पंचायत चुनाव में डबल ड्यूटी को लेकर शिक्षकों ने जताई नाराजगी

भाटापारा. पंचायत चुनाव के लिए दो बार ड्यूटी नहीं करेंगे। प्रशिक्षण के पहले ही दिन टीचरों ने इस कदर गुस्सा दिखाया कि अधिकारियों के पसीने छू

भाटापारा. पंचायत चुनाव के लिए दो बार ड्यूटी नहीं करेंगे। प्रशिक्षण के पहले ही दिन टीचरों ने इस कदर गुस्सा दिखाया कि अधिकारियों के पसीने छूट गए। मान-मनौव्वल के बीच किसी तरह माने और यह फैसला हुआ कि जिला निर्वाचन अधिकारी से 24 जनवरी को मुलाकात की जाएगी। जिसमें सभी बातें उनके सामने रखी जाकर हल निकाला जाएगा।
राशन कार्ड, घर-घर सर्वे और विधानसभा चुनाव के पहले मतदाता सूची बनाने के काम से थक चुके टीचरों का गुस्सा गुरुवार की सुबह उस वक्त फूट पड़ा, जब ब्लॉक के एक साथ लगभग 700 टीचरों को पंचायत चुनाव के लिए ट्रेनिंग पर बुलाया गया। ट्रेनिंग में केवल टीचर ही थे, दूसरे अन्य कोई विभाग के अधिकारी या कर्मचारी नहीं था। ऐसे में गुस्सा और भड़का। पूछा गया कि क्या शिक्षा विभाग ही अकेले चुनाव करवाएगा? जवाब नहीं मिलता देख गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। सामने खड़े अधिकारियों से दो टूक शब्दों में कह दिया गया कि पंचायत चुनाव की डबल ड्यूटी नहीं करेंगे। किसी तरह समझाया गया, तब कहीं जाकर ट्रेनिंग चालू हो पाई।
इसलिए गुस्से में हंै टीचर
दरअसल पंचायत चुनाव के लिए जो चुनाव ड्यूटी लगाई गई है उसमें ब्लॉक के लगभग 680 टीचर आ रहे हैं। मामला यहां तक तो ठीक था। यह गंभीर तब हुआ जब ड्यूटी लिस्ट जारी हुई। इस लिस्ट में इन सभी को दो चरणों में काम निपटाने हैं। वह भी कसडोल और पलारी ब्लॉक में। याने डबल ड्यूटी। 2 दिन के प्रशिक्षण के बाद इन्हें प्रथम चरण के लिए 27 जनवरी को कसडोल ब्लॉक के लिए निकलना है। वहां चुनाव संपन्न कराने के बाद 2 फरवरी को पलारी ब्लाक के गांवों में भी यही काम करना है।
टीचर इसे डबल ड्यूटी कहकर विरोध कर रहे हैं। दरअसल नाराजगी और गुस्सा 22 जनवरी से ही शुरू हो गया था जब लिस्ट जारी हुई। परिणाम 23 जनवरी की सुबह प्रशिक्षण के दौरान विरोध के रूप में सामने आया।
ऐसे माने टीचर
प्रशिक्षण केंद्र शासकीय बहुद्देशीय उच्चतर माध्यमिक शाला में तहसीलदार ने टीचरों की बातें सुनी। समस्याएं समझी। 24 जनवरी टीचरों को एक प्रतिनिधिमंडल कलेक्टर से मिलने जाएगा। इस तरह प्रशिक्षण का पहला दिन चालू हुआ।
पहली प्राथमिकता चुनाव है। क्योंकि इसके लिए सुप्रीम कोर्ट और निर्वाचन आयोग के निर्देश है।
कार्तिकेय गोयल कलेक्टर, बलौदाबाजार

dharmendra ghidode Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned