महिला को सांप ने डसा तो इलाज के लिए अस्पताल ले जाने के बजाए पहुंचे यहां..

महिला को सांप ने डसा तो इलाज के लिए अस्पताल ले जाने के बजाए पहुंचे यहां..

Ashish Gupta | Updated: 19 Jul 2019, 02:25:53 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

Snake Bite: रायपुर में अंधविश्वास (superstition) का मामला सामने आया है, जहां एक महिला को सर्पदंश (Snakebite) के बाद इलाज के लिए अस्पताल के बजाय झाड़-फूंक कराने ले गए।

रायपुर. बारिश आते ही सर्पदंश (Snake bite) की घटनाएं बढ़ जाती हैं। खासकर देहाती क्षेत्रों में तो सर्पदंश की घटना आए दिन सुनने को मिल रही है। यह वाकई चिंता की बात है कि समाज में आज भी अंधविश्वास की जड़ें इस कदर मजबूत हैं कि सर्पदंश के शिकार पीडि़त अंधविश्वास के चक्कर में पड़ कर अस्पताल के बजाए झाड़-फूंक वालों के यहां पहुंच कर अपनी जान को जोखिम में डाल लेते हैं।

फटी रह गई लोगों की आंखें जब किसान के पुराने घर से एक के बाद एक निकले 200 सांप

ऐसा ही एक मामला छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के देवभोग में सामने आया है, जहां सुकलीभांठा पंचायत के बरही गांव में सुबह 7 बजे एक महिला को सांप ने डस (snake bite) लिया। इलाज के लिए उसे तत्काल अस्पताल ले जाने के बजाय परिजनों ने गांव में बैगा से 6 घंटे तक झाड़-फूंक कराया। परिजनों ने सर्पदंश (snake bite) की शिकार महिला को हालत बिगडऩे पर अस्पताल में भर्ती किया, जहां उसकी जान नहीं बचाई जा सकी।

मिली जानकारी के अनुसार बरही गांव मेंं कंचना मांझी (55) को सांप ने डस लिया। पति दुर्योंधन मांझी जब खेत से लौटा तो महिला ने उसे मामले की जानकारी दी। सरपंच दयाराम बिसी के मुताबिक सांप काटने की खबर के बाद आनन-फानन में परिजन गांव के ही बैगा को लेकर पहुंचे, जहां बैगा ने झाड़-फूंक कर महिला की जान बचाने का दावा किया।

बदमाश करता था पत्नी से छेड़छाड़, पति ने विरोध किया तो कर दी हत्या

लेकिन महिला की हालत बिगड़ने के बाद बैगा ने अपने हाथ पीछे खींच लिए। इसके बाद परिजन महिला को लेकर दीवानमुड़ा के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचे। वहां चिकित्सकों ने महिला की गंभीर स्थिति को देखते हुए इलाज के लिए देवभोग सीएससी के लिए रेफर कर दिया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मामले में देवभोग पुलिस ने महिला का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया।

पहले भी झाड़-फूंक के चलते किशोरी तोड़ चुकी है दम
पिछले दिनों झाड़-फूंक के चक्कर में दीवानमुड़ा की 13 साल की नाबालिग युवती बैदेही की मौत हो चुकी है। उस मामले में भी इलाज के लिए परिजनों ने पहले बैगा का सहारा लिया था। बैगा देवभोग अस्पताल के साथ ही ओडिशा के धर्मगढ़ तक इलाज के लिए पहुंचा था।

पिता के कुकर्मों से नाबालिग बेटी हुई प्रेग्नेंट, डरा-धमकाकर बार-बार करता था गंदा काम

देवभोग सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के बीएमओ डॉ. सुनील भारती ने कहा, महिला को सुबह सांप ने डस (snake bite) लिया था। उसके बाद परिजन घंटों तक बैगा से झाड़-फूंक करवा रहे थे। हालत बिगड़ने पर उसे दीवानमुड़ा अस्पताल ले गए थे। अस्पताल के कर्मचारी ने बेहोश अवस्था में उसे एंटी स्नैक देकर सीएससी के लिए रेफर किया था, जहां सीएससी पहुंचने से पहले ही रास्ते में महिला ने दम तोड़ दिया था।

Snakebite से जुड़ी खबरें यहां पढ़िए

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर या Download करें patrika Hindi News App.

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned