कोरोना पर हर वक्त सोचने से आप पड़ सकते हैं बीमार

अपने दिलो-दिमाग पर कोरोना के भय को कतई प्रभावी ना होने दें। हर वक्त कोरोना के बारे में सोचने से आप बेवजह मानसिक तनाव में आ सकते हैं।

By: bhemendra yadav

Updated: 27 Mar 2020, 11:09 PM IST

रायपुर| चीन से विश्वभर में फैले तथा दुनिया में महामारी घोषित हुए कोविड-19 यानी कोरोना वायरस को मात देने के लिए सरकार और समाज के द्वारा अनेकों प्रयास जारी है। ऐसे में अपने दिलो-दिमाग पर कोरोना के भय को कतई प्रभावी ना होने दें। हर वक्त कोरोना के बारे में सोचने से आप बेवजह मानसिक तनाव में आ सकते हैं।

हम जिस विषय में भी बहुत देर तक सोचते व मनन करते हैं वह हम पर हावी हो जाता है। ऐसे में उसका नफा-नुकसान नजर आने लगता है, जो कि किसी के लिए भी खतरनाक हो सकता है।

पढ़े: coronavirus : आम जनता की सहायता के लिए छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में कंट्रोल रुम तैयार, 24 घंटे करेंगे काम

लॉकडाउन की स्थिति में सभी चीजें ठहर सी गई हैं। इसके लिए जरूरी है कि अपनी दिनचर्या में बदलाव लाएं और यदि आवश्यक सेवाओं से नहीं जुड़ें हैं, तो घर से बाहर निकलने से परहेज करें। टीवी, अखबार और सोशल मीडिया में सिर्फ कोरोना के बारे में देखने-समझने और अपनो से सिर्फ उसी बारे में बात करने से बचें। ऐसा करने से आप मानसिक तनाव में आकर अपने साथ ही घर के अन्य सदस्यों को बीमार बना सकते हैं।

पढ़े: आपके घर का दरवाजा आपकी लक्ष्मण रेखा, इसे बिल्कुल न लांघें, नहीं तो बाहर खड़ा राक्षस हरण की प्रतीक्षा कर रहा : भूपेश

इससे ध्यान हटाने के लिए टीवी सीरियल देखने, पुस्तकें पढ़ने आदि की सलाह देते हुए कहा, "खाना बनाने का शौक है तो किचेन में कुछ वक्त बिताएं, यदि आपको घर पर ही रहना है तो अपने शौक को जिंदा रखें। अगर खाना बनाने का शौक है तो अपने हाथों से कुछ नई डिश बनाएं और अपनों के साथ शेयर करें।

पढ़े: छत्तीसगढ़ : चीन के योग शिक्षक लोकेश ध्रुव ने बताई कोरोना वायरस को हराने का तरीका, की ये अपील

पढ़े: Coronavirus : रहस्यमयी बीमारी के इलाज के लिए आखिर कैसा होता है आइसोलेशन वार्ड

पढ़े: कोरोना वायरस से कब मिलेगी मुक्ति, शेयर बाजार का कैसा रहेगा हाल, जानिए क्या कहती है ग्रहों की चाल

bhemendra yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned