पिछले एक सप्ताह में 5 हाथियों की मौत से हड़कम्प

रायगढ़ में करंट से हाथी की मौत, धमतरी में बच्चे ने तोड़ा दम

By: ramendra singh

Updated: 17 Jun 2020, 12:41 AM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ में हाथियों की मौत का सिलसिला थम नहीं रहा है। मंगलवार को दो और हाथियों ने दम तोड़ दिया। रायगढ़ जिले में करंट लगने से एक हाथी की मौत हो गई। वहीं, धमतरी जिले में हाथी के एक बच्चे की दलदल में फंसने से मौत हो गई। वन विभाग के अधिकारी लगातार हो रही हाथियों की मौत से हैरान हैं। इससे पहले सरगुजा संभाग में तीन हाथियों की मौत के मामले में कई वन विभाग के कई अधिकारियों पर लापरवाही बरतने पर कार्रवाई की जा चुकी है। वहां डीएफओ को हटाकर जांच कमेटी गठित कर दी गई है। इस बीच धमतरी और रायगढ़ में भी हाथियों की मौत ने वन अफसरों की चिंता बढ़ा दी है।

रायगढ़ के धरमजयगढ के गेरसा के जंगलों में मंगलवार को सुबह एक नर हाथी गांव की सीमा में घुस आया, जहां खेत में सबमर्सिबल पंप के कनेक्शन तार में उलझकर वह करंट के संपर्क में आ गया। बारिश होने की वजह से खेत में पानी भरा था, जिसके कारण करंट हाथी के शरीर में तेजी से फैल गया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। डीएफओ प्रियंका पांडेय ने बताया कि तार की उंचाई पांच से छ: फीट ही थी। इसलिए हाथी की मौत के बाद पीओआर भी दर्ज किया जा रहा है। वन विभाग नें खेत मालिक भागीलाल राठिया और लाल सिंह पर वन अपराध कायम कर विवेचना शुरू कर दी है। अभी घटना के सभी पहलुओं पर जांच की जाएगी। फिलहाल मृत हाथी के लाश का पोस्टमार्टम के प्रारंभिक रिर्पोट में कंरट लगने से मौत हुई है।
कुदमुरा में तीन दिन से जिंदगी और मौत से जूझ रहा हाथीतीन दिन पहले 14 जून से कोरबा वन मंडल की कुदमुरा रेंज में एक हाथी किसान के आंगन में जिंदगी और मौत से जूझ रहा है। यह बेहोश है। विन विभाग की टीम ने इसे रेस्क्यू करके लाने की कोशिश भी की, लेकिन यह नहीं लाया जा सका। अब इसकी रखवाली और स्वास्थ्य पर नजर बनाए रखने के लिए वन विभाग की टीम तैनात है।

रायगढ़ में पांच आरोपी गिरफ्तार
रायगढ़ जिले के धरमजयगढ़ वनमण्डल के गेरसा गांव में करेंट की वजह से हाथी की मौत के मामले में पांच आरोपियों विद्युत विभाग के सब इंजीनियर राजेन्द्र कुजूर, लाइनमेन अमृतलाल द्विवेदी लाइन परिचारक नरेन्द्र दास महंत, कृषक भादोराम एवं एक अन्य को गिरफ्तार किया गया है। प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्य प्राणी अतुल शुक्ला ने बताया कि करंट से हाथी के मौत की सूचना पर तत्काल वन विभाग के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। इस दौरान पता चला कि किसान ने अवैध रूप से पम्प के लिए तार खींचा गया है, जिसके चपेट में आने की वजह से हाथी की मौत हो गई है। बता दें कि करंट से हुई हाथी की मौत के मामले में वन्य जीव प्रेमी नितिन सिंघवी ने आरोपी अफसरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

वर्ष 2016 से अब तक 75 हाथियों का मौत
छत्तीसगढ़ में इस समय अलग संभाग व जिलो में 241 हाथी विचरण कर रहे है। वर्ष 2016 से अब तक विभिन्न घटनाओं में लगभग 75 हाथियों की मौत हो चुकी है। इस साल जनवरी से लेकर अब तक सात हाथी दम तोड़ चुके हैं। इन वर्षों में इतने हाथियों की मौत वर्ष 2015-16- 17

वर्ष 2016-17-16
वर्ष 2017 -18-11

वर्ष 2018 -19 में17
वर्ष 2019-20- 07

वन अधिकारियों को बदलना जरूरी : मेनका गांधी
छत्तीसगढ़ में लगातार हो रहे हाथियों के मौत पर सांसद मेनका गांधी ने नाराजगी जताई है। उन्होंने पत्रिका से इस संबंध में चर्चा करते हुए कहा कि हाथियों के मौत पर छत्तीसगढ़ पहले नम्बर पर है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के वन अफसरों को बदलने की बहुत जरूरी है। मुझे आज ही सुबह दो जिलो में एक बच्चा और नर हाथी की मौत की सूचना मिली है। उक्त घटनाएं चिंताजनक हैं। उन्होंने कहा कि वे पहले भी वन विभाग में हो रहे लापवाही के लिए मुख्यमंत्री को लिखित में आवेदन दे चुकी हैं। लेकिन, अब तक कोई स्पष्ट जवाब नहीं आया है।

मामले की होगी जांच
धमतरी में गंगरेल के पास हाथी के बच्चे की कीचड़ में फंसने और धरमजयगढ़ में हुए करंट से मौत हुई है। इस मामले में प्रथम दृष्टया वन विभाग की कोई गलती नहीं लगती। गांव वालों ने बिजली के तार को बिछा रखा था। इस मामले की जांच होने के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट होगी। सभी हाथियों को कॉलर आईडी लगाना संभव नहीं है। कोरबा में मिले बीमार हाथी का उपचार चल रहा है। उसके पेट से कीड़े निकले थे। इस समय उसकी स्थिति ठीक है ।

मोहम्मद अकबर, वनमंत्री

ramendra singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned