खेतों में झरियानुमा गड्ढा खोदकर गंदा पानी पीने को मजबूर ग्रामीण

मैनपुर से लगभग 44 किलोमीटर दूर बसा ग्राम भाठापानी के टिकरापारा वार्ड 12 के मोहल्लेवासी आज भी अपनी प्यास बुझाने के लिए खेतों में 5 फ ीट झरियानुमा कुआं खोदकर गंदा पानी पीने को मजबूर है।

मैनपुर. विकासखंड मुख्यालय मैनपुर से लगभग 44 किलोमीटर दूर बसा ग्राम भाठापानी के टिकरापारा वार्ड 12 के मोहल्लेवासी आज भी अपनी प्यास बुझाने के लिए खेतों में 5 फ ीट झरियानुमा कुआं खोदकर गंदा पानी पीने को मजबूर है। उल्लेखनीय है कि ग्राम भाठापानी में आजादी के ७२ वर्षों बाद भी एक हैण्डपंप शासन द्वारा नहीं लगाया जा सका है।
इसके चलते यहां ग्रामीण झरिया के सहारे पीने का पानी लेते है। जहां 21वीं सदी में भी ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल मिलना बहुत ही दुर्भाग्य जनक है। वहीं ग्रामीणों ने कई बार हैण्डपंप खनन करवाने की मांग भी कर चुके है। इसके चलते दो स्थानों पर हैण्डपंप पूर्व में खनन किया गया था लेकिन इसमें एक खराब हो चुका है।
वहीं भाठापानी टिकरापारा के ग्रामीण हैण्डपंप के दूर होने एवं पानी का अन्य कोई साधन नहीं होने के चलते खेतों में खुद झरियानुमा गढडे-कुआं खोदकर दैनिक जीवन के लिए गंदे पानी का उपयोग कर रहे है। वहीं गंदे पानी के उपयोग से यहां के ग्रामीणों में संक्रमित बिमारियों का प्रकोप देखने को मिल रहा है। इस संबंध में कांग्रेस जन समस्या निवारण प्रकोष्ठ मैनपुर ब्लॉक उपाध्यक्ष गुरु सोनवानी ने दौरा कर क्षेत्र के अधिकांश गांवों में हैण्डपंप नहीं होने के कारण पेयजल की समस्या उत्पन्न होने की जानकारी दी।
उन्होने बताया कि ग्राम पंचायत कोचेंगा के आश्रित ग्रामों के मोहल्लो में हैण्डपंप नहीं होने के कारण यहां के ग्रामीण झरिया खोदकर झरिया का पानी अपने दैनिक दिनचर्या के उपयोग मे ले रहे है। गत दिनों इसी आश्रित ग्राम के रामजी औलादराम वार्ड में पीएचई विभाग द्वारा झरिया का पानी पी रहे ग्रामीणों की समस्याओं को संज्ञान में लेकर हैण्डपंप खनन करवाया था।
तब टिकरापारा वार्ड के ग्रामीणों द्वारा हैण्डपंप खनन करने की मांग पीएचई विभाग से किया गया। इस संबंध में टिकरापारा वार्ड के ग्रामीण कविराम पिता मंगलसिंह, दिवान पिता सुकचंद, सगनूराम पिता सोमारू, बुधराम पिता जोहन, जोहन पिता दयाराम, चमरू पिता बुधुराम, महेश पिता रूपसिंह, सोपसिंह पिता चैयतन सिंह ने बताया कि हमारे टिकरापारा वार्ड में पीने के पानी का कोई अन्य साधन नहीं होने के कारण हम मजबूरीवश खेतों में झरियानुमा कुआं बनाकर यहां के पानी का उपयोग करते है।
शासन से पूर्व में हैंडपंप खनन की मांग की गई थी, तब मोहल्लेे से दूर हैंडपंप खनन किया गया। दूरी अधिक होने व हैंडपंप के खराब होने के कारण ग्रामीण झरिया बनाकर पानी निकाल रहे हंै। ग्रामीणों ने हैंडपंप खनन करने की मांग जिला प्रशासन से की है।

dharmendra ghidode
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned