खतरनाक साबित हो रहे मनमाने ब्रेकर

अमानक स्तर के ब्रेकर अकसर दुर्घटना का कारण भी बन रहे हैं

रायसेन. सड़क सुरक्षा को लेकर प्रशासन और पुलिस की चिंता के साथ आम नागरिक भी अपनी ओर से प्रयास कर रहे हैं। मगर लोगों के अपने प्रयास नियमों के विपरीत तो हैं ही आमजन के लिए भी परेशानी पैदा करने वाले हैं। जी हां, शहर में कुछ कॉलोनियों में दुपहिया, चार पहिया वाहनों की गति पर अंकुश लगाने लोगों ने खुद अपने घरों के सामने स्पीड ब्रेकर बना लिए हैं या सड़क निर्माण के दौरान ठेकेदार से बनवा लिए हैं। इससे वाहनों की गति पर तो लगाम लगती है, लेकिन अमानक स्तर के ब्रेकर अकसर दुर्घटना का कारण भी बन रहे हैं। शहर में गलियों में बने ब्रेकर पर नगर पालिका ने कभी कोई आपत्ति नहीं उठाई न ही ठेकेदार को ऐसे ब्रेकर बनाने के लिए मना किया। लिहाजा कुछ जगह तो हर २० फीट पर एक ब्रेकर बना दिखाई देता है। इसके विपरीत जहां जरूरी है, वहां ब्रेकर बनाने की कोई पहले अब तक नहीं की गई है।

शहर की कॉलोनियों में जगह-जगह बने ब्रेकर
मुखर्जी नगर, यशवंत नगर, शिवोम नगर, अर्जुन नगर आदि कॉलोनियों में हर दस, बीस फीट पर बने ब्रेकर कई बार सुरक्षा की जगह दुर्घटना का कारण बनते हैं। ब्रेकर बनाने के पीछे लोगों का तर्क है कि वाहन चालक तेज गति से अपने वाहन दौड़ाते निकलते हैं, जिससे घटना का डर रहता है। हालांकि यह तर्क उचित है, लेकिन ब्रेकर बनाने के लिए विशेषज्ञ की मदद नहीं लेने के कारण इनकी ऊंचाई मापदंडों से अधिक है। कई जगह नुकीले ब्रेकर बना दिए हैं, जो खतरनाक हैं।

यहां बनाए रंबल स्ट्रिप ब्रेकर
पीडब्ल्यूडी ने दरगाह के पास दोनों ओर तीन-तीन रंबल स्ट्रिप ब्रेकर बनाए हैं। जिनकी ऊंचाई तीन इंच रखी गई है। हालांंकि यह नियम के अनुसार है, लेकिन चार पहिया वाहनों के लिए यह अधिक है। इन पर गुजरते हुए वाहन की गति को बहुत कम करना पड़ता है, जिससे कई बार वाहन बंद हो जाते हैं, जिससे पीछे से आ रहे वाहन से टकराने का डर बना रहता है। वाहन चालकों का कहना है कि ये कुछ और नीचे होना चाहिए थे।
यहां जरूरी हैं ब्रेकर
शहर में कुछ स्थान ऐसे हैं जहां स्पीड ब्रेकर या रिंबल स्ट्रिप ब्रेकर की जरूरत है, लेकिन वहां अभी तक इसका निर्माण नहीं किया गया है।

सांची रोड पर कॉन्वेंट स्कूल के पास तथा सागर रोड पर गल्र्स हायर सेकंडरी स्कूल के सामने वाहनों की गति पर लगाम लगाना जरूरी है। यहां बच्चे स्कूल आते जाते समय सड़क पर आते हैं, इसी दौरान तेज रफ्तार से वाहन गुजरते हैं।
प्रशासन के निर्देश पर दरगाह के पास रिंंबल स्टिक बनाए गए हैं। जो मानक स्तर के हैं।
-किशन वर्मा, ईई पीडब्ल्यूडी
स्पीड ब्रेकर मापदंडों के अनुरूप बनाना उचित है। लगातार ब्रेकर वाहन चालक के लिए नुकसानदायक होते हैं। इससे उनकी रीढ़ की हड्डी पर असर पड़ता है। अचानक वाहन के उछलने से गरदन की हड्डी और कमर की हड्डी पर जर्क आ सकता है।
-डॉ. अखिल बंसल, हड्डी रोग विशेषज्ञ

Show More
chandan singh rajput
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned