राज्य सरकार ने की दो समितियां बनाने की घोषणा, ये मिलकर तय करेंगे शराबबंदी का तरीका

पूर्ण शराबबंदी करने से पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दो समितियां बनाने की घोषणा की है

By: Deepak Sahu

Published: 19 Jan 2019, 08:41 AM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ में पूर्ण शराबबंदी करने से पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दो समितियां बनाने की घोषणा की है। इन दोनों समितियों से मिले सुझावों के आधार पर ही सरकार शराबबंदी की दिशा में कदम बढ़ाएगी। इसमें से एक समिति में सभी दलों के राजनेता होंगे, तो दूसरी समिति में समाज के अलग-अलग तबकों के प्रतिनिधियों को शामिल किया जाएगा। दोनों समितियों का गठन जल्द ही होगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया कि राजनीतिक समिति उन राज्यों में जाकर अध्ययन करेगी, जहां शराबबंदी तो की गई लेकिन सफल नहीं हुई। यह समिति शराबबंदी की विफलताओं की वजहों का अध्ययन करेगी।

दूसरी सामाजिक समिति शराबबंदी में समाज की भूमिका के लिए रास्ता सुझाएगी। बता दें कि कांग्रेस ने अपने जन घोषणापत्र में पूर्ण शराबबंदी का वादा किया है। सत्ता में आने के बाद मुख्यमंत्री बघेल ने कहा था कि हम नोटबंदी की तरह शराबबंदी नहीं करेंगे। हम नहीं चाहते हैं कि नोटबंदी की तरह शराबबंदी के बाद लोगों की जान जाए। इसके आधार पर ही मुख्यमंत्री ने दो अलग-अलग समितियां बनाने का फैसला किया है।

मालूम हो कि पूर्ववर्ती सरकार के समय शराबबंदी के लिए अफसरों और भाजपा के सांसदों-विधायकों की एक समिति गठित की गई थी। इस समिति की सिफारिशों को नई सरकार की कैबिनेट की बैठक में रखा गया था। भूपेश कैबिनेट ने समिति की सिफारिशों को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि कमेटी ने शराबबंदी की जगह शराब की बिक्री बढ़ाने के सुझाव दिए हैं।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned