बड़ी राहत: छत्तीसगढ में 8 महीने बाद कोरोना से मौतों का सिलसिला टूटा

- बड़ी राहत : 29 मई को हुई थी पहली मौत
- 27 जनवरी का दिन बहुत राहत वाला रहा
- 26 जनवरी को भी एक ही मौत का रिकॉर्ड दर्ज

By: Ashish Gupta

Published: 28 Jan 2021, 04:09 PM IST

रायपुर. प्रदेश में कोरोना संक्रमण के लिहाज से 27 जनवरी का दिन बहुत राहत वाला रहा। जून-जुलाई के दिनों के बाद यह पहला अवसर है जब राज्य में कोरोना से एक भी मौत नहीं हुई। या कहें कि जिलों से राज्य कोरोना कंट्रोल एंड कमांड सेंटर को मौत की कोई सूचना नहीं भेजी गई। 26 जनवरी को भी एक ही मौत का रिकॉर्ड दर्ज है।

कोरोना आया तो हेल्थ वर्कर्स ने लगाई जान की बाजी, लेकिन टीका लगवाने करनी पड़ रही सख्ती

जानकारी के मुताबिक 40 वर्षीय मृतक जांजगीर-चांपा का रहने वाला था, जिसे सेप्सिस पल्मोनरी ट्यूबरक्लोसिस था। जिसे 31 दिसंबर को भर्ती करवाया था। 26 जनवरी को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। बता दें कि प्रदेश में पहली मौत 29 मई को हुई थी। बिरगांव निवासी एक मजदूर को 26 मई को रायपुर के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। 3 दिन इलाज के बाद उसकी मौत हो गई थी। इसके बाद जो सिलसिला शुरू हुआ वह 26 जनवरी तक जारी रहा।

बीते 24 घंटे में प्रदेश में 439 लोगों में कोरोना संक्रमण की पहचान हुई। जिनमें सर्वाधिक 96 मरीज रायपुर में मिले। जबकि 427 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे। अब सिर्फ 4,513 एक्टिव मरीज रह गए हैं। बीते कई दिनों से प्रदेश में रोजाना मिलने वाले मरीजों की संख्या 500 के अंदर सिमट गई है तो जिलों में भी 100 से कम मरीज रिपोर्ट हो रहे हैं।

छत्तीसगढ़ में कोरोना के अचानक मिले 6,000 मरीज, अब कुल संक्रमित 3 लाख के पार

स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता एवं संभागायुक्त डॉ. सुभाष पांडेय ने कहा, 27 जनवरी को मौत की कोई सूचना जिलों से प्राप्त नहीं हुई है। यह निश्चिततौर पर बड़ी बात है। अगर, समय पर लोग टेस्ट करवा लें तो मौतों को रोका जा सकता है।

200 से अधिक मौतों वाले जिले
रायपुर 766
दुर्ग 611
रायगढ़ 304
जांजगीर चांपा 227
बिलासपुर 213
439 मरीज मिले

कुल संक्रमित- 2,97,868
एक्टिव- 4,513
डिस्चार्ज- 2,89,708
मौतें- 3,647

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned