scriptAlong with ignoring the Betwa, forget the tributaries too | Dying Rivers of MP- बेतवा की सहायक नदियां भी हुई बर्बाद | Patrika News

Dying Rivers of MP- बेतवा की सहायक नदियां भी हुई बर्बाद

बेतवा की अनदेखी के साथ सहायक नदियों को भी भूले

रायसेन

Published: May 28, 2022 10:46:17 am

रायसेन । Raisen

मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड सहित अन्य प्रदेशों की समृद्धि का साधन बनने जा रही बेतवा आप के ही जिले में बदहाल है। उसका कारण जिम्मेदारों की घोर अनदेखी है। केवल बेतवा की ही अनदेखी नहीं, बल्कि बेतवा की सहायक नदियों की भी उतनी ही अनदेखी की गई है, जिससे बेतवा की जल राशि में वृद्धि ये नदियां सहयोग नहीं कर पा रही हैं। नतीजा बेतवा की बदहाली के रूप में सामने आया है।

raisen_river_1.jpg

केवल बारिश के दिनों में ही बेतवा और उसकी सहायक नदियां पानी से भरपूर होती हैं। तब ये नदियां बेतवा के साथ मिलकर बाढ़ के रूप में विकराल होकर अपनी ताकत का अहसास कराती हैं। यह संदेश भी देती हैं कि इस बहते पानी को रोक लो, थाम लो, लेकिन जिम्मेदारों ने यह भी नहीं समझा।

न तो बेतवा पर कोई उपयोगी स्टॉप डेम बनाया और न ही सहायक नदियों में भरने वाले बारिश के पानी को रोकने के कोई इंतजाम किए। नतीजा हमारे सामने है। बेतवा के साथ सहायक नदियों में एक बूंद पानी नहीं है।

किसी योजना में शामिल नहीं
सरकार हर साल जल स्रोतों के उद्धार की योजना बनाती है, लेकिन बड़ी नदियों, नलों को किसी योजना में शामिल नहीं किया जाता है। तालाबों के नाम पर हर साल करोड़ों की योजनाएं बनती हैं, लेकिन नदियों के लिए कोई योजना नहीं है। जिला स्तर पर भी न तो जनप्रतिनिधि न अधिकारी नदियों के उद्धार की चिंता करते हैं।

इन नदियों को भी किया बर्बाद
सबकुछ जानते हुए भी शासन और प्रशासन की अनदेखी ने बेतवा की सहायक नदियों के साथ, नर्मदा की सहायक नदियों सहित अन्य नदियों को भी दम तोड़ने के लिए मजबूर कर दिया है। सिलवानी की बेगम नदी, बेगमगंज की बीना नदी, सुल्तानपुर की पलकमती नदी, बरेली की तेंदोनी नदी भी इनमें शामिल हैं।

अजलान और घिंसु नदी भी बर्बाद
बेतवा की सहायक नदियों में प्रमुख अजनाल और घिंसु नदी हैं। जो औबेदुल्लागंज क्षेत्र के जंगल से निकली हैं। इन नदियों में आज एक बूंद पानी नहीं है। इसका प्रमुख कारण इन नदियों की कभी सफाई और गहरीकरण की योजना नहीं बनी। कभी इन नदियों से एक तगाड़ी मिट्टी बाहर नहीं निकाली गई, बल्कि जितना हो सका कचरा और गंदगी इन नदियों में डाली है। लगभग 50 किमी लंबी अजनाल नदी शुरू से अंत तक बर्बाद है।

हालात ये हैं कि नदी में किसानों के लिए दाहोद डेम से पानी भरा गया था वो भी सूख चुका है। जानवरों के लिए भी पानी नहीं बचा है। गड्ढों में भरा पानी भी दूषित होकर सूख गया है। यही हाल घिंसु नदी का है। बेतवा में मिलने वाला कोड़ी नाला बारिश के तुरंत बाद सूख जाता है। जबकि बारिश में यही नाला रायसेन से सांची रोड पर कई बार आवागमन बंद करता था। इसीलिए इस नाले पर ऊंचा पुल बनाया गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Mukhtar Abbas Naqvi ने मोदी कैबिनेट से दिया इस्तीफा, बनेंगे देश के नए उपराष्ट्रपति?काली पोस्टर विवाद में घिरीं महुआ मोइत्रा के समर्थन में आए थरूर, कहा- 'हर हिन्दू जानता है देवी के बारे में'यूपी को बड़ी सौगात, काशी को 1800 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात देंगे पीएम Modi, बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का करेंगे लोकार्पणDelhi Shopping Festival: सीएम अरविंद केजरीवाल का बड़ा ऐलान, रोजगार और व्यापार को लेकर अगले साल होगा महोत्सवशिखर धवन बने टीम इंडिया के नए कप्तान, वेस्टइंडीज दौरे के लिए भारतीय टीम का हुआ ऐलानकौन हैं डॉ. गुरप्रीत कौर, जो बनने जा रही हैं भगवंत मान की दुल्हनिया? सामने आई तस्वीरसलमान के वकील को लॉरेंस गुर्गों की धमकी, मूसेवाला हाल करेंगेDGCA का SpiceJet को कारण बताओ नोटिस, 18 दिनों में 8 बार आई प्लेन में खराबी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.