कानन पेंडारी से विदा होगी बाघिन दुर्गा, ट्रेन में स्पेशल बोगी से ले जाएंगे विशाखापट्टनम

विशाखापत्तनम स्थित इंदिरा गांधी जूलाजिकल पार्क की डीएफओ आर यशोदा मंगलवार को कानन पेंडारी जू पहुंची थीं। उनकी योजना सडक़ मार्ग की बजाय रेलमार्ग से बाघिन लेकर जाने की है।

By: ramdayal sao

Published: 01 Mar 2020, 06:41 PM IST

raipur/बिलासपुर. लिक एक्सप्रेस से कानन पेंडारी जू की टाइग्रेस दुर्गा को विशाखापत्तनम ले जाने के लिए रेलवे ने अनुमति दे दी है। कानन जू के अधिकारियों ने रेलवे अफसरों से इसकी जानकारी ली, साथ ही प्रक्रिया को भी जाना। जिस पर रेलवे का कहना है कि ट्रेन में स्पेशल लगेज बोगी लगेगी। इसमें टाइग्रेस को ले जा सकते हैं। इसके एवज में लगभग एक लाख रुपए दो हजार रुपए खर्च आएगा। यह रकम विशाखापत्तनम जू प्रबंधन पेड करेगा। बताया जाता है 3 मार्च को वहां से एक्सपर्ट आएंगे और वे 4 मार्च को ले जाएंगे। बोगी के अंदर एक पिंजरा होगा। बाघिन इस पिंजरे में कैद रहेगी।

विशाखापत्तनम स्थित इंदिरा गांधी जूलाजिकल पार्क की डीएफओ आर यशोदा मंगलवार को कानन पेंडारी जू पहुंची थीं। उनकी योजना सडक़ मार्ग की बजाय रेलमार्ग से बाघिन लेकर जाने की है। उन्होंने अपनी इस योजना के बारे में बताया। इस पर जू के अधिकारी रेल मंडल कार्यालय पहुंचे और सीनियर डीसीएम पुलकित सिघल से मुलाकात की। उन्होंने प्रक्रिया की विधि के बारे में पूछा। उन्होंने कहा कि हिंसक जानवर ट्रेन से भेजने का प्रावधान है, लेकिन इसके लिए वीपी बुक कराना होगा। यह स्पेशल लगेज बोगी है। इसी के अनुरूप उनका शुल्क देना होगा।

- कानन जू की टाइग्रेस को लिंक एक्सप्रेस से विशाखापत्तनम भेजा जाएगा। रेलवे में पंजीयन कराने के बाद शुल्क पटा दिया गया है बाघिन को टे्रन में ले जाने एक लाख से अधिक खर्च आएगा। बाघिन को ले जाने के लिए 3 मार्च को टीम आएगी, और 4 मार्च को ले जाएगी।
होरेश शर्मा रेंजर कानन पेंडारी

ramdayal sao Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned