पति-पत्नी के रिश्तों पर भारी सोशल मीडिया, तलाक तक पहुुंच रही नौबत, 600 से ज्यादा रिश्ते टूटने से पुलिस ने बचाए

महिला थाना में पहुंची 1162 शिकायतें, 641 रिश्तों को टूटने से बचाया गया

By: Nikesh Kumar Dewangan

Published: 11 Jan 2021, 07:37 PM IST

रायपुर. सोशल मीडिया ने जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित किया है। सात फेरों के बंधन पर भी इसका नकारात्मक असर दिखने लगा है। पति-पत्नी के बीच डीपी से लेकर फ्रेंडलिस्ट और लंबी चैटिंग को लेकर विवाद होने लगे हैं। और विवाद बढ़कर पुलिस तक पहुंचने लगा है।
महिला थाने में दहेज प्रताडऩा, शराब पीकर मारपीट और अवैध संबंध की शिकायतों के अलावा अब ऐसी भी शिकायतें भी आने लगी हैं, जिसकी असली वजह सोशल मीडिया है। कई विवाद में तो दोनों पक्ष तलाक लेने की स्थिति में पहुंच चुके थे। हालांकि पुलिस की काउंसलिंग में दोनों पक्षों को अपनी गलतियों का एहसास हुआ। फिर दोनों ने तलाक का इरादा छोड़ दिया। पति-पत्नी के बीच रिश्ते सामान्य हो गए।

परिवार को समय देने से हुआ बदलाव

मंदिरहसौद इलाके की 24 वर्षीया महिला का ज्यादातर खाली समय फेसबुक में बितता था। फेसबुक में दोस्तों की संख्या भी अधिक थी। इससे उसके पति व ससुराल के अन्य लोगों को आपत्ति होती थी। इससे रोज विवाद होने लगा। महिला ने मामला महिला थाने में शिकायत की। पुलिस ने दोनों महिला और उसके पति के अलावा उनके परिवार की भी काउंसलिंग की। अंतत: महिला ने सोशल मीडिया के बजाय परिवार को ज्यादा समय देना शुरू किया। इससे उनके रिश्ते सामान्य हो गए।

अवैध संबंध का शक ज्यादा

महिला थाने में आने वाली शिकायतों में 30 से 40 फीसदी मामले अवैध संबंध से जुड़ी शिकायतों का है। इसमें नौकरीपेशा, सोशल मीडिया, मोबाइल में लंबी बातचीत आदि शक की बड़ी वजह है। सोशल प्लेटफार्म जैसे फेसबुक, वाट्सएप, इंस्टाग्राम आदि में पति-पत्नी सक्रिय रहते हैं, जिससे कई बार दोनों के बीच गलतफहमी भी हो रही है। और विवाद बढ़ रहा है।

641 रिश्तों को टूटने से बचाया

महिला थाना प्रभारी मंजूलता राठौर ने बताया कि जनवरी से दिसंबर 2020 तक 1162 लिखित शिकायत मिली थी। इनमें दहेज प्रताडऩा, शराब पीकर मारपीट के अलावा कई शिकायतें ऐसी थीं, जिनकी जड़ में सोशल मीडिया था। इन शिकायतों के आधार पर पुलिस की एक्सपर्ट कमेटी ने पति-पत्नी की अलग से विभिन्न स्तर पर काउंसलिंग की। उनके परिवार वालों से भी बातचीत की। और 641 मामलों में पति-पत्नी के रिश्ते टूटने से बच गए। काउंसलिंग के बाद उन्होंने आपस में मिलकर रहना स्वीकार किया। टीआई राठौर के मुताबिक परामर्श के दौरान सोशल मीडिया के चलते पति-पत्नी के बीच कई गलतफहमियां भी सामने आ रही हैं। इससे पति-पत्नी का रिश्ता टूटने के कगार पर पहुंच रहा है।

केस-1

कबीरनगर इलाके की 35 वर्षीया महिला ने एक दिन अपने पति को वाट्सएप पर किसी युवती से चैटिंग करते देख लिया। इससे दोनों के बीच झगड़ा हो गया। झगड़ा इतना बढ़ा कि तलाक की नौबत आ गई। महिला थाने में दो राउंड की काउंसलिंग के दौरान पता चला कि चैटिंग सामान्य थी। पति ने चैटिंग करना बंद कर दिया। महिला ने भी अपनी गलतफहमी दूर की। इसके बाद दोनों के बीच झगड़ा खत्म हो गया।

केस-2

मंदिरहसौद की 24 वर्षीया महिला के फेसबुक में अधिकांश मित्र पुरुष हैं। शादी के दूसरे ही साल पति को इस पर आपत्ति होने लगी। महिला भी खाली समय में फेसबुक में ही ज्यादा समय देती थी। इससे पति की नाराजगी बढ़ती गई। दोनों का मामला महिला थाना पहुंचा। लगातार काउंसलिंग के बाद महिला ने फेसबुक से ज्यादा परिवार वालों को समय देना शुरू किया। इसके बाद पति-पत्नी के बीच रिश्ते सामान्य हो गए।

Nikesh Kumar Dewangan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned