scriptThird wave of Corona is not fatal but these caution is necessary | CG Corona Update: कोरोना इस बार घातक नहीं पर सावधानी जरूरी, 90 फीसदी मरीजों का होम आइसोलेशन में इलाज | Patrika News

CG Corona Update: कोरोना इस बार घातक नहीं पर सावधानी जरूरी, 90 फीसदी मरीजों का होम आइसोलेशन में इलाज

CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में कोरोना के मरीजों की रफ्तार लगातार भले भी बढ़ रही है, लेकिन दूसरी लहर की तुलना में इस बार ज्यादा घातक नहीं है। इसके लक्षण, सर्दी-खांसी, बुखार और बदन में दर्द हैं।

रायपुर

Published: January 14, 2022 03:19:53 pm

रायपुर. CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में कोरोना के मरीजों की रफ्तार लगातार भले भी बढ़ रही है, लेकिन दूसरी लहर की तुलना में इस बार ज्यादा घातक नहीं है। इसके लक्षण, सर्दी-खांसी, बुखार और बदन में दर्द हैं। इसलिए कोरोना संक्रमण से बचने के लिए कोविड नियमों का पालन करना अनिवार्य हैं, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है।
coronavirus_case.png
कोरोना इस बार घातक नहीं पर सावधानी जरूरी, 90 फीसदी मरीजों का होम आइसोलेशन में इलाज
प्रदेश में 12 जनवरी तक 27 हजार 425 मरीज एक्टिव है। इनमें से करीब 90 प्रतिशत मरीज घर पर ही रहकर इलाज करा रहे हैं। यही कारण है कि प्रदेश के सरकारी और निजी अस्पतालों में ज्यादातर बेड खाली है। नॉर्मल बिस्तर प्रदेश के अस्पतालों में कुल 5 हजार 936 हैं। जिसमें से मात्र 322 भरे हैं, जबकि 5614 खाली है। इसी तरह ऑक्सीजन बेड की संख्या कुल 9927 हैं, जिसमें से मात्र 256 भी भरे हैं। जबकि 9671 बिस्तर खाली हैं।
सर्दी-जुकाम, बुखार होने पर पैरासिटामॉल और सिट्रिजिन
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार इस बार कोरोना ज्यादा घातक रूप देखने को नहीं मिला है। डॉक्टरों और वैज्ञानिकों ने इसकी पुष्टि की है। इसलिए कोरोना के लक्षण सर्दी-खांसी और बुखार होने पर दी जाने वाले पैरासिटामॉल, सिट्रिजिन और एकाध एंटीबायटिक की दवा दी जा रही है। जो चार-पांच दिन में ठीक हो जा रहे हैं।
वैक्सीन वाले कम हो रहे संक्रमित
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार जिन लोगों कोरोना के वैक्सीन लगा चुके हैं, उन लोगों पर कोरोना का प्रभाव कम पड़ रहा है। यही कारण है कि लोग घर पर यानी होम आइसोलेशन में रहकर उपचार डॉक्टरों की निगरानी में ले रहे हैं। प्रदेश में अब तक 3 करोड़ 27 लाख 64 हजार 770 लोग वैक्सीन लगा चुके हैं।
छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता डॉ. सुभाष मिश्रा ने कहा, कोरोना तेजी से फैल रहा है। लेकिन उतना ज्यादा घातक नहीं है। यही कारण है कि करीब 90 प्रतिशत मरीज होम आइसोलेशन में रहकर इलाज ले रहे हैं।
प्रदेश के अस्पतालों में बिस्तरों की स्थिति
बेड के प्रकार - कुल - भरे- खाली
नॉर्मल बेड - 5936 - 322- 5614
ऑक्सीजन बेड- 9927 - 256 - 9671
एचडीयू बेड - 1398 - 46- 1352
आईसीयू बेड - 1605 - 80- 1525
वेंटीलेटर बेड- 1184- 27 - 1157

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Uttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगानिलंबित एडीजी जीपी सिंह के मोबाइल, पेन ड्राइव और टैब को भेजा जाएगा लैब, खुल सकते हैं कई राजसीएम बड़ा फैसला : स्कूल-होस्टल रहेंगे बंद, घर से ही होगी प्री बोर्ड परीक्षाGuwahati-Bikaner Express derailed:हादसे में अब तक 9 की मौत, जानें इस हादसे से जुड़ी अहम बातेंRajasthan-Gujarat :के लिए अब एक और नया हाइवेतीसरी लहर का खतरनाक ट्रेंड, डाक्टर्स ने बताए संक्रमण के ये खास लक्षणInd vs SA: चेतेश्वर पुजारा कर बैठे बड़ी भूल, कीगन पीटरसन को दिया जीवनदान; हुए ट्रोल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.