मारपीट, अशलील हरकतें और बाथरूम साफ कराते हैं सीनियर्स, छात्रों ने कोतवाली थाना में दर्ज कराई शिकायत

डीडीनगर के बाद अब पेंशनबाड़ा हॉस्टल में रैगिंग का मामला आया सामने, कलेक्टर ने मामले में जांच के दिए निर्देश।

रायपुर । डीडी नगर आदिवासी छात्रावास में रैगिंग का मामला उजागर होने के बाद अब राजधानी के ही पेंशनबाड़ा छात्रावास में भी रैगिंग का मामला सामने आया है। दर्जन भर से ज्यादा फस्र्ट ईयर के छात्रों ने कोतवाली थाना में शिकायत दर्ज कराई है। छात्रों ने अलनी लिखित शिकायत में 8 छात्रों की नामजद शिकायत की है।

छात्रों ने खुद के साथ हुए मारपीट के सबूत पेश करते हुए शरीर में लगी चोंट को दिखाया। उनका कहना है कि सुबह 5 बजे से उठाकर सीनियर्स उनसे टॉयलेट बाथरूम साफ कराते हैं। नास्ता - खाना बनवाते हैं। कपड़े धुलवाते व प्रेस कराते हैं। इसके बाद कपड़े ठीक से नहीं धोए और खाना ठीक नहीं बना कह कपड़े उतरवा कर मारते हैं। डरे हुए छात्रों ने अपनी शिकायत में जान का खतरा भी बताया है। छात्रों की शिकायत को संज्ञान लेते ही कलेक्टर ने मामले की जांच के निर्देश दिए हैं।

हॉस्टल में नहीं थी एंटी रैंगिंग सेल, अब गठन
हॉस्टलों में अब तक कहीं भी एंटी रैगिंग सेल नहीं बनाई गई थी। इसके लिए कलेक्टर ने शुक्रवार को सभी अधीक्षकों की बैठक बुलाई है। रैगिंग के बढ़ते मामलों पर कलेक्टर ने संज्ञान लेकर कार्रवाई की है। ऐसा पहली बार होगा की हॉस्टल के लिए एन्टी रैगिंग सेल का गठन किया जाएगा। 24 घंटे में एसटीएससी हॉस्टल में रैगिंग के 2 मामले सामने आने के बाद सभी हॉस्टल के अधीक्षकों को उपस्थित रहने के आदेश दिया गया है।

40 छात्र से बचे सिर्फ 15
बतादें कि पेंशनबाड़ा छात्रावास में प्रथम वर्ष के 40 छात्र रहते थे। प्रताडऩा से परेशान होकर 25 छात्र हास्टल छोड़ चुके हैं। सीनियर्स ने उनके कपड़े और सामन जब्त कर लिया था और जला दिया। अब बांकी के बचे छात्र भी काफी भय में नजर आ रहे हैं। पीडि़तों ने बताया कि उन्होंन अपने साथ हो रही मारपीट और ज्यादती की शिकायत वार्डन से भी की थी लेकिन सीनियर्स छात्रों ने वार्डन को भी धमकाकर रखा है। इसके अलावा खाना बनाने वाले रसोईए से भी मारपीट की जाती है।

अश्लील हरकतें करते है सीनियर
पीडि़तों ने बताया कि हर दिन शराब पीकर हॉस्टल पहुंचते हैं और अश्लील हरकतें करते हैं। कई छात्रों ने जब इसका विरोध किया तो उनके साथ डंडे और लाठी से मारपीट की गई। इतना ही नहीं हॉस्टल में बाहर से लड़कियां लाने की बात भी छात्रों ने बताई। इस दौरान जूनियर छात्रों को हास्टल से बाहर निकाल दिया जाता है।

इनके नाम आए सामने
डोश्वर कंवर, अमित कुमार साडिल्य, खूबचंद्र माली, जागेश्वर नेताम, सूर्यकांत कश्यप, राज सिदार, रोशन पैकरा, गजेंद्र ठाकुर, के नाम से शिकायत दर्ज कराई है।

छात्रावास अधीक्षक हुआ निलंबित
डीडी नगर छात्रावास की जांच कलेक्टर ने डिप्टी कलेक्टर के माध्यम से कराई थी। कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने गुरुवार को डीडीनगर के पोस्ट मैट्रिक आदिवासी बालक छात्रावास के अधीक्षक महेन्द्र कुमार बघेल को अपने कर्तव्य के प्रति लापरवाही, अनुशासहीनता और मनमानी बरतने के कारण छत्तीसगढ़ सिविल सेवा(आचरण) नियम 1965 के नियम 3 के उल्लंघन किये जाने के फलस्वरूप छत्तीसगढ़ सिविल सेवा (वर्गीकरण, नियत्रंण तथा अपील) नियम 1966 के नियम 9 के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। इसके अलावा अरोपी छात्रों के खिलाफ जांच के निर्देश दिए हैं।

वर्जन
पेंसनबाड़ा छात्रावास के छात्रों की शिकायत पर हमने जांच कर रिपोर्ट रैगिंग कमेटी को दे दी है। आगे से ऐसा न हो इसकी हिदायत भी दी है।
डीसी पटेल, सिएसपी, कोतवाली

Click & Read More Chhattisgarh News.

आदिवासी बालक हॉस्टल रैगिंग मामले में फिर से होगी छात्रों से पूछताछ, कलेक्टर ने तत्काल प्रभाव से अधीक्षक को किया निलंबित

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned