दुनिया में हर सेकंड बढ़ रही आबादी की तरफ लोगों को ध्यान ले जाने मना रहे विश्व जनसंख्या दिवस

- लगातार बढ़ रही आबादी अब दुनियाभर में एक गंभीर समस्या बनती जा रही है।
- दुनिया में हर 3 सेंकड़ में एक बच्चे का जन्म होता है।
- यह जनसंख्या दिवस 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की गवर्निंग काउंसिल द्वारा स्थापित किया गया था।

By: Akanksha Agrawal

Updated: 08 Jul 2019, 09:23 AM IST

आकांक्षा अग्रवाल@रायपुर. विश्व जनसंख्या दिवस (World population day) हर साल 11 जुलाई को मनाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण जागरूकता दिवस है। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य दुनियाभर में फैले जनसंख्या (Population) वृद्धि के मुद्दे और प्रजनन स्वास्थ्य के महत्व के बारे में लोगों तक जागरूकता फैलाना है।

हर साल संयुक्त राष्ट्र परिषद (United Nations Council) जनसंख्या वृद्धि के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए विश्व जनसंख्या दिवस के लिए थीम तैयार करती है। पर इस साल कोई विशेष थीम नहीं है, लेकिन यूएन काऊंसिल द्वारा जनसंख्या और विकास पर 1994 के अंतराष्ट्रीय सम्मेलन के कायम लक्ष्यों पर विश्व स्तर पर जोर देंगे, जहां 179 सरकारों ने माना कि सतत विकास को प्राप्त करने के लिए प्रजनन स्वास्थ्य और लैंगिक समानता आवश्यक है।

क्यों पड़ी विश्व जनसंख्या दिवस की आवश्यकता
यह जनसंख्या दिवस 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की गवर्निंग काउंसिल द्वारा स्थापित किया गया था। इस विशेष जागरूकता दिवस को मनाने की जागरूकता उस समय मिली जब दुनिया की आबादी 5 बिलियन तक पहुंच गई और यह जनसंख्या विस्फोट विश्वभर में एक गंभीर चिंता का विषय बन गई। इसलिए, बढ़ती जनसंख्या के मुद्दे को दूर करने और जनता में इसकी जागरूकता को बढ़ाने के लिए विश्व जनसंख्या दिवस की शुरूआत की गई।

विश्व जनसंख्या दिवस को लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। जहां लोगों को बढ़ रही आबादी के नुकसान, भविष्य में इससे होने वाले खतरें, परिवार नियोजन, लैंगिक समानता, स्वास्थ्य आदि के बारे में लोगों को जानकारी दी जाती है।

2018 में था परिवार नियोजन का थीम
साल 2018 में विश्व जनसंख्या दिवस पर परिवार नियोजन (family planning) का थीम रखा गया था। 1968 में मानव अधिकारों पर अंतराष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया गया था। जिसमें पहली बार परिवार नियोजन को मानव अधिकार होने की पुष्ठि की गई थी। विश्व स्तर पर लाखों महिलाओं को अभी भी सुरक्षित और प्रभावी परिवार नियोजन के तरीकों की पहुंच नहीं दी गई है। यही कारण है कि साल 2018 में परिवार नियोजन को विश्व जनसंख्या दिवस का थीम चुना गया था।

World population day से जुड़ी सभी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें यहां

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News

एक ही क्लिक में देखें Patrika की सारी खबरें

Show More
Akanksha Agrawal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned