मानसून ने दे दी है दस्तक,खरीफ फसल की बोआई में पिछड़ न जाएं यहां के किसान

जिले में खरीफ वर्ष 2018-19 के लिए बीज भंडारण में लेटलतीफ की जा रही है।

By: Deepak Sahu

Published: 07 Jun 2018, 04:53 PM IST

कवर्धा . जिले में खरीफ वर्ष 2018-19 के लिए बीज भंडारण में लेटलतीफ की जा रही है। वर्तमान में 7022 क्विंटल बीज का भंडारण किया जा सका है, जो कि कुल लक्ष्य से 70 फीसदी से भी कम है। कृषि विभाग की सुस्ती के कारण समिति व गोदामों में स्टॉक पूरा नहीं हो पाया है। इससे किसानों को बीज के लिए भटकना पड़ेगा। वहीं खरीफ फसलों की बोआई भी पिछड़ जाएगी।

कृषि विभाग को खरीफ वर्ष 2018-19 में 16727 क्विंटल बीज भंडारण और वितरण का टारगेट मिला है। बीज भंडारण की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है, किंतु भंडारण का काम कछुआ गति से किया जा रहा है। अभी तक 7022 क्विंटल बीज भंडारण किया जा सका है, जो कि कुल लक्ष्य का महज 30 फीसदी है। जिले के कृषि विकास केंद्र घोठिया में बीज की पर्याप्त उपलब्धता के बाद भी भंडारण में लापरवाही बरती जा रही है। बीज भंडारण में लेटलतीफी के चलते खरीफ फसलों की बोआई पिछडऩे के आसार है। कारण कि 15 जून से पहले ही मानसून प्रारंभ होने की संभावना है। मानसून को अब सिर्फ पखवाड़ेभर शेष रह गए हैं। जिले के अधिकांश किसानों ने तो बोआई की तैयारी भी शुरू कर दिए हैं। ग्रामीण इलाकों के किसान अपने खेतों की साफ-सफाई में जुट गए हैं। उपजाऊ बनाने के लिए खेतों में मिट्टी पलटी जा रही है।

सोयाबीन बीज का टोटा
जिले में सोयाबीन और मक्का बीज का भंडारण अभी तक पूरा नहीं हो सका है। चालू सीजन में 5380 क्विंटल सोयाबीन बीज भंडारण का लक्ष्य है। विपरीत इसके अभी तक 2051 क्विंटल ही भंडारण हो पाया है जबकि 3329 क्विंटल भंडारण होना बाकी है। वहीं अरहर का 278, उड़द का 232 व मूंग का 40 क्विंटल बीज भंडारण हो पाया है। सोयाबीन व मक्का बीज की किल्लत होने से किसानों को गोदाम के चक्कर काटना पड़ सकता है।

गंभीर नहीं जिम्मेदार
आमतौर पर प्रतिवर्ष यही दावा किया जाता है कि इस बार समय से पूर्व खाद व बीज का भंडारण कर लिया जाएगा। किसानों को कोई दिक्कत नहीं होगी। लेकिन सीजन के पहुंचते तक ये दावे हवा-हवाई साबित हो जाते हैं। बीज भंडारण व वितरण को लेकर कृषि विभाग गंभीर नहीं दिखाती। ऐसे में किसानों को बीज खरीदी के लिए समितियों के चक्कर काटना पड़ता है। बावजूद इसके अधिकारी लापरवाही से बाज नहीं आते।

 

CGNews

किसानों को होगी परेशानी
बीज भंडारण में लेटलतीफ होने से किसानों को परेशानी होगी। जिले में कुल 60 समितियां हैं। यह समिति ही गोदाम हैं, जहां बीज स्टॉक किया जा रहा है। स्टॉक पूरा होने के बाद जब वितरण शुरू होगा, तो किसानों की भीड़ बीज खरीदने टूट पड़ेंगे। गोदाम की संख्या कम होने से दूर-दराज गांव से आने वाले किसानों को दिक्कतें होगी। भीड़ अधिक रहने पर वे बीज खरीदी से वंचित रह जाएंगे। उन्हें मजबूरन महंगी कीमत पर बाजार से बीज खरीदना पड़ेगा। जबकि अब तक सभी सोसायटी में बीज वितरण का काम शुरु भी नहीं हुआ है।

16727 क्विंटल बीज भंडारण का लक्ष्य
8257 क्विंटल बीज उपलब्ध
7022 क्विंटल बीज वितरण
60 सोसायटी व गोदाम
08 मुख्य गोदाम

कबीरधाम कृषि विभाग के उपसंचालक एनएल पाण्डेय ने बताया कि खरीफ सीजन के लिए समितियों में किसानों को बीज वितरण शुरू हो चुका है। बीजों का भंडारण अभी जारी है। इस बार आधे से अधिक मात्रा में बीज उपलब्ध हो चुका है। उपकेंद्रों में भी बीज वितरण किया जाएगा। अब कुछ प्रोसेस बचे हुए हैं।

Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned