अस्थायी कोविड कर्मचारियों ने अपर कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

नौकरी में पुन: रखने सहित 3 सूत्रीय मांग

By: dharmendra ghidode

Published: 05 Aug 2021, 06:01 PM IST

गरियाबंद. कोरोनाकाल में गरियाबंद कोविड अस्पताल में तीन माह तक अपनी जान जोखिम में डालकर कोविड पीडि़तों की सेवा करने वाले कर्मचारियों को 31 जुलाई को अचानक नौकरी से निकाल दिया गया है। पीडि़त कर्मचारियो ने संयुक्त कार्यालय पहुंचकर अपर कलेक्टर जे. आर. चौरसिया को कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा।
सौंपे गए ज्ञापन के आधार पर पीडि़त कर्मचारियों ने बताया कि हम सभी 38 कर्मचारी को अस्थायी कोविड-19 कर्मचारी जिनको अस्थायी रूप से 3 माह के लिए एसडीआरएफ के अंतर्गत भर्ती किया गया था। जिसमें समय अनुसार 3 माह पूर्ण होने पर सेवा समाप्त की गई, परंतु हम सभी के द्वारा कोरोनाकाल में खुद की जान जोखिम में डालकर दिन रात मेहनत करके लोगों की सेवा की और इस विषम परिस्थितियों में हम सभी ने सरकार का साथ दिया है। हम सभी कोविड -19 कर्मचारी जिसमें स्टाफ नर्स, डॉक्टर माइक्रोबायोलॉजिस्ट, लैब टेक्नीशियन, फार्मासिस्ट, सफाई कर्मचारी सम्मिलित हैं। अस्थायी रूप से स्थापना होने के कारण हमारा भविष्य अंधकार में है।
वर्तमान में हमारे जिले के समस्त अस्पतालों में जिला चिकित्सालय, सीएचसी पीएचसी कोविड -19 अस्पताल, सब सेंटर में स्वास्थ्य कर्मियों की कमी है। जिसे आगामी समय में भरा जाना अति आवश्यक है। उस रिक्त पदों में हम सभी कोविड-19 अस्थायी कर्मचारियों के पदों को निरंतर जारी रखने की मांग की है। तीन सूत्रीय मांग में कार्य पर निरंतर रखने, कोविड -19 में कार्यरत प्रत्येक कर्मचारी को वैकल्पिक व्यवस्था करते हुए पीएचसी, सीएचसी, जिला चिकित्सालय, कोविड .19 अस्पताल में रोजगार देने, एनएचएम की भर्ती में प्राथमिकता देना प्रमुख है।

dharmendra ghidode
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned