scriptCattle are harvesting crops, traffic also disrupted | फसल चट कर रहे मवेशी, यातायात भी बाधित | Patrika News

फसल चट कर रहे मवेशी, यातायात भी बाधित

मवेशी खेतों में घुसकर गेहूं, चना की फ सल को बर्बाद कर किसानों को नुकसान पहुंचा रहे हैं।

रायसेन

Updated: December 06, 2021 11:56:45 pm

बेगमगंज. शहर और गांवों के लिए आवारा पशु दोहरी परेशानी का कारण बन रहे। खेतों में उग आई गेहूं व चना की फ सल को आवारा मवेशी चट कर रहे हैं। जब किसान उन्हें खेतों से भगा रहे हैं, तो शहर में सड़क पर बैठ जाते हैं। इस वजह से हादसे हो रहे और यातायात भी प्रभावित होता है। ऐसे में किसी दिन बड़ा हादसा हो सकता है। वहीं जिम्मेदार अधिकारी इस तरफ ध्यान नहीं दे रहे हैं। दरअसल कई पशु पालक अपने मवेशियों को खुला छोड़ देते हैं। यही मवेशी खेतों में घुसकर गेहूं, चना की फ सल को बर्बाद कर किसानों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। इसके कारण किसानों व पशु पालकों के बीच गांवों में विवाद की स्थिति बन रही है।

मवेशी खेतों में घुसकर गेहूं, चना की फ सल को बर्बाद कर किसानों को नुकसान पहुंचा रहे हैं।
फसल चट कर रहे मवेशी, यातायात भी बाधित

हाइवे पर रहते हैं मवेशी
शहर से निकले सागर-भोपाल स्टेट हाइवे पर जगह-जगह आवारा पशु जमा रहते हैं। सड़क के दोनों तरफ भी पशुओं का डेरा दिखाई देता है। हाइवे पर रात के समय इनकी वजह से किसी भी दिन कोई बड़ा हादसा हो सकता है, जबकि छुटपुट दुर्घटनाएं कई बार हो चुकी हैं, लेकिन प्रशासनिक अधिकारी कोई ठोस कदम नहीं उठाते। इसका खामियाजा लोगों को उठाना पड़ता है। शहर के दशहरा मैदान से लेकर नया बस स्टैंड, पुराना बस स्टैंड, सागर रोड, गांधी बाजार, मरकज मस्जिद रोड पर आवारा पशु नजर आते हैं।

टैग से लग सकती है जानकारी
पशु विभाग ने मवेशियों की गणना कर उनके कान पर टैग लगा दिया है। इससे मवेशियों और उसके पालक की पहचान हो सकती है। नगर पालिका द्वारा अभियान चलाकर आवारा मवेशियों को गोशाला में बंद किया जा सकता है। टैग के आधार पर मवेशी पालक की पहचान कर जुर्माने की कार्रवाई हो सकती है। मगर जिम्मेदार अधिकारी कार्रवाई से परहेज कर रहे हैं।
किसानों ने बताया: किसान संजय गौर ने बताया कि एक ओर तो हजारों रुपए क्विंटल का चना व गेहंू का बीज लेकर बोवनी की है। अब खेतों में पशु पहुंचकर फसल नष्ट कर रहे हैं। इसके अलावा जंगली सूअर भी फ सलों को चट कर रहे हैं। इसी तरह की स्थिति किसान भगवान सिंह ने बताई। उन्होंने कहा कि दिन-रात खेत में पशुओं की धमाचौकड़ी लगी रहती है। उन्हें बार-बार खेत से बाहर करके परेशान होना पड़ रहा है। जबकि जिम्मेदार अधिकारी समस्या के निराकरण को लेकर गंभीर नहीं है।

आवारा पशु फसलों को चटकर, किसानों की मेहनत कर रहे बर्बाद
सिलवानी. क्षेत्र में आवारा पशुओं से किसान खासे परेशान हो रहे हैं। हाल ये है कि आवारा पशुओं के झुंड खेतों में घुसकर किसानों की फसलों को आएदिन नष्ट कर रहे हैं। ऐसे में किसान अपनी फसलों को बचाने के लिए दिन-रात फसलों की रखवाली करने को मजबूर हैं। बावजूद इसके इन आवारा पशुओं की धमाचौकड़ी खेतों में लगी रहती है। किसान रामस्वरुप आदिवासी कहते हैं कि रात को खेतों में अवारा पशुओं के झुंड आ जाते हैं। फ सलों को चरकर व पैरों से रौंदकर चले जाते हैं। सुरक्षा के लिए खेत के चारों ओर तारों की बाड़ लगा रखी है, मगर पशु बाड़ को लांघकर खेतों में घुस रहे हैं। जब तक खेत में लोग पहुंचते हैं, तब तक पशुओं के झुंड फ सलों को नष्ट कर देते हैं। किसान केदार सिंह ने बताया कि अगर इन आवारा पशुओं की समस्या का कोई स्थायी समाधान नहीं निकाला गया तो किसान फसल नहीं बचा पाएंगे। चंदन यादव का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में खेतों में आवारा पशुओं का जमघट किसानों के लिए चुनौती बन रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Punjab Election 2022: गठबंधन के तहत BJP 65 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, जानिए कैप्टन की PLC और ढींढसा को क्या मिलाराष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के विजेताओं से पीएम मोदी ने किया संवाद, 'वोकल फॉर लोकल' के लिए मांगी बच्चों की मददब्रेंडन टेलर का खुलासा, इंडियन बिजनेसमैन ने किया ब्लैकमेल; लेनी पड़ी ड्रग्ससंसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितकर्नाटक में कोविड के 50 हजार नए मामले आने के बाद भी सरकार ने हटाया वीकेंड कर्फ्यू, जानिए क्या बोले सीएमकोरोना से ठीक होने के बाद ऐसे रखें अपने सेहत है ख्यालUP election 2022 - सपा ने जारी की विधानसभा प्रत्याशियों की सूचीएनएफएसयू का साइबर डिफेंस सेंटर अब आईएसओ-आईसी प्रमाणित, बनी देश की पहली लैब
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.