प्रैक्टिस टाइम: यूजीसी नेट 2 दिसंबर से, शेड्यूल जारी- परीक्षा की ऐसे करें तैयारी

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने यूजीसी नेट दिसंबर की परीक्षा के लिए विषय और तिथि के साथ शेड्यूल जारी कर दिया है। परीक्षा 2 दिसंबर से शुरू हो रही है। इस बार परीक्षा कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट पर आधारित होगी।

By: ashutosh kumar

Updated: 27 Nov 2019, 07:51 PM IST

रायपुर. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने यूजीसी नेट दिसंबर की परीक्षा के लिए विषय और तिथि के साथ शेड्यूल जारी कर दिया है। परीक्षा 2 दिसंबर से शुरू हो रही है। इस बार परीक्षा कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट पर आधारित होगी। एडमिट कार्ड पहले ही जारी कर दिया गया था। अब अभ्यर्थियों के लिए परीक्षा की शिफ्ट, विषय और सब्जेक्ट कोड के साथ डिटेल शेड्यूल जारी किया गया है। अभ्यर्थी इसकी डिटेल लिस्ट एनटीए की वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं। परीक्षा 2 दिसंबर से 6 दिसंबर के बीच दो शिफ्टों में आयोजित की जाएगी।

पूर्वाभ्यास कर करें अपना आंकलन
आपको बता दें कि यदि आप विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में लेक्चरर बनने की इच्छा रखते है तो इसके लिए आपके पास यूजीसी नेट से अच्छा मौका कोई दूसरा नहीं है। राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा यह निर्धारित करने के लिए आयोजित की जाती है कि क्या उम्मीदवार सहायक प्रोफेसर, जूनियर रिसर्च फेलो बनने लायक है या नहीं। प्रैक्टिस पेपर सॉल्व कर आप अपनी तैयारी का आकलन कर सकते हैं। परीक्षा में सफल होने के लिए एक बेहतर योजना की जरूरत होती है। इसलिए यूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा में सफल होने के लिए सबसे पहले सिलेबस और प्रश्नों के ट्रेंड के बारे में समझना जरूरी है। इस परीक्षा को पास करने के बाद आप किसी विश्वविद्यालय में शिक्षक बनाने के योग्य हो जाते है।

प्रैक्टिस टाइम: यूजीसी नेट 2 दिसंबर से, शेड्यूल जारी- परीक्षा की ऐसे करें तैयारी

जीआरएफ के लिए आयु 30 वर्ष होना जरूरी
यूजीसी नेट परीक्षा में जूनियर रिसर्च फेलोशिप (जीआरएफ) के लिए आपकी आयु 30 वर्ष होना चाहिए और सहायक प्रोफेसर के लिए कोई आयु सीमा निर्धारित नहीं है। यदि आप इस परीक्षा में सम्मिलित होना चाहते है तो आपके पोस्ट ग्रेजुएशन में 55त्न अंक होना चाहिए और अगर आपका पोस्ट ग्रैजुएट का लास्ट ईयर चल रहा है तो भी आप इस परीक्षा में सम्मलित हो सकते है इसके साथ ही इसमें आरक्षित वर्ग के लिए 5त्न अंक की छूट दी गई है।

साल में दो बार आयोजित होती है परीक्षा
यह परीक्षा एक वर्ष में दो बार जून और दिसम्बर महीने में आयोजित की जाती है जिसका नोटिफिकेशन आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर मार्च और सितम्बर में ही मिल जाएगा। इस परीक्षा में 2 पेपर होते है पहला प्रश्न पत्र 100 अंकों का होता है जिसमें 50 प्रश्न होते है। जबकि दूसरा प्रश्न पत्र 200 अंकों का होता है जिसमें 100 प्रश्न पूछे जाते है। इन दोनों प्रश्न पत्रों का समय 3 घंटे का होता है जिन्हें एक साथ लिया जाता है। हमें इनके बीच बस कुछ समय मिलता है इन पेपर में सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ होते है।

कैसे करें कम समय में यूजीसी नेट परीक्षा के लिए तैयारी
अभ्यर्थियों को पुरानी और परीक्षा के नए पैटर्न के आधार पर विभिन्न विषयों का अध्ययन करने की भी सलाह दी जाती है। अभ्यर्थियों को बुनियादी अवधारणाओं के साथ पूरी तरह से तैयार होना चाहिए और प्रश्नों को सुलझाने और अभ्यास करने के दौरान उन्हें लागू करना चाहिए। अभ्यर्थियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे अगले चरण में जाने से पहले परीक्षा पाठ्यक्रम से संबंधित सभी विषयों से पूरी तरह से पूर्ण हों।

अभ्यास करना
अभ्यर्थियों को तैयारी चरण के लिए सात दिनों से अधिक समय नहीं देना चाहिए। यह सबसे महत्वपूर्ण समय है क्योंकि उम्मीदवारों को यूजीसी नेट में अपना समय बेहतर तरीके से प्रबंधित करना सीखना चाहिए। वे अपने स्कोर को बेहतर बनाने में सक्षम होने के लिए अधिकतम संख्या में प्रश्नों का सही प्रयास करने में सक्षम होना चाहिए और अलग-अलग विषयों को व्यक्तिगत रूप से भी मॉनिटर करना चाहिए। अभ्यर्थियों को अनुभागों का अभ्यास करना चाहिए, इस तरह वे हर वर्ग में प्रत्येक विषय के लिए गुणवत्ता का समय देने में सक्षम होंगे। उम्मीदवारों को परीक्षा में विषयों को बेहतर तरीके से पकडऩे के लिए रफ वर्क और पिछले साल के प्रश्न पत्रों का अभ्यास करने के लिए इस समय भी उपयोग करना चाहिए।

संशोधन करना
तीसरा और आखिरी चरण तब होता है जब उम्मीदवारों ने पूरी तरह से अध्ययन पूरा कर लिया है और संशोधन चरण में प्रवेश कर रहे हैं। यहां उम्मीदवारों को उन्हें विधिवत करने की आवश्यकता है जिनका पहले अध्ययन किया गया था और अभ्यास किया गया था। अभ्यर्थियों को पाठ्यक्रम से संबंधित बुनियादी अवधारणाओं के बारे में अपने ज्ञान को भी ब्रश करना चाहिए। अभ्यर्थियों को परीक्षणों को हल करने की अपनी आदत भी जारी रखनी चाहिए क्योंकि यह उन्हें परीक्षा के दिन तैयार करेगी।

स्मार्ट उपकरण का प्रयोग करें
अभ्यर्थियों को फ्लैश कार्ड और स्वयं निर्मित नोट्स जैसे उपकरणों की सहायता लेनी चाहिए, कि वे अपने नेट परीक्षा की तैयारी के दौरान तैयार होंगे। इस तरह, उनके पास आवश्यक जानकारी के लिए एक त्वरित संदर्भ बिंदु होगा। अगर एक बार उम्मीदवार परीक्षा के लिए पाठ्यक्रम का अध्ययन करने की प्रक्रिया से गुजर चुके हैं, तो आत्म-मूल्यांकन करना महत्वपूर्ण है। पिछले परीक्षण पत्रों का अभ्यास, पिछले साल के कागजात और नमूना प्रश्न पत्र उम्मीदवारों के आत्म-मूल्यांकन का विकल्प चुन सकते हैं। इन परीक्षणों के परिणामों का पूरी तरह से विश्लेषण किया जाना चाहिए और निकट भविष्य में इसी तरह की गलतियों से बचना चाहिए। यूजीसी नेट परीक्षा की तिथि 2 से 6 दिसंबर 2019। परिणाम 31 दिसंबर 2019 को घोषित होंगे ।

Show More
ashutosh kumar Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned