कोर्ट में 16 जुलाई से सुनवाई और 1 अगस्त को होगी कैदियों की वापसी

लंबित प्रकरणों के सुनवाई की तारीख भी तय की गई है। वहीं पैरोल और अंतरिम जमानत पर रिहा किए गए कैदियों का अवकाश 31 दिन के लिए बढ़ा दिया गया है।

By: Manish Singh

Published: 30 Jun 2020, 08:35 PM IST

राज्य के सभी न्यायालय 16 जुलाई से सुनवाई और 1 अगस्त से कैदियों की वापसी होगी। कोरोना के संक्रमण को देखते हुए हाईकोर्ट ने यह आदेश जारी किया है। इसमें 15 दिन के लिए सभी न्यायालयों में बंद रखने कहा गया है। इस अवधि में केवल अतिआवश्यक मामलों की सुनवाई के लिए केवल एक कोर्ट ही खुला रहेगा। साथ ही लंबित प्रकरणों के सुनवाई की तारीख भी तय की गई है। वहीं पैरोल और अंतरिम जमानत पर रिहा किए गए कैदियों का अवकाश 31 दिन के लिए बढ़ा दिया गया है। निर्धारित अवधि के बाद 1 अगस्त को कोर्ट में उपस्थिति दर्ज कराने के निर्देश दिए गए है। इसके पहले हाइकोर्ट ने 1 जुलाई 2020 से सभी कैदियों की वापसी और न्यायालयों में नियमित सुनवाई शुरू करने के आदेश दिए गए थे। लेकिन, लगातार कोरोना के मरीजों के मिलने और संक्रमित लोगों की बढ़ रही संख्या को देखते हुए संशोधित आदेश जारी किया गया है।

इतने कैदियों को राहत
हाईकोर्ट के निर्देश पर अंतरिम जमानत, पैरोल और सजा पूरी करने वाले 2368 कैदियों और बंदियों को रिहा किया गया है। जेलों में क्षमता से अधिक कैदियों की संख्या को देखते हुए अप्रैल में 30 दिन का अवकाश स्वीकृत किया गया था। इस दौरान लगातार लॉकडाउन की स्थिति को देखते हुए सभी के अवकाश बढ़ाए गए। प्रदेश के 33 जेलों में इस समय करीब 18000 कैदियों और बंदियों को रखा गया है।

बाक्श
57 दिन बाद होगी सुनवाई

रायपुर जिला एवं उससे संबंधित गरियाबंद, तिल्दा, राजिम और देवभोग न्यायालय में 1 जुलाई को होने वाली सुनवाई 27 अगस्त को होगी। इसी तरह 2 से लेकर 15 जुलाई तक होने वाली सुनवाई 28 अगस्त से लेकर 15 सितंबर तक क्रमश शासकीय कामकाज के लिए निर्धारित तिथियों में होगी। रायपुर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने बताया कि सभी संबंधित कोर्ट में इसकी सूचना भेज दी गई है। इसकी जानकारी कोर्ट की वेबसाइट पर भी देखी जा सकती है।

Manish Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned