नए सरकार आने से पहले SIB ने जलाए 15 साल के खुफिया दस्तावेज, मचा हड़कंप

नए सरकार आने से पहले SIB ने जलाए 15 साल के खुफिया दस्तावेज, मचा हड़कंप

Deepak Sahu | Publish: Dec, 14 2018 08:23:25 AM (IST) | Updated: Dec, 14 2018 08:23:26 AM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

सत्ता परिवर्तन के बाद अचानक दस्तावेजों को जलाए जाने के लेकर हडक़ंप मच गया है

रायपुर. प्रदेश में नई सरकार के सत्ता संभालने से ठीक पहले राज्य आसूचना ब्यूरो (एसआइबी) के अफसरों ने पिछले 15 वर्षों के दौरान तैयार कई खुफिया रिपोर्टों को जला दिया है। सत्ता परिवर्तन के बाद अचानक दस्तावेजों को जलाए जाने के लेकर हडक़ंप मच गया है। गुरुवार को एक सुनसान मैदान में एसआइबी के कर्मचारियों ने इस घटना को अंजाम दिया। उस समय डीएसपी स्तर के अधिकारी वहां मौजूद थे।

जलाए गए दस्तावेजों में कई महत्वपूर्ण रिपोर्टें भी शामिल थीं। इसे एसआइबी ने राज्य सरकार के निर्देश पर तैयार किया था। पिछले 15 वर्षों में झीरमघाटी कांड, इंदिरा प्रियदर्शनी बैंक घोटाला, चिटफंड घोटाला और नागरिक आपूर्ति निगम में हुआ घोटाला शामिल है। इन सभी घोटालों को लेकर खुफिया विभाग द्वारा रिपोर्ट तैयार की गई थी।

जलाने पर दी सफाई
मौके पर मौजूद अफसरों ने बताया कि उन्होंने पुराने और अनुपयोगी कागजों को ही जलाया है। इनको जलाने के आदेश डेढ वर्ष पहले ही हो चुके थे, उनकी छंटाई में देरी हुई। जरूरी दस्तावेजों को सुरक्षित रूप से रखने के बाद अन्य कागजों को जला दिया गया है।

डीआइजी इंटेलिजेंस एसएस शोरी ने बताया कि विभाग के दस्तावेजों को जलाए जाने की जानकारी मिली है। इस संबंध में जिम्मेदार अफसर और कर्मचारियों से रिपोर्ट मांगी गई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned