सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में टीकाकरण में बरती जा रही लापरवाही, प्रशासन मौन

टीका लगने के बाद दर्द, बुखार की दवाई नहीं देने से लोगों को हो रही परेशानी

By: dharmendra ghidode

Published: 07 Apr 2021, 06:45 PM IST

कसडोल. खण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉ. सी एस पैकरा की निगरानी में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कसडोल में चल रहे कोरोना टीकाकरण में बरती जा रही लापरवाही । सोशल डिस्टेंसिंग व कोरोना गाइड लाइन की उड़ाई जा रही धज्जियां। टीकाकरण के लिए उमड़ रही भीड़ को सुव्यवस्थित करने स्वास्थ्य विभाग की उदासीनता से अस्पताल से ही संक्रमण बढऩे का खतरा मंडरा रहा है। वहीं, टीकाकरण के बाद लोगों को संभावित बुखार आदि की दवाई नहीं दी जा रही है, जबकि नियामानुसार टीका लगते ही उन्हें तुरंत दवाई दी जानी चाहिए।
कोरोना का टीका: वैक्सीनेशन के लिए कसडोल नगर व क्षेत्र के नागरिक स्वस्फूर्त होकर टीका लगवाने अस्पताल या टीकाकरण केन्द्रों तक आ रहे हैं। कसडोल नगर व आसपास के गांव के लोगों का टीकाकरण सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कसडोल में विकासखण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉ. सीएस पैकरा की निगरानी में किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा टीकाकरण के लिए आ रहे लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने समुचित व्यवस्था नहीं की गई है और न ही लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। जिसके कारण वरिष्ठ नागरिकों को भी जमीन पर एक- दूसरे से सटकर बैठना पड़ता है।
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कसडोल में टीकाकरण के लिए लग रही भीड़ को सुव्यवस्थित करने के कोई कारगर उपाय भी नहीं किए गए हैं, जिसके कारण लोगों पर अस्पताल से ही संक्रमण बढऩे का खतरा मंडरा रहा है। यहां पर टीका लगवाने के बाद लोगों को किसी तरह की कोई दवाई वितरित नहीं किया जा रहा है, जबकि टीकाकरण के बाद बुखार या शरीर में दर्द की शिकायत की संभावना को देखते हुए टीकाकरण के तुरंत बाद टीका लगवाने वालों को संबंधित दवाई नियमानुसार नि:शुल्क वितरण किया जाना है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कर्मचारियों की लापरवाही के कारण टीका लगावाने वाले लोगों को अनायास बुखार वं बदन दर्द के कारण रातभर परेशान होना पड़ रहा है फिर दूसरे दिन अन्य चिकित्सक के पास जाकर दवाई लेना पड़ रहा है। कोरोना के टीकाकरण के लिए देशभर के विशेषज्ञ डॉक्टरों ने स्पष्ट रूप से कहा है कि टीका लगने के बाद बुखार या बदन दर्द संभावित है और उसके लिए टीकाकरण कराने वाले को तुरंत दवाई दिया जाना ह । कसडोल विकास खण्ड के अन्य टीकाकरण केन्द्रों में शासन के निर्देशानुसार टीका लगाने के बाद बुखार व दर्द की दवाई वितरित किया जा रहा है। विकास खण्ड चिकित्सा अधिकारी की उपस्थिति में ही सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में टीकाकरण के लिए बरती जा रही लापरवाही के लिए जिम्मेदार कौन है।

दवाई दिया जाना अनिवार्य नहीं है। शासन द्वारा जारी सर्कुलर के अनुसार टीकाकरण किया जा रहा है।
डॉ. सीएस पैकरा,बीएमओ, कसडोल

dharmendra ghidode
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned