ओडिशा में चक्रवात की वजह से छत्तीसगढ़ में मानसून हुआ सक्रिय, आज भी कई क्षेत्रों में यलो अलर्ट

ओडिशा में चक्रवात की वजह से छत्तीसगढ़ में मानसून हुआ सक्रिय, आज भी कई क्षेत्रों में यलो अलर्ट

Deepak Sahu | Publish: Aug, 12 2018 09:16:37 AM (IST) | Updated: Aug, 12 2018 11:19:02 AM (IST) Raipur, Chhattisgarh, India

दक्षिण छत्तीसगढ़ में अनेक स्थानों पर तथा उत्तरी छत्तीसगढ़ में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा या गरज-चमक के साथ बौछारें पडऩे की अति संभावना

रायपुर. दक्षिणी ओडिशा और उत्तरी आंध्रप्रदेश के तटवर्ती क्षेत्र पर समुद्रतल से 3.1 से 5.8 किमी ऊंचाई के बीच ऊपरी वायु में चक्रवाती घेरा बनने से प्रदेश के सभी जिलों में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो रही है, तो एक-दो स्थानों भारी बारिश। शनिवार को राजधानी में सुबह से लेकर देर रात तक रिमझिम बारिश होती रही।

आज सुबह से ही रायपुर में बादल छाए हुए है। और रूक रूककर तेज तो धीमी बारिश हो रही है। जिसे देखकर मौसम विभाग ने छत्तीसगढ़ के कुछ क्षेत्रों में यलो अलर्ट जारी किया है। आज रायपुर में तेज से धीमी बारिश की संभावना जताई गई है।

दिन में एक-दो पर मध्यम बारिश होने के बाद कुछ मिनट के लिए धूप भी निकली थी। बाद में फिर से काले बादल छा गए और दिनभर कभी तेज बौछारें तो कभी रिमझिम बारिश होती रही। राजधानी में मौसम विभाग ने 9.5 मिमी बारिश दर्ज की है। जबकि प्रदेश में सबसे अधिक बारिश अंबिकापुर में 120 मिमी बारिश दर्ज की गई। इसक बाद उसूर में 100 मिमी और कोटा में 90 तो पलारी में 80 मिमी बारिश दर्ज की गई। इसके बाद सूरजपुर में 40 मिमी, मुंगेली, राजपुर, बीजापुर में 30-30 मिमी, डोंगरगढ़, प्रेमनगर, देवभोग, में २०-२० मिमी तथा अनेक स्थानों पर १०-१० मिमी बारिश दर्ज की गई है।

दक्षिणी ओडिशा व आंध्रप्रदेश के तटीय क्षेत्र में चक्रवात
मौसम विभाग के अनुसार दक्षिण छत्तीसगढ़ में अनेक स्थानों पर तथा उत्तरी छत्तीसगढ़ में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा या गरज-चमक के साथ बौछारें पडऩे की अति संभावना। प्रदेश में कहीं-कहीं भारी बारिश होने की संभावना है। इस तरह का मौसम आगामी दो दिनों तक रहेगा। राजधानी में वर्षा की एक-दो बौछारें पडऩे की अति संभावना है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार दक्षिणी ओडिशा और उत्तरी आंध्र प्रदेश के तटवर्ती क्षेत्र पर समुद्र तल से 3.1 से 5.8 किमी ऊंचाई के बीच एक ऊपरी वायु चक्रवाती घेरा बना है। जो ऊंचाई के साथ दक्षिण की ओर झुका है। इसी वजह से प्रदेश में कहीं-कहीं भारी बारिश की अति संभावना बनी हुई। इसलिए प्रदेश में यलो अलर्ट जारी किया है।

Ad Block is Banned