सुकमा नक्सली हमला: गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने जताया शोक, बोले- नक्सलियों की कायराना करतूत

नक्सलियों ने बड़ी वारदात को अंजाम देकर अपने नापाक मंसूबे को अंजाम दिया है..

रायपुर . छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में एक बार फिर बड़ी नक्सली हमले की आशंका को इंटिलेंज ब्यूरो ने भाप लिया था। इसे लेकर कुछ दिन पहले ही IB ने अलर्ट जारी किया था। सूत्रों के मुताबिक नक्सलियों की गतिविधियां भी सुकमा जिले के जंगलों में बढ़ गई थी। वहीं, आज नक्सलियों ने बड़ी वारदात को अंजाम देकर अपने नापाक मंसूबे को अंजाम दिया है। पढि़ए पूरी खबर..

9 जवान शहीद, 25 घायल
मिली जानकारी के अनुसार सुकमा के कासरम और पलोदी इलाके में जवानों को नक्सलियों के मूवमेंट की सूचना मिली थी। जिसके बाद बीडब्ल्यू कोबरा, सीआरपीएफ 212, एसटीएफ की एक टीम सर्चिंग के लिए निकली थी। तभी घात लगाए नक्सलियों ने सीआरपीएफ के एंटी लैण्ड माइन व्हीकल को आईईडी ब्लास्ट कर उड़ा दिया। जिसमें 9 जवान शहीद हो गए । जबकि 25 जवानों के घायल होने की खबर है। जिसमें से 4 जवानों की हालत नाजुक है। सभी जवानों को इलाज के लिए रायपुर के नारायणा हॉस्पिटल अस्पताल भेज दिया गया है।

राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर जताया शोक
केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने नक्सली हमले को लेकर दुख व्यक्त किया है। शहीद जवानों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए शोक प्रकट किया है। इस हमले को लेकर सीआरपीएफ नक्सल डीजी डीएम अवस्थी से फोन पर बात की।

 

होली के दिन जवानों को मिली थी बड़ी कामयाबी
पूरे देश में जहां रंगों का त्योहार हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जा रहा था, वहीं छत्तीसगढ़-तेलंगाना सीमा पर तैनात जवान नक्सलियों के हमले का मुंहतोड़ जवाब दे रहे थे। इस मुठभेड़ में सुरक्षा बलों को बड़ी कामयाबी मिली थी। सुरक्षा बलों ने छत्तीसगढ़ और तेलंगाना सीमा पर स्थित जयशंकर भूपालपल्ली जिले के जंगल में मुठभेड़ में 12 नक्सलियों को मार गिराया था। पुलिस को नक्सलियों के पास से बड़ी तादाद में हथियार भी बरामद हुए हैं। हालांकि इस मुठभेड़ में एक जवान भी शहीद हो गए। बस्तर आईजी ने इस घटना की पुष्टि की है।

CG news

इधर रायपुर में मचा कोहराम
सुकमा में मुठभेड़ की खबर फैलते ही इधर राजधानी रायपुर में कोहराम मच गया। घायल जवानों को रामकृष्ण केयर अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां कुछ जवानों की हालत गंभीर बताई जा रही है।

बस्तर नक्सल अभियान के पुलिस महानिदेशक DM अवस्थी ने कहा कि एंटी लैण्ड माइन व्हीकल 30 से 40 किलो के विस्फोट को संभाल सकता है। संभवता यह 50 से 60 किलो का विस्फोटक रहा होगा। घटना स्थल पर जवान यहां-वहां बिखरे हुए थे। इस हिसाब से ये अनुमान लगाया जा सकता है कि नक्सलियों ने बहुत ज्यादा मात्रा में विस्फोट का इस्तेमाल किया है।

Show More
चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned