चैंबर चुनाव में करनी है वोटिंग तो जान लें यह नया नियम

Lalit Singh

Publish: Sep, 16 2017 05:40:59 (IST)

Raipur, Chhattisgarh, India
चैंबर चुनाव में करनी है वोटिंग तो जान लें यह नया नियम

हंगामे और शोर-शराबे के बीच आखिरकार चैंबर चुनाव तारीख को लेकर कार्यकारिणी की बैठक में निर्णय ले लिया गया।

रायपुर. हंगामे और शोर-शराबे के बीच आखिरकार चैंबर चुनाव तारीख को लेकर कार्यकारिणी की बैठक में निर्णय ले लिया गया। चैंबर चुनाव की तारीख 30  दिसंबर या 6 जनवरी को कराए जाने पर सहमति बनी हैं, जिसमें से 6 जनवरी की तारीख को फाइनल माना जा रहा है। नए साल की शुरूआत की वजह से 30 दिसंबर को चुनाव होना मुश्किल है। चुनाव तारीख तय होते ही आचार संहिता भी लागू हो चुकी है, जिसमें प्रत्याशियों का अनर्गल आरोप-प्रत्यारोप प्रतिबंधित होगा। कार्यकारिणी की बैठक में एक महत्वपूर्ण फैसले के अंतर्गत एक फर्म, एक वोट का फार्मूला लागू किया गया है, जिसमें चैंबर सदस्य अपने एक से अधिक फर्म होने के बाद भी एक वोट ही डाल पाएंगे। पिछले चुनाव में यह नियम लागू नहीं था।

कार्यकारिणी की बैठक में चुनाव तारीख को लेकर हंगामा भी हुआ। कई सदस्य 16 दिसंबर को चुनाव कराने की मांग को लेकर अड़े हुए थे, लेकिन शादियों के सीजन की वजह से इसका विरोध हुआ, वहीं बहुमत के आधार पर चुनाव तारीख पर फैसला लिया गया। बैठक में चैंबर संरक्षक भारामल मत्थानी, दिलीप सिंह होरा, जगदेव सिंह गरचा, चैंबर अध्यक्ष अमर परवानी, चेयरमेन अमर धावना, पूरनलाल अग्रवाल, कार्यकारी अध्यक्ष जितेंद्र बरलोटा, योगेश अग्रवाल, महामंत्री विनय बजाज, प्रभारी महामंत्री जितेंद्र दोशी, कोषाध्यक्ष अरविंद जैन, उपाध्यक्ष विक्रम सिंहदेव आदि मौजूद थे।

रायपुर से बाहर के सदस्यों को मिलेगा खाना
चैंबर कार्यकारिणी की बैठक में फैसला हुआ कि पिछली गलतियों से सबक लेते हुए सिर्फ बाहरी जिलों से आने वाले चैंबर सदस्यों के लिए खाने की व्यवस्था होगी। इससे पहले चैंबर ने भोजन व्यवस्था खत्म करने की बात कही थी, लेकिन कार्यकारिणी की मांग के बाद बाहरी जिलों के सदस्यों के लिए खाने की व्यवस्था पर सहमति बनी। पदाधिकारियों ने यह बात बताई कि पिछले चुनाव में भोजन व्यवस्था में बदइंतजामी की वजह से सुदुर जिलों के सदस्यों को खाना नहीं मिल पाया था।

1 लाख से अधिक खर्च नहीं कर पाएंगे प्रत्याशी

चैंबर चुनाव में खर्च की सीमा बढ़ाने का प्रस्ताव कार्यकारिणी ने नामंजूर कर दिया। चुनाव में प्रत्याशी अधिकतम 1  लाख रुपएव पैनल की ओर से १० लाख से अधिक खर्चनहीं किया जा सकेगा।इस चुनाव में खर्च की सीमा १० लाख से अधिक बढ़ाने का प्रस्ताव लाया गया था।

बाहरी जिलों में मतदान नही

बाहरी जिलों में चुनाव कराने की मांग पर कार्यकारिणी ने स्वीकृति नहीं दी। मतदान रायपुर में होंगे, वहीं भिलाई को अलग जिले का दर्जा दिया गया है। रायपुर जिले से 8 उपाध्यक्ष, 8  मंत्री व अन्य जिले से एक उपाध्यक्ष, एक मंत्री का चुनाव होगा।

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned