परेशानी : छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन से पहले ही महंगाई तोड़ रही लोगों की कमर, जानिए आप पर क्या पड़ेगा असर...

1. रसोई में तड़का लगाना हो रहा मुश्किल
2. चिकन-मटन के दाम में उछला
3. सिगरेट, गुटखा की जोरो से हो रही कालाबाजारी

By: bhemendra yadav

Updated: 20 Sep 2020, 08:21 PM IST

रायपुर. कोरोना के बढ़ते रफ्तार को देखते हुए छत्तीसगढ़ में बस्तर को छोड़कर प्रदेशभर में 22 सितम्बर से होने वाले लॉकडाउन से पहले ही महंगाई लोगों की जेब ढीली करा रही है। खाद्य सामग्री से लेकर सभी तरह के सामानों के दाम तेजी से बढ़ गए हैं। पेट्रोल, दाल, सब्जियां, आलू-प्याज, चिकन और मटन से लेकर जरूरत की सारी सामग्री महंगी हो गई है। कोरोनाकाल के संकट में कुछ गैर जरूरी सामानों की खूब कालाबाजारी हो रही है।

90 से 100 रुपए किलो तक बिक रहा है भिंडी, अभी और बढ़ सकते हैं सब्जी के दाम
यह है सब्जी के दाम
लॉकडाउन से पहले सब्जियों के दाम पहले ही आसमान छू रहे थे। अब एक बार फिर लॉकडाउन की खबर आने से पहले टमाटर के दाम तेजी से बढ़े हैं।
आलू 50 रुपए, टमाटर 60-70 रुपए, बैगन 40 रुपए, गोभी 90 रुपए, गिलकी 70 से 80 रुपए, कद्दू 40 रुपए, भिंडी 100 रुपए, लौकी 40 रुपए, तोरई 60 रुपए, हरी धनिया 170-180 रुपए, हरी मिर्च 150 रुपए, कोचई 40, गवारफल्ली 60
नोट: सभी भाव प्रतिकिलो में

डीजल महंगा होने से और बढ़ेगी महंगाई
डीजल का दाम बढऩे से जरूरी और गैरजरूरी सामान और महंगे होंगे। प्रदेश में पेट्रोल और डीजल का मूल्य बढ़ गया है। वह भी तब जबकि अंतरर्राष्ट्रीय स्तर पर क'चे तेल का मूल्य बहुत नीचे हो चुका है। मूल्य बढऩे पर डीजल से चलने वाले माल वाहनों का किराया बढऩा तय है। इससे बाजार में महंगाई और बढ़ेगी। दाल, चीनी, चावल, आटा और सब्जियों के भाव पर असर पड़ेगा। इससे हर घर में रसोई का खर्च बढऩा तय है।

10 रुपए बढ़ गए खाद्य तेल के भाव
लॉकडाउन के समय में खाद्य तेल महंगा हो गया है। एक महीने में सरसों और रिफाइंड तेल का भाव 10 रुपए प्रति किलो/लीटर तक बढ़ गया है। अप्रैल में रिफाइंड तेल 110 रुपए किलो/लीटर बिक रहा था। इस समय रिफाइंड 120 रुपये प्रति किलो/लीटर बिक रहा है। वहीं आटा 28 से 35 रुपये किलो बिक रहा है।

अरहर, मूंग, उड़द, लाल मसूर दाल हुई महंगी
थोक व फुटकर बाजार में अरहर, मूंग, उड़द और लाल मसूर दाल के दामों में भी काफी इजाफा हो गया है। थोक व फुटकर बाजार में उड़द और मूंग दाल 10 रुपये किलो तक महंगी हुई है। मसूर दाल का भाव दो रुपये किलो तक बढ़ गया है। अरहर दाल 100 से 120 रुपये किलो बिक रही है।

चिकन-मटन के दाम में उछला
लॉकडाउन के पहले ही मटन और चिकन मंहगा हो गया है। सितम्बर में मटन 600 रुपये और चिकन 180 रुपये किलो में बिक रहा था। लॉकडाउन के बाद चोरी-छिपे बाजार में मटन 750 से 800 रुपए किलो तक बिकने की उम्मीद जताया जा रहा है। पिछले कुछ दिनों से मटन 650 रुपए किलो बिक रहा है।

सिगरेट, गुटखा की जोरो से हो रही कालाबाजारी
लॉकडाउन से पहले सिगरेट और गुटखा की कालाबाजारी शुरू हो गई। थोक विक्रेताओं ने सिगरेट, गुटखा की कालाबाजारी शुरू कर दी है। बताते हैं कि डिब्बे वाला गुटखा निर्धारित दर से 200 रुपये अधिक कीमत तक बेचा जा रहा है। प्रति पैकेट सिगरेट के दाम 30 से 50 रुपये तक बढ़ाए गए हैं। फुटकर दुकानदार कहते हैं कि थोक में गुटखा और सिगरेट महंगा मिल रहा है।

COVID-19
Show More
bhemendra yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned