स्वास्थ्य मंत्री के बंगले के 10 स्टाफ कोरोना पॉजिटिव, कैंसर पीडिता को माना जा रहा है वायरस का सोर्स

सूत्रों के मुताबिक बंगले में बीते कुछ दिनों पहले भोपाल से कैंसर का इलाज करवाने आई एक महिला मरीज को वायरस सोर्स माना जा रहा है। बहरहाल, कोरोना की इस दस्तक ने सरकार की चिंताएं बढ़ी दी हैं क्योंकि अब कोई भी सुरक्षित नहीं है। उधर, प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 9 हजार का आंकड़ा पार कर गई।

By: Karunakant Chaubey

Published: 31 Jul 2020, 11:11 PM IST

रायपुर. प्रदेश में कोरोना संक्रमण अब सरकार के घर तक जा पहुंचा है। मुख्यमंत्री निवास की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों से लेकर, मंत्रालय कर्मियों और शुक्रवार को स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के सिविल लाइन स्थित सरकारी बंगले से एक, दो नहीं बल्कि 10 लोग संक्रमित पाए गए। जिसके बाद तो पूरे स्वास्थ्य महकमें में हड़कंप मच गया। इनमें मंत्री के निज सहायक, बंगले में पदस्थ ड्राइवर, 5 सफाईकर्मी शामिल हैं।

तत्काल इन सभी को अस्पताल शिफ्ट करवाया गया। बंगला सेनिटाइज करने के बाद सील कर दिया गया है। मंत्री राजकुमार कॉलेज स्थित आवास में ठहरे हुए हैं। सूत्रों के मुताबिक बंगले में बीते कुछ दिनों पहले भोपाल से कैंसर का इलाज करवाने आई एक महिला मरीज को वायरस सोर्स माना जा रहा है।

बहरहाल, कोरोना की इस दस्तक ने सरकार की चिंताएं बढ़ी दी हैं क्योंकि अब कोई भी सुरक्षित नहीं है। उधर, प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 9 हजार का आंकड़ा पार कर गई। शुक्रवार को 230 मरीजों की पुष्टि के साथ ही आंकड़ा 9086 जा पहुंचा। जबकि 309 मरीजों को छुट्टी मिली। बीते दो दिनों से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या में खासा इजाफा हुआ है।

रायपुर में 1411 एक्टिव मरीज-

रायपुर की स्थिति बेहद नाजुक बनी हुई है। यहां 2895 मरीज अब तक संक्रमित मिल चुके हैं, जिनमें से 1411 एक्टिव है। अकेले रायपुर में 24 मौत हो चुकी हैं।

कोरोना की वीआईपी बंगलों तक दस्तक-

सीएम हाउस-

25 जून, संक्रमित- 2 सुरक्षाकर्मी

- मुख्यमंत्री निवास के बाहर गेट ड्यूटी पर तैनात दो सुरक्षाकर्मी संक्रमित मिल चुके हैं। ये सभी बाहरी सुरक्षा में तैनात थे, अंदर नहीं। इसके बाद से यहां हर स्तर पर सावधानी बरती जा रही है।

गृहमंत्री बंगला-
19 जुलाई, संक्रमित- 2 महिला स्टाफ

- सिविल लाइन स्थित गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू के बंगले में काम करने वाले दो महिला कर्मचारी 10 दिन पहले संक्रमित पाई गई थीं। इस दौरान स्टाफ की सैंपलिंग करवाई गई। सबकी रिपोर्ट निगेटिव रही। महिलाओं के संपर्क वाले स्टाफ को क्वारंटाइन करवाया गया।

पीसीसी अध्यक्ष बंगला-

29 जुलाई, संक्रमित- परिजन समेत 5 लोग
- पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम के सिविल लाइन स्थित बंगले से बुधवार को एक-दो नहीं बल्कि 5 लोग संक्रमित मिले। इनमें उनके भैया, भाभी, भतीजे समेत दो अन्य स्टाफ भी थे। सुबह उनकी सैंपलिंग करवाई गई और रात को रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद सब ने राहत की सांस ली।

स्वास्थ्य मंत्री बंगला-
31 जुलाई, संक्रमित- 10 स्टाफ

- स्वास्थ्य मंत्री होने के नाते मरीजों, उनके परिजनों का आना-जाना लगा रहता है। मंत्री अंबिकापुर में थे, तभी स्टाफ के संक्रमित होने की जानकारी मिले। जिसके बाद वे बंगले नहीं आए। इधर, कॉन्ट्रेक्ट ट्रेसिंग की जा रही है। बंगले में कार्यरत सभी स्टाफ की जांच करवाई जा रही है।
सांसद निवास-

3 व 14 जुलाई, 2 स्टाफ

- रायपुर सांसद सुनील सोनी के पीएसओ और ड्राइवर संक्रमित मिल चुके हैं। पीएसओ ने तो सांसद को सूचना ही नहीं दी थी कि उसने कोरोना टेस्ट करवाया है। रिपोर्ट आने के बाद वह गायब हो गया। सांसद ने दो बार अपनी, परिजनों की जांच करवाई। सभी की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई।

विधायक संक्रमित- डोगरगांव विधायक दुलेश्वर साहू भी कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। रिपोर्ट आने के पहले वे विधानसभा में आयोजित एक बैठक में शामिल भी हुए थे। जिसके बाद विधायक, अफसर क्वारंटाइन करवाए गए थे।

ये भी संक्रमित-

एडीजी, उनकी पत्नी व बेटी संक्रमित मिले। एसआईबी में पदस्थ आईपीएस अधिकारी, बिलासपुर क्राइम ब्रांच की आला अधिकारी, जगदलपुर कलेक्टोरेट के दो अधिकारी, समेत राज्य से कई अधिकारी, डॉक्टर और कोरोना कंट्रोल एंड कमांड सेंटर के 4 आला अधिकार पॉजिटिव मिले हैं।

और तीन लोगों की मौत-

प्रदेश में कोरोना महामारी से मरने वालों की संख्या 53 जा पहुंची है। शुक्रवार को रायपुर निवासी 65 वर्षीय व्यक्ति जिनका इलाज एक निजी अस्पताल में जारी थी। उन्होंने इलाज के दौरान शुक्रवार दोपहर अंतिम सांस लीं। वहीं ईदगाहभाठा निवासी 44 वर्षीय पुरुष जिसे सांस की शिकायत पर 22 जुलाई को एम्स में भर्ती करवाया गया था। वहीं गरियाबंद की 59 वर्षीय महिला को बुखार और कमजोरी की शिकायत पर निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। तीनों की मौत शुक्रवार को हुई। वर्तमान में स्वास्थ्य विभाग ने दो की मौत की पुष्टि की है।

जितनी ज्यादा टेस्टिंग होगी, संक्रमित मरीजों की संख्या उतनी बढ़ेगी। इस दौरान रिकवरी रेट भी गिरेगा। मेरे बंगले के स्टाफ भी संक्रमित मिले हैं। अन्य सभी की जांच करवाई जा रही है। इलाज के समुचित बंदोबस्त किए जा रहे हैं।आवश्यकता पडऩे पर होम आइसोलेशन का विकल्प भी है।
-टीएस सिंहदेव, स्वास्थ्य मंत्री

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned