लॉकडाउन में कर सकेंगे शादी लेकिन न बैंडबाजा और न 50 से अधिक होंगे बाराती

सात फेरे लेने के लिए सशर्त अनुमति जरूरी: परिचय सम्मेलन कर चुकी सामाजिक संस्थाएं भी बना रही प्लान

By: Devendra sahu

Published: 05 May 2020, 06:41 PM IST

रायपुर . लॉक डाउन संकट के कारण पूरी तरह से शान-शौकत और दिखावे वाली शादियों पर पूरी तरह से पाबंदी लग चुकी है। विवाह समारोह अब सिर्फ सादगी के साथ ही होंगे। यानी कोई भी तामझाम नहीं, वर-वधू पक्ष से 50 लोगों की मौजूदगी में सात फेरे की रस्में पूरी करानी होगी।
ऐसा ही प्लान अनेक सामाजिक संस्थाएं बना रहीं, जिन्होंने लॉकडाउन से पहले परिचय सम्मेलन के माध्यम से रिश्ते तय कराने की पहल पूरी कर चुके हैं। शहर में तो बड़ों घरानों में अधिकांश शादियां देवउठनी एकादशी के बाद से फरवरी के बीच ही संपन्न हो जाती हैं, लेकिन ग्रामीण अचंलों में मई और जून महीने में ही सबसे अधिक विवाह समारोह होते हैं। जिस पर यह कोरोना आपदा आफत बन चुका है। इसी बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय की गाइड लाइन में सिर्फ वर-वधू पक्ष को मिलाकर 50 लोगों के शामिल होनेकी लक्ष्मण रेखा तय की जा चुकी है।
उसी के दायरे में रहकर विवाह उत्सव लोग कर सकेंगे। समाज के अनेक संगठन जो ग्रामीण अचंलों तक जुड़े हुए हैं, वे अब सशर्त विवाह कराने के लिए शासन-प्रशासन के सामने अर्जी लगा रहे हैं।
20 जोड़ों का तय हो चुका है रिश्ता
छत्तीसगढ़ पिछड़ा वर्ग समाज के प्रदेश अध्यक्ष सूरज निर्मलकर बताते है कि उनके समाज में सबसे अधिक विवाह समारोह गर्मी के दिनों में ही होते हैं। परिचय सम्मेलन करा लिए थे, जिसमें 20 रिश्ते भी तय हुए हैं। इसलिए अब सादगी के साथ विवाह कराएंगे और उससे बचत राशि कोरोना आपदा में देना तय किया है। समाज के कई परिवार कमाने-खाने दूसरे राज्यों में लॉक डाउन में फंसकर रह गए हैं। उनकी वापसी के लिए भी पूरा जोर लगा रहे हैं।
अब शर्तों के दायरे में करेंगे आयोजन
सतनामी उत्थान एवं जागृति समिति के राजेंद्र पप्पू बंजारे बताते हैं कि उनके समाज में गांव-गांव मई और जून में ही विवाह अधिक होते हैं। समाज के लोगों को शर्तों के दायरे में रहकर ही विवाह करने की पहल वाट्सऐप ग्रुप के माध्यम से की गई है। परिचय सम्मेलन से तय जोड़ों का सामूहिक विवाह बहुत ही सादगी से कराने की योजना बना रहा है। इसी शर्त पर जिला प्रशासन से अनुमति मांगेंगे।
लॉकडाउन के कारण स्थगित किया था
हरदिया साहू समाज रायपुर परिक्षेत्र के अध्यक्ष नंदे साहू के अनुसार अप्रैल में होने वाला समारोह स्थगित कर दिया था। परिचय सम्मेलन से 200 से 300 रिश्ते तय हुए थे। सादगी के साथ निजी परिजनों की मौजूदगी में ही अब सामूहिक विवाह समारोह आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। लेकिन बर्तन, कपड़े की दुकानें नहीं खुलने के कारण दिक्कतें हैं।

Devendra sahu Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned