राजधानी में नियमों को ताक पर रख बांट दी गईं छह-छह राशन दुकानें

पीडीएस की दुकानों में बड़ी धांधली: राज्य शासन ने पुन: आवंटन के दिए निर्देश

By: Nikesh Kumar Dewangan

Updated: 02 Jul 2020, 07:11 PM IST

जितेंद्र दहिया . रायपुर. राजधानी में सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) की दुकानों के आवंटन में बड़े पैमाने पर धांधली सामने आई है। विभाग के अफसरों ने छत्तीसगढ़ सार्वजनिक वितरण प्रणाली आदेश-2004 के नियमों को ताक पर रखकर राशन दुकानें बांट दीं। एक तरफ कुछ दुकानें चहेतों को बांट दी गई। वहीं, दूसरी ओर एक ही संस्था को अधिकतम 3 दुकान देने के नियम को भी तार-तार कर 5-5 दुकानें दे डालीं हैं।

अधिकारियों ने कमीशन का खेल करने के लिए एक समिति को अधिकतम तीन दुकानों के नियम को ताक पर रखकर आधा दर्जन तक दुकानें दे डालीं। अधिकारी यहीं नहीं रुके, उन्होंने राजधानी मे दो दर्जन राशन दुकानें बिना किसी वैधानिक प्रक्रिया के ही बांट दीं। पूर्व के नियम को दरकिनार करने के कारण अब राज्य शासन ने बीते सप्ताह फिर तीन दुकानों से अधिक वाली समितियों से दुकानों का पुन: आवंटन का निर्देश दिया है।

इन नियमों का नहीं हुआ पालन

छत्तीसगढ़ राज्य सार्वजनिक वितरण प्रणाली नियत्रंण आदेश-2004 के नियम में उचित मूल्य की दुकान आवंटन के नियम एक ( ग) और (घ) के अनुसार किसी भी संस्था को किसी भी हाल में 3 से अधिक दुकानें नहीं दी जा सकतीं। दुकानों के आवंटन के लिए स्थानीय समाचार पत्र में विज्ञापन का प्रकाशन और संबंधित क्षेत्र के नगरीय निकाय एवं ग्राम पंचायत को भी सूचना देना जरूरी है।

शहर के बाद भी किया आवंटन

जय छग प्रा. सह. उप भंडार की 6 दुकानें हैं, जो शहर के ६ वार्डों में चल रही हैं। इन वार्डों में 20, 29, 53, 54, 19 शामिल हैं। वहीं, रिद्दी सिद्धी प्रा.सह. उपभोक्ता भंडार की दुकानें पांच वार्ड में भी संचालित हैं। अधिकारियों ने कुछ समितियों को नियम के खिलाफ रायपुर के अलावा कई किलोमीटर दूर के क्षेत्रों में दुकानों का आबंटन कर रखा है, जो न सिर्फ नियमों के विरुद्ध है, बल्कि अव्यवहारिक भी है।

इनका आवंटन बिना विज्ञापन

कार्रवाई के बाद जिन राशन दुकानों को सस्पेंड किया गया, उन शासकीय उचित मुल्य दुकानों का आवंटन स्थानीय समाचार पत्र में बिना सूचना के प्रकाशन के किया गया है।
प्रा. सह उप भंडार ने धरसींवा और नेवरा की 6 दुकानों में कब्जा जमा रखा है। एक समिति की 2 दुकानें रायपुर तथा 2 मलौद और पंडरभठ्ठा में हैं। वहीं, प्रा. सह. उप भंडार की दुकानें रायपुर के अलावा, तर्रा और तिल्दा में भी हैं।

इन दुकानों को मनमाना आवंटित

441001029 रिद्दी सिद्धी प्रा.सह. उपभोक्ता भंडार
441001033 रिद्दी सिद्धी प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार संलग्न
441001034 रिद्दी सिद्धी प्रा.सह.उप.भंडार
441001160 रिद्दी सिद्धी प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार संलग्न
441001192 रिद्दी सिद्धी प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार संलग्न
441001127 जय छत्तीसगढ प्रा. सह. उप. भंडार
441001130 जय छत्तीसगढ़ प्रा.सह.उप.भंडार
441001045 जय छ.ग. प्रा. सह.उप.भंडार
441001066 जय छ.ग. प्रा. सह.उप.भंडार
441001165 जय छ.ग. प्रा. सह.उप.भंडार
441001177 जय छत्तीसगढ प्रा. सह. उप. भंडार
441001014 जय छ.ग. प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार में संलग्न
441001194 जय छ.ग. प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार में संलग्न
441001193 जागरुक प्रा. उपभोक्ता भंडार
441001003जागरुक प्रा. उपभोक्ता भंडार
441001008 जागरुक प्रा. उपभोक्ता भंडार
441006004 जागरुक प्रा. उपभोक्ता भंडार
441001184संगीता महिला स्व सहायता समूह
441001032 संगीता महिला स्व सहायता समूह
441001166 संगीता महिला स्व सहायता समूह
44100116 संगीता महिला स्व सहायता समूह

खाद्य शाखा के नियंत्रक अनुराग सिंह भदौरिया ने बताया कि शासन से आदेश मिला है कि जिन संस्थाओं में तीन से अधिक दुकानें सचालित हैं उनका नए सिरे से आवंटन किया जाएगा।

Nikesh Kumar Dewangan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned