रेत माफिया द्वारा अवैध खनन करना पड़ा भारी, अचानक आये बाढ़ में डूब गए ट्रैक्टर

ग्राम मटियारी के दो लोग राकेश यादव, बलराम यादव मंगलवार चार-चार श्रमिक लेकर अरपा नदी के सेंदरी में रेत का अवैध खनन पहुंचे थे। रेत निकासी के दौरान नदी का जलस्तर अचानक बढ़ गया। आनन-फानन में दोनों टै्रक्टर को नदी में ही छोड़कर मालिक और मजदूर जान बचाकर भागे।

By: Karunakant Chaubey

Published: 05 Aug 2020, 08:56 PM IST

बिलासपुर. अरपा नदी में रेत का अवैध खनन व परिवहन जमकर हो रहा है। इस बात की गवाही मंगलवार की घटना से मिल रही है। यहां नदी में जलस्तर के बढऩे के कारण रेत का अवैध खनन कर रहे दो टै्रक्टर डूब गए। अधिकारियों का कहना है कि दोनों टै्रक्टर को निकालने के लिए भाजपा विधायक प्रतिनिधि ने अरपा भैंसाझार बैराज के गेट को बंद करने की बात कही। इधर लगातार बारिश से नदी का जलस्तर निरंतर बढ़ता गया और बुधवार को दोनों टै्रक्टर पूरी तरह जलमग्न हो गए ।

ग्राम मटियारी के दो लोग राकेश यादव, बलराम यादव मंगलवार चार-चार श्रमिक लेकर अरपा नदी के सेंदरी में रेत का अवैध खनन पहुंचे थे। रेत निकासी के दौरान नदी का जलस्तर अचानक बढ़ गया। आनन-फानन में दोनों टै्रक्टर को नदी में ही छोड़कर मालिक और मजदूर जान बचाकर भागे। नदी का जलस्तर धीरे-धीरे बढ़ता गया और टै्रक्टर डूबते चले गए।

बैराज का गेट बंद करने विधायक प्रतिनिधि का फोन

अधिकारियों ने बताया कि बेलतरा के भाजपा विधायक प्रतिनिधि राजेंद्र अग्रहरी ने नदी में डूबे टै्रक्टरों को निकालने के लिए कोटा के कार्यपालन अभियंता एके तिवारी को फोन कर बैराज का गेट बंद करने को कहा। कार्यपालन अभियंता ने शाम होने और टै्रक्टर को निकालने के लिए नदी में जाने पर जान जोखिम में होने की सलाह दी थी। बुधवार को फिर विधायक प्रतिनिधि के फोन के कारण कुछ देर के लिए गेट बंद किया गया ।

लेकिन अरपा नदी का जलस्तर कम होने की बजाए और बढ़ गया क्योंकि घोंघा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ता गया। इसके साथ ही सहायक नालों का पानी अरपा नदी में जाने से जलस्तर कम नहीं हो सका । बकायदा कार्यपालन अभियंता ने विधायक प्रतिनिधि के फोन करने की पुष्टि की है।

पूरा डूब गया टै्रक्टर

अरपा नदी का जलस्तर बढऩे से सेंदरी में नदी के बीच मेंं दोनों टै्रक्टर पूरी तरह डूब गए। यह जानकारी भाजपा विधायक प्रतिनधि ने दी। उन्होंने बताया कि वे स्वयं मौके पर टै्रक्टर निकलवाने गए थे। लेकिन नदी का जलस्तर बढऩे से दोनों टै्रक्टर डूब गए है। जलस्तर घटने पर वाहनों को निकाला जाएगा।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned