धान खरीदी के दौरान मचेगी आफत, अभी ढाई करोड़ बारदाने नहीं ले पाए वापस

- प्रदेश भर के राशन दुकानों और समितियों से अप्रैल से अक्टूबर तक 89 लाख 13 हजार 600 बारदाना शासकीय राशन दुकानों से वापस मिला है।

 

By: Bhupesh Tripathi

Published: 30 Oct 2020, 11:31 PM IST

रायपुर। बारदाना आपूर्ति गड़बड़ाने का असर प्रदेश में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी पर भी पड़ सकता है। समय पर बारदाना उपलब्ध न होने की वजह से इस वर्ष निर्धारित समय से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी को लेकर कई तरह की आशंकाएं शुरू हो गई है। सरकार धान खरीदी निर्धारित समय पर शुरू करने की कवायद में जुटी हुई है।

प्रदेश भर के राशन दुकानों और समितियों से अप्रैल से अक्टूबर तक 89 लाख 13 हजार 600 बारदाना शासकीय राशन दुकानों से वापस मिला है। जबकि अभी 2 करोड़ 24 लाख 20 हजार 988 लेना बाकी है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि अभी विभाग के पास 22 दिन का ही बारदाना है। जबकि चार माह तक धान खरीदी और मिलिंग की प्रक्रिया चलती रहेगी। कोरोना संकट के चलते कोलकाता से बारदाना आपूर्ति नहीं होने से धान खरीदी में समस्या होने वाली है। कोरोना के चलते बारदाना बनाने वाली सभी फैक्टरियां बंद हैं। बारदाने निर्मित नहीं हो रहे हैं। बीेते साल भी बारदाना की कमी से कई जिलों में धान खरीदी प्रभावित हुई थी।

बेच चुके है बारदाना
पत्रिका को मिली जानकारी के मुताबिक हर साल सिर्फ 10 प्रतिशत बारदाना ही राशन दुकानों से लिया जाता था। इसके पीछे कलेक्शन करने वाली ठेकेदार की लापरवाही रही है। अब राशन दुकान संचालकों ने बारदाना बेच दिया है। एेसे में बारदाना वापस लेने में समस्या होगी।

हर सप्ताह हो रही समीक्षा
बारदानों को लेकर खुद खाद्य विभाग की सचिव हर सप्ताह प्रदेश स्तर पर समीक्षा कर रहे हैं। अहम बात यह है कि अधिकारियों ने अब कड़ा रुख अपनाते हुए राशन दुकान संचालकों को नोटिस जारी करना शुरू कर दिया है।

बढेग़ा धान और किसान
बीते वर्ष राज्य में समर्थन मूल्य पर 83.94 लाख मीटरिक टन धान की खरीदी हुई थी। राज्य के लगभग 19 लाख किसानों ने धान बेचा था। राज्य सरकार द्वारा राज्य के किसानों को उनकी उपज का बेहतर मूल्य दिलाने के लिए शुरू की गई राजीव गांधी किसान न्याय योजना के माध्यम से मिल रही प्रोत्साहन राशि के चलते राज्य में खेती-किसानी को लेकर किसानों में उत्साह बढ़ा है। ऐसी स्थिति में किसानों की संख्या एवं धान उत्पादन में भी बढ़ोतरी की संभावना है।

बारदाना राशन दुकानों से वापस लेने के लिए जिला स्तर पर प्रक्रिया चल रही है। कार्य में तेजी आई है। बारदाना वापस नहीं करने वालों पर कार्रवाई भी की जाएगी।
कमलप्रीत सिंह, सचिव, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned