छत्तीसगढ़ी लोकगीत गाकर शिक्षक कर रहा लोगों को कोरोना से बचने जागरूक

पूरे विश्व के साथ भारत में चल रहे कोरोना वायरस की संक्रमण से बचने के लिए अनेको पहल किया जा रहा है। इसी कड़ी में बेलटुकरी गांव के लोक कलाकार शिक्षक संतोष कुमार साहू की पहल अनोखी और प्रशंसनीय है।

By: dharmendra ghidode

Published: 23 Apr 2020, 05:10 PM IST

राजिम. पूरे विश्व के साथ भारत में चल रहे कोरोना वायरस की संक्रमण से बचने के लिए अनेको पहल किया जा रहा है। इसी कड़ी में बेलटुकरी गांव के लोक कलाकार शिक्षक संतोष कुमार साहू की पहल अनोखी और प्रशंसनीय है। उनकी पहल से जनमानस अधिक प्रेरित हो रहे हैं। उन्होंने कोरोना वायरस से बचने के लिए लाकडाउन पालन करने, घरों में रहने, मास्क लगाने, सेनिटाइजर का उपयोग करने, साबुन से बार-बार हाथ धोने, सोशल डिस्टेंस का पालन करने और एक साथ समूह में न रहने के लिए स्वयं छत्तीसगढ़ी एवं हिन्दी गीत लिखकर स्वयं गीत गाकर रिकार्डिंग कर और स्वयं पुरुष और महिला का अभिनय कर छत्तीसगढ़ी वेश भूषा में लोगों को जागरूक कर रहे हैं।
छोटा-छोटा विभिन्न जागरुकता विडियों बनाकर जनमानस को कोरोना वायरस से बचने के लिए सोशल मीडिया के माध्यम से पूरे देश के साथ विश्व के लोंगो को जागरूक कर रहे हैं। साथ ही पुलिस जवानों, सैनिक जवानों और डॉक्टरों की कड़ी मेहनत के लिए भी गीत लिख कर गीत गाकर उनके सम्मान में भी विडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। जो की सराहनीय है। साथ ही स्कूल के बच्चों एवं पालकों को भी वाटसाप के माध्यम से विडियो भेजकर जागरूक कर रहे हैं।
साथ ही कोटवार एवं बुजुर्ग पुरुष एवं महिला की भूमिका निभाकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं। शिक्षक की जागरुकता विडियो को देखकर गरियाबंद जिला कलेक्टर श्याम धावडे, एसपी भोजराम पटेल, एडीशनल एसपी सुखनंदन राठौर, थाना प्रभारी पांडुका संतोष कुमार भुआर्य,थाना प्रभारी राजिम विकास बघेल, थाना प्रभारी फिंगेश्वर बसंत बघेल, जिला शिक्षा अधिकारी, भोपाल तांडी, विकासखंड फिंगेश्वर के मुख्यकार्यपालन अधिकारी स्वेच्छा सिंह एवं अतिरिक्त सीईओ दिनेश सोनी आदि और एस सी ई आर टी रायपुर के प्रध्यापक तथा समस्त डॉक्टर आशीर्वाद प्रदान कर रहे हैं।

गांव-गांव जाकर शिक्षक कर रहे लोगों को प्रेरित
वह अपने घर से तैयार होकर जहां लोगों की भीड़ होती है वहां जाकर लोंगो को जागरुकता गीत गा कर कोरोना से बचने और पूरे भारत देश को कोरोना से मुक्त करने हेतु प्रेरित करते हैं। उन्होंने बताया कि शिक्षक केवल स्कूल तक ही सिमित नहीं होता है। वह समाज, राष्ट्र और विश्व के लिए होता है। इसलिये जिस देश में जन्म लिया है उनको बचाने का कर्तव्य कर रहा हूं। गुरुओं को राष्ट्र निर्माता कहा जाता है। हम सबका दायित्व बनता है कि जब देश में संकट आया हो तो सब राष्ट्र को बचाने का पहल करें। भारत को कोरोना जैसे महामारी से बचाना है। यही समझ कर यह जागरुकता गीत कर रहा हूं। उन्होंने लगभग पैंतीस से चालीस जागरुकता विडियो छत्तीसगढ़ी एवं हिन्दी गीत का वायरल किया है जिसमें पंडवानी, पंथी, देवार भरथरी जय गंगान राऊत नाचा, दोहा, सुवा गीत, आल्हा उदल, ददरिया, कर्मा, जसगीत, पान खाई लेबे मोर राजा, गोरखनाथ गीत, भोजली, रामधुनी, सोहर गीत, गौरी गौरा, होरी, रामायण दोहा, सुनो सुनो सुजान गीत बंदत हव दिन रात ओ, कोरोना मामी झण आबे हमर पारा, मोर गोठ सुनव गा, मोर मन बडिया लागे ददा घरेच भीतरी गीत, बाबु ये नोनी जाना नहीं घर ले बाहिर न गीत बनाकर लोंगो को जागरूक कर रहे हैं।

Corona virus
dharmendra ghidode
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned