Raksha Bandhan: रक्षाबंधन के दिन जेल में भाइयों से वीडियो कॉलिंग और फोन पर बात कर सकेंगी बहनें

रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) का त्यौहार भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है। हर साल इस दिन जेल में बंद कैदियों को उनकी बहने राखी बांधने जेल जाती हैं, लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार जेल में बहनें अपने भाइयों से मिल नहीं पाएंगी।

By: Ashish Gupta

Published: 01 Aug 2020, 04:26 PM IST

रायपुर. रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) का त्यौहार भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है। हर साल इस दिन जेल में बंद कैदियों को उनकी बहने राखी बांधने जेल जाती हैं, लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार जेल में बहनें अपने भाइयों से मिल नहीं पाएंगी। रक्षाबंधन के मौके पर जेल में बंद कैदियों को उनकी बहनों से वीडियो कॉलिंग और फोन पर बात करने की छूट दी जाएगी। वैश्विक महामारी कोविड-19 के फैलते संक्रमण को देखते हुए यह फैसला लिया गया। किसी को भी जेल में मुलाकात नहीं करने दिया जाएगा।

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने बहनों और भाइयों के प्रेम को समझते हुए इसकी वैकल्पिक व्यवस्था के लिए एडीजी जेल को निर्देशित किया है। गृहमंत्री ने कहा है कि जेलों में वीडियो कालिंग और फोन के माध्यम से बंदियों को उनकी बहनों से बात कराने की व्यवस्था की जाए जिससे बहनें अपने भाइयों से रक्षाबंधन के दिन बात कर सकें।

गृहमंत्री ने यह भी कहा है कि यदि जेल प्रबंधन के पास पोस्टल डाक के द्वारा भेजी गई राखियां प्राप्त होती हैं तो उसे जेल के अंदर पहुंचा दिया जाए। साहू ने कहा कि भाई बहन के इस त्यौहार से लोगों की जो भावना जुड़ी है उसे हम समझते हैं और उसका सम्मान भी करते हैं, लेकिन न मिलने देने का फैसला भी जनता की सुरक्षा के मद्देनजर ही लिया गया है।

Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned