई, किराना दुकानों में कारोबार का होता था। लेकिन लॉकडाउन के कारण सब बंद होने के कारण काफी नुकसान पुरोहितों से लेकर हर सेक्टर के लोगों को उठाना पड़ा। क्योंकि शादी मुहूर्त के शुरुआती दौर में ही 9 अप्रैल को लॉकडाउन लग गया था, जो अब जाकर कुछ हद तक अनलॉक हुआ है।

पंडित-पुरोहित भी बेदम
शादी सीजन में पंडित-पुरोहितों की अच्छी आमदनी हो जाया करती थी, क्योंकि एक दिन में दो से दिन जगह शादियां कराने के लिए उन्हें न्योता मिलता था। परंतु उन्हें भी बीते साल जैसी स्थितियों से जूझना पड़ा। इस बार अप्रैल में 22 तारीख से मुहूर्त शुरू होने वाला था कि इससे पहले 9 अप्रैल से सख्त लॉकडाउन हो गया। जिसमें सबसे बड़ा अबूझ मुहूर्त अक्षय तृतीया भी शामिल था। केवल इस दिन ही 100 से 150 शादियां होती थीं।

यह भी पढ़ें: द्रोणिका का प्रभाव बेअसर: छत्तीसगढ़ में आग उगल रहा है सूरज, जानिए कैसा रहेगा आने वाला दिन

आखिरी मुहूर्त 3 जुलाई
महामाया मंदिर के पंडित मनोज शुक्ला के अनुसार इस सीजन में अब केवल 18 दिन ही शुभ मुहूर्त है। मई में 21, 22, 23, 24, 26, 29, 30, 31 तारीख और जून में 4, 5, 6, 18, 19, 20, 26, 27, 28 एवं 30 तारीख को है। जबकि जुलाई में आखिरी मुहूर्त 3 तारीख को है। इसलिए शहर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में कुछ दिन बाद शादी विवाह की रौनक बढ़ सकती है, क्योंकि बाजार खुल गए है, तो सामान खरीदने में दिक्कतें नहीं है। जुलाई में चातुर्मास के कारण मुहूर्त नहीं है। फिर नवंबर महीने देवउठनी एकादशी से शहनाई गूंजेगी।

अभी घर में ही शादी सिर्फ 10 लोगों की शर्तों पर अनुमति
25 मई के बाद से लेकर जून में शादियां करने के लिए लोग तहसील स्तर पर आवेदन दे रहे हैं। अफसरों के अनुसार पहले के आवेदन निरस्त कर दिए थे। नए आवेदन करीब 150 तक मिले हैं, जिसमें जून महीने के भी शामि हैं। रायपुर एसडीएम प्रणव सिंह के अनुसार अनुमति केवल घर में विवाह संपन्न करने और 10 लोगों के शामिल होने की शर्त पर ही देने का निर्णय लिया जाएगा। किसी मैरिज पैलेस, सामाजिक भवन, होटलों में अभी पूरी तरह से पाबंदी है।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned