चुनाव में उतरीं तीनों देवियां, ईश्वर, आत्मा और नारद भी आजमा रहे भाग्य

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 15 डिग्री तापमान होने के बावजूद सियासी पारा उफान पर है। इसकी वजह यहां हो रहे नगर निगम के चुनाव है। इस बार चुनाव में रोचक यह है कि यहां तीनों देवियों सहित ईश्वर, आत्मा और नारद भी 'लोकतंत्र की आरतीÓ में शामिल होने के लिए भाग्य आजमा रहे हैं।

रायपुर. रायपुर का नगर निगम चुनाव इस बार कई मायनों में खास है। परिसीमन ने सिर्फ वार्डों का भूगोल ही नहीं बदला बल्कि कई दिग्गज पार्षदों का राजनीतिक भविष्य को भी अधर में लाकर खड़ा कर दिया है। ऐसे में रोचक यह है कि इस बार चुनाव मैदान में तीनों देवियां सहित ईश्वर, आत्मा और नारद भी 'लोकतंत्र की आरतीÓ में शामिल होने के लिए भाग्य आजमा रहे हैं।
रायपुर नगर निगम के भाजपा और कांग्रेस प्रत्याशियों के नामों पर नजर डालें तो यहां लोकतंत्र यानी जनता की आरती उतारने के लिए जरूरी सभी तत्व मौजूद हैं। इस आरती में तीनों देवियां पद्मा (लक्ष्मी), पार्वती और सावित्री (सरस्वती का एक नाम) जगह बनाना चाहती हैं तो ईश्वर, आत्मा और नारद भी जी-तोड़ कोशिश कर रहे हैं। आरती के लिए जरूरी दीपक भी प्रकाश के साथ मौजूद है तो आहुति देने के लिए बेदी भी तैयार है। पूजा-अर्चना के लिए सरोज (कमल) भी समर्पित होने को तैयार है। आरती से पहले पवित्र करने के लिए गोदावरी, सरिता भी कतार में हैं।

सुभाष से लेकर तिलक और कामरान भी
इस चुनाव मैदान में गायत्री से लेकर ओंकार और पुरुषोत्तम से लेकर आकाश भी हैं तो सुभाष से लेकर, तिलक और कामरान भी। चंद्रपाल (चंद्रमा के गुरु) के अलावा द्रोपती भी चुनावी वैतरणी पार करने में लगीं हैं।

कांग्रेस में 'सÓ नाम वाले 18 तो भाजपा में 9 प्रत्याशी
इस बार नगर निगम चुनाव में भाजपा और कांग्रेस दोनों दलों ने स नाम वाले प्रत्याशियों की संख्या अधिक है। कांग्रेस ने जहां स नाम वाले 18 प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं तो भाजपा में 9 प्रत्याशी।

Dhal Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned