पहले भाई को फोन किया फिर जहर खाकर दोनों ने दी जान

घर से भागे चचेरे भाई-बहन ने खेत में जहरीला पदार्थ खाकर अपनी जीवन यात्रा समाप्त कर ली।

By: brajesh tiwari

Published: 10 Feb 2018, 11:16 AM IST

रायसेन। जिले के सलामतपुर में समीपस्थ ग्राम गाडऱखेड़ी में शुक्रवार को घर से भागे चचेरे भाई-बहन ने खेत में जहरीला पदार्थ खाकर अपनी जीवन यात्रा समाप्त कर ली।

इस संबंध में थाना प्रभारी देवेन्द्र पाल सिंह ने घटना की जानकारी देेते हुए बताया कि धीरज सिंह आदिवासी का 23 वर्षीय पुत्र सुरेश गाडऱखेड़ी में ही ईंट भट्टे पर काम करता था। गत मंगलवार को सुरेश घर से यह कहकर निकला कि वह अपनी रिश्तेदार उम्र 20 वर्ष को बाइक से भरतीपुर ईंट भट्टे पर छोडऩे जा रहा है। इसके बाद न तो सुरेश भट्टे पर पहुंचा और न ही भारती।

दोनों के अचानक इस तरह घर से गायब होने के बाद सुरेश और भारती के परिजनों ने अपने स्तर पर दोनों को तलाशने का प्रयास किया, लेकिन उनका कोई सुराग नहीं लगा।

जहर पीने से पहले भाई को किया फोन
घर से गायब हुए सुरेश ने शुक्रवार की सुबह अपने भाई विश्वनाथ को फोन कर कहा कि वह और भारती गाडऱखेड़ी में विनय बाबा के खेत में चबूतरे पर बैठे हैं। सूचना मिलने पर विश्वनाथ जब मौके पर पहुंचा, तो वहां बाइक खड़ी थी, जबकि सुरेश और भारती अद्र्ध बेहोशी की हालत में उल्टियां कर रहे थे।

यह नजारा देख विश्वनाथ ने तुरंत परिजनों को सूचना दी। इसके बाद वहां भारती और सुरेश के परिजन गांव वालों के साथ पहुंच गए। बताया जाता है कि सुरेश और भारती ने फोन करने के बाद ही जहरीला पदार्थ पी लिया था।

इधर, खुद पर डाला केरोसिन, जान देने की कोशिश,80 फीसदी जली
थाना कोतवाली रायसेन के तहत शुक्रवार को दोपहर मढ़ईपुरा मोहल्ला में कुशवाहा समाज के पति पत्नी के बीच हुए पारिवारिक विवाद के बाद महिला ने खुद को कमरे में बंद कर केरोसिन उड़ेलकर आग लगा ली। परिजनों को रोते बिलखते तीनों बच्चों ने बताया तब घर का दरवाजा तोड़कर आग में झुलस रही महिला को उसके पति ने बचाने की कोशिश की, लेकिन फिर भी वह महिला लगभग अस्सी फीसदी जल गई। इलाज के लिए उसका पति, जेठ जिला अस्पताल लेकर पहुंचे।

जहां डॉ. अंकुर छारी की मौजूदगी में उसका प्राथमिक उपचार कर हालत गंभीर होने की बजह से तत्काल उसे भोपाल रेफर कर दिया गया है। कोतवाली पुलिस इस मामले की विवेचना कर रही है। टीआई आलोक श्रीवास्तव ने बताया कि वनविभाग में चपरासी के पद पर कार्यरत बालकिशन कुशवाहा और पत्नी ३२ वर्षीय पत्नी आरती कुशवाहा के बीच कहासुनी हो गई। जब पति बालकिशन घर के बाहर चला गया।

तब गुस्साई पत्नी आरती कुशवाहा ने घर के कमरे का अंदर का दरवाजा बंद कर लिया। इसके बाद केरोसिन से भरी कुप्पी उड़ेल कर आग लगा ली। उसकी चीख सुनकर जेठ चतर सिंह व पति बालकिशन कुशवाहा दरवाजे तोड़कर घर में घुसे। जहां आग की लपटों से घिरी आरती कुशवाहा की जान बचाने के प्रयास में उसके पति बालकिशन के दोनों हाथ बुरी तरह से झुलस गए है।

आरती की बड़ी बेटी अंजलि कक्षा 10वीं में पढ़ती है। जिस समय यह घटना हुई वह बगल के कमरे में अपनी पढ़ाई कर रही थी। टीआई ने बताया कि बालकिशन शराब पीने का आदी था, इसी बजह से उनके बीच विवाद होता रहता था।

brajesh tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned