साइबर क्राइम से जनता को बचाने एसपी ने किया साइबर मितान अभियान का शुभारंभ

- जल संसाधन के प्रार्थना सभा भवन में आयोजित हुआ कार्यक्रम

By: Bhupesh Tripathi

Published: 23 Aug 2020, 11:20 PM IST

बिलासपुर. बढ़ते साइबर क्राइम को रोकने और लोगों को साइबर क्राइम से ठगी का शिकार होने से बचाने के लिए एसपी प्रशांत अग्रवाल ने शनिवार को साइबर मितान अभियान का शुभारंभ किया। जल संसाधन विभाग के प्रार्थना सभा भवन में आयोजित कार्यक्रम में एसपी ने लोगों को साइबर क्राइम से सतर्क रहने पर सुरक्षित रहने की बात कही।

कार्यक्रम को संबंधित करते हुए एसपी अग्रवाल ने कहा कि देश के झारखंड ,बिहार, हरियाणा, पश्चिम बंगाल और अन्य राज्यों से ठग गिरोह एक जगह बैठक अलग-अलग तरीकों से साइबर क्राइम कर रहे हैं। लोगों को झांसा देकर ठग उनकी कमाई लूट रहे हैं। इससे बचने के लिए लोगों को जागरूक होना जरूरी है। लोगों को जागरूक करने के लिए साइबर मितान अभियान शुरू किया गया है। जिले के सभी थानेदारों को अपने-अपने थाना क्षेत्र का नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। थाने के प्रत्येक कर्मचारी २५-२५ लोगों को साइबर क्राइम से बचने और जागरूक रहने के लिए ट्रेनिंग देंगे। प्रशिक्षित लोगों को साइबर मितान नाम से जाना जाएगा। प्रशिक्षित लोग गांवों में रहने वालों को जागरूक करेंगे।

पुलिस ने एेसे लोगों की शिकायत पर अपराध दर्ज कर जांच करने के साथ-साथ आरोपियों को गिरफ्तार भी कर रही है। जिले में रहने वालों को साइबर क्राइम के प्रति जागरूक रहने और इससे बचने के उपाय जनता तक पहुंचाने के लिए बिलासपुर पुलिस ने साइबर मितान अभियान शुरू किया है। जिले के अधिकारियों ने सभी थानेदारों को अभियान से जुड़कर तत्काल लोगों को साइबर मितान बनाने की जिम्मेदारी दी है।

२ लाख साइबर मितान बनाने का लक्ष्य
अधिकारियों ने सभी थानेदारों को अपने-अपने अपने क्षेत्रों में २२ व २३ अगस्त के बीच दो दिनों मे जिले में कुल २ लाख साइबर मितान बनाने का आदेश दिया है। एसपी प्रशांत अग्रवाल के आदेश के बाद थानेदारों ने १९ अगस्त से ही काम शुरू कर दिया है। कई थानेदारों ने अपने-अपने क्षेत्रों में १०० से अधिक साइबर मितान बना भी चुके हैं।

आरक्षक से लेकर एसआई करेंगे काम
जिले के थानों में पदस्थ आरक्षक से लेकर एसआई वर्ग के कर्मचारियों को साइबर मितान बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। सभी कर्मचारियों को साइबर मितान की सूची थानेदार को सौंपने को कहा गया है।

एेसे काम करेगा विंग
थाने में पदस्थ प्रत्येक कर्मचारी २५-२५ व्यक्तियों को साइबर मितान बनाएंगे। ट्रेनिंग लेने के बाद साइबर मितान अपने-अपने क्षेत्र में जाकर दूसरे ग्रामीणों को साइबर मिताने बनाने ट्रेनिंग देंगे। यह काम करीब सवा ३ महीने तक चलेगा। इस अवधि में जिले के प्रत्येक घर में एक साइबर मितान बनाने का लक्ष्य पुलिस ने रखा है।

पत्रकारों का किया सम्मान
कार्यक्रम के अंत में एसपी ने पत्रकारों का सम्मान किया। उन्होंने बताया कि कोरोना काल में पत्रकार कोरोना वारियर्स के रूप में बिना भय के सड़क पर उतकर पुलिस के साथ लोगों को जागरूक और सतर्क करने में अहम भूमिका निभा रहे हैं। पत्रकारों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned