जहां कभी जाने से लगता था डर, अब वहां मैराथन में दौड़ेंगे देशभर के लोग

छत्तीसगढ़ में बस्तर के नारायणपुर जिले के नाम सुनते ही माओवादी धमक की तस्वीर सामने आ जाती है। लेकिन अब यहां हालात ऐसे नहीं है। यहां 8 फरवरी को रन फॉर अबूझमाड़-रन फॉर पीस मैराथन का आयोजन किया गया है। इसा उद्देश्य अबूझमाड़ की शांति का संदेश के अलावा सौंदर्य और संस्कृति से अवगत कराना है।

रायपुर. छत्तीसगढ़ के जिला प्रशासन नारायणपुर और भिलाई इस्पात संयंत्र के संयुक्त तत्वाधान में वनांचल नारायणपुर में आठ फरवरी को रन फॉर अबूझमाड़-रन फॉर पीस मैराथन 2020 का आयोजन किया जाएगा। राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली इस मैराथन का उद्ेश्य विश्व स्तर पर अबूझमाड़ की शांति का पैगाम देना और यहां के सौन्दर्य और संस्कृति से अवगत कराना है। इसके लिए जिला प्रशासन नारायणपुर द्वारा प्रदेश और देश के लोगों से अबूझमाड़ पीस मैराथन 2020 में शामिल होने की अपील की गई है। यह जिला प्रशासन का दूसरा आयोजन है। मैराथन का आयोजन सबेरे साढ़े छह बजे हाई स्कूल मैदान जिला मुख्यालय नारायणपुर से प्रारंभ होगा। इस हॉफ मैराथन की दूरी 21 किलोमीटर की होगी। जीतने वाले प्रतिभागियों को आकर्षक पुरस्कार दिया जाएगा। प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागी को एक लाख 21 हजार रूपए, दूसरे स्थान पर आने वाले प्रतिभागी को 61 हजार रूपए, तृतीय स्थान पर आने वाले प्रतिभागी को &1 हजार रूपए, चतुर्थ स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागी को 21 हजार रूपए और पंचम स्थान पर आने वाले प्रतिभागी को 11 हजार रूपए का पुरस्कार दिया जाएगा।

Dhal Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned